पलपल संवाददाता, जबलपुर. किसी प्राकृतिक आपदा या अन्य विषम परिस्थितियों में पुलिस-प्रशासन, एनडीआरएफ व अन्य एजेंसियां तो सक्रिय होती ही हैं, लेकिन आम जनता भी इन एजेंसियों के पहुंंचे से पहले किस तरह बचाव कार्य करके जान-माल को बचा सकती हैं, इसके लिए एनडीआरएफ की टीम ने आज शुक्रवार 12 अप्रेल को जबलपुर में आपरेशन सामथ्र्य चलाया. इस ऑपरेशन के माध्यम से आम लोगों को बचाव के तरीके बताये गये. एनडीआरएफ के समदडिय़ा मॉल में किये गये हैरतअंगेज बचाव कार्य को देखकर लोग अचंभित रहे. इस दौरान भूकंप, गैस रिसाव, आग लगने, रोड दुर्घटना के समय किस प्रकार बचाव किया जाता है, इसका प्रदर्शन किया गया.

एनडीआरएफ के महानिदेशक सत्यनारायण प्रधान के दिशा निर्देशन पर देश के विभिन्न शहरों में मॉक अभ्यास के क्रम में शुक्रवार को मल्टी हज़ार्ड्स आपदाओं के दौरान राहत और बचाव कार्यों की सटीक तैयारी के लिए एनडीआरएफ ने विभिन्न हितधारकों के साथ एक मेगा मॉक अभ्यास का आयोजन जबलपुर के समदडिय़ा मॉल में किया, जिसमें जिला प्रशासन, पुलिस, एस.डी.आर.एफ, होमगार्ड, सिविल डिफेन्स, नगर निगम, एनसीसी, एनएसएस स्काउट एंड गाइड, एनवाईके, अग्निशमन, आई.टी.बी.पी.,समदडिय़ा मॉल स्टाफ और एनडीआरएफ की रेस्क्यू टीमों ने भाग लिया.

जीवंत प्रदर्शन, खतरे का अलार्म बजा

इस मॉक अभ्यास में आपसी सामंजस्य के साथ मल्टीप्ल हज़ार्ड्स के दृश्यों पर खोज एवं बचाव का कार्य किया गया, जब आपातकालीन अलार्म बजा तो लोगो की समझ में यही आया कि यहाँ वास्तव में कोई बड़ा भूकम्प आया है, अलार्म के बाद होमगार्ड और स्थानीय हितधारकों के साथ समदडिय़ा मॉल की रेस्क्यू टीम ने, उचित तरीकों से जमीन पर पड़े पीडि़तों का रेस्क्यू किया और मेडिकल बेस तक पहुचाया, उसके बाद विशेषज्ञ रेस्क्यू टीम के तौर पर एस.डी.आर.एफ और एन.डी.आर.एफ को बचाव कार्य के लिए बुलाया गया. इन रेस्क्यू टीमों ने सबसे पहले घटना स्थल को सुरक्षित करते हुए रेस्क्यू ऑपरेशन को शुरू कर अपने ऑपरेशन बेस को स्थापित किया. सर्च करने के बाद पाया गया कि कई विक्टिम मलबे में गम्भीर रूप से दबे पड़े हैं, तत्काल एन.डी.आर.एफ की सीएसएसआर टीम ने कुशलता दिखाते हुए अपने कटिंग उपकरणों से मलबे को काटते हुए विक्टिम को निकालकर चिकित्सीय सहायता पहुंचायी, जिससे वहाँ उपस्थित जनता इन दृश्यों को देखकर हैरान थी.

भगदड़ से हुआ सड़क एक्सीडेंट, बताया कैसे करें बचाव

अभी बचाव कार्य चल ही रहा था कि समदडिय़ा मॉल के बाहर भगदड़ के कारण एक रोड एक्सीडेंट हो गया, जिसमें कई लोग जख्मी थे. एनडीआरएफ ने विशेषग्यता दिखाते हुए सबसे पहले गंभीर रूप से जख्मी व्यक्तियों को चिकित्सिय सहायता दी और कार्डियक अरेस्ट होने पर सीपीआर का उचित तरीके से प्राथमिक उपचार उपलब्ध कराया तथा रोड एक्सीडेंट के बारे में जानकारियां दी. तभी दुबारा भूकम्प के झटके महसूस किए गए और मॉल के कूलिंग सिस्टम से हानिकारक गैस का रिसाव होने लगा. एन.डी.आर.एफ. की सीबीआरएन टीम ने तत्काल मोर्चा सम्भाला और रिसाव को बंद करते हुए सभी प्रभावितों को सुरक्षित बाहर निकालकर उचित चिकित्सा दी. इसी दौरान मॉल की चौथी मंजिल पर आग लग गई थी, जिसे मॉल की फायर रेस्क्यू टीम और जबलपुर अग्निशमन विभाग ने आग पर काबू किया. मॉल परिसर में उपस्थित जनसमूह इस संयुक्त माँक एक्सरसाइज के हैरतअंगेज प्रदर्शनों को देखकर दंग रह गए और उन्हें सम्मान देते हुए तालियों की गडगडाहट से हौसला बढ़ाया और एक स्वर में कहा कि इस तरह का अभ्यास निश्चित ही आपदा प्रतिरोधक समाज के निर्माण में सहायक होगी.

एनडीआरएफ ने लगाई आधुनिक बचाव उपकरणों की प्रदर्शनी

इसके पश्चात फाइनल सर्च और डी-ब्रीफिंग के साथ मॉक अभ्यास को समाप्त घोषित किया गया. एन.डी.आर.एफ ने खोज एवं बचाव में प्रयुक्त होने वाले अति आधुनिक उपकरणों की एक प्रदर्शनी भी लगायी थी. इस मॉक अभ्यास में मुख्य अतिथि महान भारत सागर, महानिदेशक होमगार्ड भारतीय एवं नागरिक सुरक्षा, राजेश चावला अतिरिक्त महानिदेशक होमगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा, विवेक शर्मा, पुलिस महानिरीक्षक मध्य प्रदेश, विशद तिवारी डीआईजी होमगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा, रोहिताश पाठक डिवीजनल कमांडेंट, देवेन्द्र डिप्टी कमान्डेंट 11 एनडीआरएफ ने लगाई आधुनिक बचाव उपकरणों की प्रदर्शनी, स्वराज कमल असिस्टेंट कमान्डेंट, समदडिय़ा मॉल के चेयरमैन शीतल समदडिय़ा और डायरेक्टर प्रदीप चौकसे व जनरल मैनेजर सिद्धार्थ खरे, सिविल डिफेंस, स्काउट एंड गाइड, एनवाईके, एनएसएस के पदाधिकारीयों के साथ-साथ सैकड़ां लोग उपस्थित थे.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।