नवरात्रि के पावन पर हम सभी छोटी-छोटी बातों पर खास ध्यान देते हैं, ताकि हमारी एक भी गलती मां दुर्गा को नाराज़ ना कर दें और हमारी पूजा अधूरी ना रह जाए. जैसा कि हम सभी जानते हैं कि नवरात्रि के पूरे नौ दिनों तक देवी के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा धूमधाम के साथ की जाती है.

नवरात्रि पर माता दुर्गा को प्रसन्न करने का एक अचूक उपाय बताने जा रहा है और वह है वास्तु से जुड़ी, आइए जानें ऐसी कुछ बातों के बारे में जिनका ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है – 

• वास्तु की बात करें तो नवरात्रि शुरू होने से पहले ही आप अपने घर और पूजा स्थल की साफ-सफाई का विशेष ध्यान ज़रूर दें. वहीं, नवरात्रि पर हर दिन घर के मुख्य दरवाजे पर हल्दी और चूने से स्वस्तिक का निशान भी बनाएं. बता दें कि स्वस्तिक बनाने पर घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश आसानी से नहीं हो पाता है.

• बता दें कि ज्योतिष में ईशान कोण की दिशा में देवी-देवताओं का वास माना जाता है, इसलिए नवरात्रि में माता की प्रतिमा, चौकी और कलश की स्थापना इसी दिशा में करना बहुत शुभ माना जाता है. ध्यान रहें कि इस दिशा में सबसे ज्यादा सकारात्मक ऊर्जा का असर रहता है.

• जान लें कि अगर आप पूरे 9 दिनों तक अखंड ज्योति को प्रज्जवलित करके रखते हैं तो अखंड ज्योति को पूजन स्थल के आग्नेय कोण में ही रखना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि आग्नेय कोण अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है और ऐसा करने से घर पर सुख-समृद्धि का वास होता है और शत्रुओं पर विजय की प्राप्ति होती है.

• यही नहीं, वास्तुशास्त्र में चंदन को बहुत ही शुभ और सकारात्मक ऊर्जा का केंद्र माना गया है, इसलिए जो भी भक्त माता की स्थापना चंदन की चौकी पर करता है उसे शुभ फल की प्राप्ति ज़रूर होती है.

• बताते चलें कि नवरात्रि में मां की पूजा के दौरान भक्त का मुंह पूर्व या फिर उत्तर दिशा की ओर ही रहना चाहिए, क्योंकि पूर्व दिशा को शक्ति, संपन्नता और शौर्य का प्रतीक माना जाता है. नौ दिनों में सभी देवियों को लाल रंग के वस्त्र और पूजा सामग्री अवश्य ही अर्पित करें ताकि माता आपकी भक्ती से जल्दी प्रसन्न हो जाए और हर मनोकामनाओं की पूर्ति करें.

इस नवरात्रि आप अपने वास्तु का ध्यान ज़रूर रखें और मनचाहे फल की प्राप्ति करें. वेद संसार द्वारा बताए गए वास्तु टिप्स आपकी नवरात्रि की पूजा को ज़रूर सफल बनाएगी और आपकी ज़िंदगी खुशहाल हो जाएगी.

आस्था व विश्वास के इस पावन त्योहार नवरात्रि पर आप अपने घर की वास्तु के साथ-साथ दिल की भी वास्तु को ठीक करने की ज़रूरत है. हमारा यहां दिल की वास्तु से तात्पर्य है कि दिल से सारे मैल को दूर कर दें और सबके प्रति प्रेम के भाव को पनपने दें. सच्चे व साफ दिल से अगर आप मां दुर्गी की पूजा अराधना करते हैं तो आपकी पूजा सफल होने से कोई नहीं रोक सकता.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।