चुनावार्थ. करीब एक हफ्ते पहले पलपल इंडिया ने कहा था- शत्रुघ्न सिन्हा अभी भी ट्विटर पर ही उलझे हैं, जबकि सियासी टेस्ट मैच शुरू भी हो गया है? ऐसी ही बात अब उनकी बेटी प्रसिद्ध अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा कह रही हैं कि- उन्हें काफी पहले बीजेपी छोड़ देनी चाहिए थी! फेमस बॉलीवुड एट्रेस सोनाक्षी सिन्हा ने अपने पिता और पटना साहिब सीट से बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा का खुलकर समर्थन किया है और कहा है कि- उन्हें काफी पहले बीजेपी छोड़ देनी चाहिए थी? खबर है कि... सोनाक्षी का कहना है कि मुझे लगता है कि उन्हें यह बहुत पहले ही कर देना चाहिए था. उन्हें वह सम्मान नहीं मिल रहा था, जिसके वह हकदार थे!

एक अवॉर्ड फंक्शन में पहुंची सोनाक्षी का प्रेस को कहना था कि- यह उनकी पसंद की बात है. मुझे लगता है कि अगर आप कहीं खुश नहीं हैं तो आपको बदलाव लाना चाहिए. यही उन्होंने भी किया? सोनाक्षी का कहना था कि- मेरे पिता शुरुआत से ही बीजेपी से जुड़े रहे. अटल जी, आडवाणी के वक्त से वह इसमें थे, लेकिन पार्टी ने उन्हें वह इज्जत नहीं दी जो उन्हें मिलनी चाहिए थी. मेरे हिसाब से उन्होंने देर कर दी. यह काफी पहले करना चाहिए था!

*पलपल इंडिया ने लिखा था- शत्रुघ्न सिन्हा अभी भी ट्विटर पर ही उलझे हैं, जबकि सियासी टेस्ट मैच शुरू भी हो गया है? नेता बने अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम मोदी पर पार्टी के वरिष्ठ नेता एलके आडवाणी के साथ शर्मनाक तरीके से पेश आने का आरोप लगाया है. सिन्हा ने लगातार ट्वीट में कहा कि- गांधीनगर के मौजूदा सांसद आडवाणी को टिकट न देकर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को टिकट देने का भाजपा का फैसला कई लोगों को रास नहीं आया, उन्होंने ट्वीट किया- सर जी, चिंताजनक, दर्दनाक और कई लोगों के अनुसार शर्मनाक भी, जो आपके लोगों ने किया वह अपेक्षित एवं प्रतीक्षित था!

लेकिन, शत्रुघ्न सिन्हा अभी भी ट्विटर पर ही उलझे हैं, जबकि सियासी टेस्ट मैच शुरू भी हो गया है? बिहार में, जैसी कि आशंका थी, बीजेपी ने सिन्हा को उनके चुनाव क्षेत्र से टिकट नहीं दिया है, जबकि सिन्हा पहले ही ऐलान कर चुके हैं कि वे अपने चुनाव क्षेत्र से ही चुनाव लड़ेंगे. दरअसल, लंबे समय से शत्रुघ्न सिन्हा के बागी तेवर ट्विटर पर नजर आते रहे हैं और वे पीएम मोदी पर निशाना साधने का कोई मौका छोड़ नहीं रहे थे. वे चाहते थे कि बीजेपी उन्हें पार्टी से बाहर करे और बीजेपी उन्हें पार्टी से बाहर करके पाॅलिटिकल हीरो नहीं बनाना चाहती थी, लिहाजा लंबे समय तक खामोश रही, किन्तु अब सिन्हा का टिकट काट कर राजनीतिक गेंद शत्रुघ्न के पाले में डाल दी है. अब जो भी निर्णय लेना है, शत्रुघ्न सिन्हा को लेना है, हालांकि राजनीतिक जानकारों का मानना है कि उन्होंने बहुत देर कर दी है.

यह बात अलग है कि उन्हें कांग्रेस का आधार और महागठबंधन का समर्थन मिल रहा है, परन्तु लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए जो जमीनी तैयार चाहिए, उस मोर्चे पर शत्रुघ्न सिन्हा कमजोर हैं. शत्रुघ्न सिन्हा, ट्विटर का आसमान छोड़कर राजनीतिक जमीन पर जितना जल्दी आएंगे, उनकी सियासी सेहत के लिए अच्छा होगा, क्योंकि पाॅलिटिकल मैनेजमेंट में माहिर बीजेपी ने उनके सामने केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को उतार कर उनके लिए बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।