भारत में वैदिक काल से प्रचलित सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार माथे की रेखाओं के आधार पर किसी इंसान के भूत, भविष्य और वर्तमान व स्वभाव की जानकारी प्राप्त हो सकती है. इसके लिए किसी भी व्यक्ति के माथे की स्थिति, आकार-प्रकार, रंग तथा चिकनाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए. 

 सामुद्रिक शास्त्र में मस्तक के 3 प्रकार बताए गए हैं-

उन्नत मस्तक- ऐसा मस्तक सामान्य से थोड़ा उठा हुआ और चिकना होता है, इस पर रेखाएं स्पष्ट नजर आती हैं.

सामान्य मस्तक- ऐसा मस्तक चेहरे के अनुरूप होता है, इस पर रेखाएं आसानी से नज़र आती है.

निम्न मस्तक- ये सामान्य से थोड़ा अंदर की ओर धंसा रहता है, हल्का सा काला होने के कारण इस पर रेखाएं साफ नज़र नही आती.

मस्तक की रेखाएं व उनसे होने वाले प्रभाव:

शनि रेखा 

यह रेखा मस्तकमें सबसे ऊपर वाले स्थान पर स्थित है, यह अधिक लंबी नहीं होती, केवल मस्तक के मध्य भाग में ही दिखाई देती है. इस रेखा के आस-पास का भाग शनि ग्रह से प्रभावित माना जाता है. जिस व्यक्ति के मस्तक पर यह रेखा स्पष्ट दिखाई देती है, इसका मतलब यह है की वह व्यक्ति गंभीर स्वभाव का है. यदि एक उन्नत मस्तक यानि थोड़ा उठा हुआ मस्तक पर शनि रेखा हो तो ऐसे लोग रहस्यमयी, गंभीर व थोड़े अंहकारी होते है. इनके जानकारी बहुत कम लोगों के पास होती है, ये सफल जादूगर या तांत्रिक हो  सकते है.   

गुरु रेखा 

शनि रेखा से थोड़ी नीचे ही गुरु रेखा का मस्तक पर स्थान होता है, यह रेखा शनि रेखा की तुलना में थोड़ी लंबी होती है. पढ़ाई, विचार, इतिहास संबंधी रुचि एवं महत्वाकांक्षा आदि की सूचक गुरु रेखा होती है. जिस व्यक्ति के मस्तक पर यह रेखा लंबी एवं स्पष्ट दिखाई देती है, वे लोग सरकारी नौकरी या शिक्षा के क्षेत्र में अपना नाम कमाते है. वह आत्मविश्वासी व अपनी बात के पक्के होते है, ऐसे लोगों पर आंख बंद कर विश्वास किया जा सकता है.

बुध रेखा 

बुध रेखा लगभग मस्तक के बीच में होती है, यह रेखा लंबी होती है और कभी-कभी तो व्यक्ति की दोनों कनपटियों के किनारों को स्पर्श करती है. बुध रेखा व्यक्ति की याददाश्त, अन्य विषयों में उसका ज्ञान, सूझ-बूझ एवं ईमानदारी की सूचक होती है. यदि यह रेखा शुभ गुणों से युक्त हो तो ऐसा व्यक्ति तेज याददाश्त वाला, सही-गलत की सोच रखने वाला, उच्च मानसिक क्षमता वाला होता है. ऐसे लोगों में किसी भी इंसान को परखने की क्षमता अधिक होती है.

शुक्र रेखा 

इस रेखा का स्थान बुध रेखा के ठीक नीचे मध्य भाग मेंहोता है, इस रेखा का आकार छोटा होता है. यह रेखा उत्तम स्वास्थ्य, भ्रमण प्रवृत्ति, आकर्षक एवं सम्मोहक व्यक्तित्व की सूचक होती है. उन्नत मस्तक पर यदि यह रेखा स्पष्ट रूप से दिखाई दे तो ऐसे व्यक्ति उच्च जीवन शक्ति से युक्त, घूमने-फिरने वाले, सौंदर्य प्रेमी एवं जरूरी मुद्दों पर गंभीर होने वाले होते है. ऐसे लोग स्वच्छ, साफ तथा सफेद रंग अधिक पसंद करते हैं.

बुध रेखा 

यह रेखा मनुष्य की दाईं आंख की भौंह केऊपर होती है, और अधिक लंबी नहीं होती, सिर्फ आंख के ऊपर सीमित रहती है. यह रेखा प्रतिभा, सफलता, यश तथा समृद्धि की प्रतीक होती है. यदि यह रेखा शुभ गुणों से युक्त हो तो ऐसे व्यक्ति में अद्भुत सूझबूझ होती है और वे अनुशासन में रहना पसंद करते हैं. शास्त्र के अनुसार ये लोग अच्छे गणितज्ञ, शासक या नेता हो सकते हैं और अपने सिद्धांतों तथा व्यवहार से लोगों को बहुत जल्दी प्रभावित कर लेते है. 

चंद्र रेखा 

यह रेखा बांई आंख की भौंह के ऊपरहोती है, यदि यह रेखा सरल, सीधी व स्पष्ट हो तो ऐसा व्यक्ति कलाप्रेमी, विकसित बुद्धि वाला तथा कल्पनाशील होता है. इनकी रुचि चित्रकला, गायन, संगीत आदि क्षेत्रों में होती है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।