निर्देशक अश्विन कुमार नो फादर्स इन कश्मीर के जरिए  घाटी में गायब या आर्मी द्वारा घर से उठा लिए गए लोगों की दास्तान को दिल छूने वाले अंदाज में बयान कर ले जाते हैं. आश्विन कुमार की स्टोरी टेलिंग में यह ईमानदारी इसलिए भी झलकती है कि कश्मीर से ताल्लुक रखनेवाले आश्विन ने इस विषय पर गहन रिसर्च की.

कलाकार- जारा वेब, शिवम रैना,अश्विन कुमार, कुलभूषण खरबंदा, माया सराओ, सोनी राजदान, अंशुमान झा, नताशा मागो

निर्देशक- अश्विन कुमार

मूवी टाइपरियलिस्टिक- ड्रामा

अवधि- 1 घंटा 50 मिनट

कहानी- नो फादर्स इन कश्मीर नूर (ज़ारा वेब) की कहानी पर फोकस्ड है, जो एक किशोरी है जिसकी परवरिश लंदन में हुई है और जो अपने दादा-दादी (कुलभूषण खरबंदा और सोनी राजदान) से मिलने के लिए घाटी में वापस आती है. नूर के पिता को भी सेना ने उठाया है और वह कई वर्षों से लापता है. अब उसकी मां दूसरे आदमी से शादी करने के लिए तैयार है, जो जाहिर तौर पर एक शक्तिशाली आदमी है, दादा-दादी को अभी भी अपने बेटे की वापसी की उम्मीद है. नूर उसका हमउम्र माजिद (शिवम रैना), जिसके पिता भी लापता हो चुके हैं, के साथ जुड़ जाता है. वे इन गायब लोगों के बारे में सच्चाई का पता लगाने की कोशिश करते हैं.

वे धीरे-धीरे एक-दूसरे के प्यार में पड़ने लगते हैं. माजिद नूर के कारनामों का हिस्सा बनने के लिए तैयार नहीं है और उसका डर तब सच्चाई में बदल जाता है, जब उसे सेना के जवान पकड़ लेते है, जबकि नूर एनआरआई होने के कारण बच निकलती है.

डेब्यू एक्टर्स ज़ारा वेब और शिवम रैना ने शानदार काम किया है. कुलभूषण खरबंदा और सोनी राजदान भी अद्भुत हैं. केवल खरबंदा अपने अंग्रेजी संवादों के साथ बहुत सहज नहीं थे. अंशुमान झा, नताशा मागो और अश्विन कुमार जैसे अन्य कलाकार महत्वपूर्ण भूमिका में हैं, जो अच्छा समर्थन देते हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।