मीडिया विमर्श. रोज प्रतिपल गरजते टीवी चैनल देख लीजिए सोशल मीडिया पर दनादन पोस्ट देख लीजिए. इससे समय मिल जाए तो चैराहों, मोहल्लों, पार्कों और सार्वजनिक गप केन्द्रों की गपबाजी सुन लीजिए. चर्चाएं पहले सेकिण्ड से शुरु हो रही हैं बहुत खूब मगर उनके आधार कितने मजबूत हैं. आंकड़ों के आधार पर चर्चाएं होनी चाहिए मगर दावे नजरियों और अनुमानों पर चर्चाएं हो रही हैं. इन चर्चाओं से मिथ्या के मिथक जनमानस के बीच सच बताकर खड़े किए जा रहे हैं. सवा अरब आबादी वाले देश में दो चार और ले देकर दस बीस व्यक्तियों पर पूरे देश का चैतरफा विमर्श सिमट गया है. यह बहुत बड़ा बदलाव है. यह एक दिन का बदलाव नहीं है. यह शनै शनै बदलाव है मगर इस विकट बदलाव के गहरे प्रभाव भी होने वाले हैं. कुछ छोटे छोटे त्वरित प्रभाव तो बीच बीच में दिख भी जाते हैं. 

मीडिया से ही बात शुरु कर लें. सुबह टीवी चैनलों से लेकर बेब पोर्टलों और ब्रेकिंग न्यूज में अब तक की सबसे बड़ी खबर के वे हीरो थे वे अंत तक हीरो क्यों नहीं रहते. उनके दावे गुजतरते वक्त के साथ ढहते क्यों चले जाते हैं. सबसे तेज की अंतहीन दौड़ का यह सबसे कमजोर पक्ष है. वहां लाखों करोड़ों लोगों तक केवल सूचनाएं पहुंचाने की होड़ है मगर सटीक सूचनाओं की होड़ नहीं. ब्रेकिंग की गर्जना के बाबजूद सूचनाएं हैं तो भी उसमें सूचना तत्व कम हैं उनमें अनुमान और नजरिए ज्यादा है. अनुमान और नजरिए और अपने अपने आकलन सूचना के छोटे पत्ते पर खुलकर परोसे जा रहे हैं. 24 घंटे इंटरनेट जगत से जुड़ा, श्रोता और दर्शक वर्ग एक तरह से इन आधी अधूरी कच्ची पक्की सूचनाओं, नजरियों और अनुमानों की समाचारी खिचड़ी का लक्ष्य हो गया है. वो जिज्ञासा में ब्रेकिंग के नाम से जो मिल रहा है तो तुरंत भकोस रहा है. ये तुरंत भकोसना और फिर उसे फेसबुक टिव्टर और वाॅट्सएप से दूसरों के लिए अपनी तरफ से निरंतर परोसते रहना आज की हकीकत है.

कुछ मिनिटों से कुछ घंटों लाखों लोगों तक पहुंची ये खिचड़ी दिन में घंटा दर घंटा नए छोंका के साथ परोसी जाती है. हालत ये हो जाती है कि बे्रकिंग के समय परोसी सादा दाल पचमेल दाल या दाल मखानी और न जाने उससे भी ज्यादा क्या बन जाती है. इसमें सुबह ब्रेकिंग के समय जो किसी बे्रकिंग में हीरो बनकर देशभर में दिखे थे वे शाम से रात तक बाकी की सूचना आने पर आधे हीरो बनकर रह गए. हर गुजरते दिन के साथ साथ ब्रेकिंग की बड़ी खबर सबसे बड़ी और बड़िया की जगह सबसे छोटी और घटिया खबर बनती चली गयी. यह रोज बार बार लगातार हो रहा है. इस नए समाचारी रिवाज में बड़े बड़े राजनैतिक किरदार बे्रकिंग के वक्त सेंसेक्स की तरह तेजी से उपर बढ़ रहे हैं तो आगे शाम से रात और अगले कुछ ही दिनों में धड़ाम से नीचे भी गिर रहे हैं. मीडिया में सबसे तेज और सबसे पहले के खेल ने अपनी जिम्मेदारी को तेजी से कम किया है. सबसे तेज का यह खतरनाक खेल एक दुधारी तलवार की तरह है जो पहले लाखों करोड़ों त्वरित व्यूअर्स और हिट्स की  संख्या भले बढ़ाती हो मगर दूसरे तरफ से ये मीडिया की विश्वसनीयता, गरिमा और साख को दूसरे तरफ से छीलते भी जाती है. रोज कई मामले और मसले होते हैं ताजा पुलवामा मामले को ही ले लें.

पाकिस्तान में एयर स्ट्राइक की पूरी खबर करोड़ों लोग ज्यादा से ज्यादा तथ्यों के साथ जानना चाहते थे मगर दर्शकों, श्रोतओं और पाठकों ने उसमें अनुमानों की अनुमति कब दी थी. कब भारत सरकार ने बालकोट में मारे गए आतंकियों की सटीक संख्या आधिकारिक रुप से जारी की थी फिर आखिर ऐसी क्या जल्दी और अनंत टीआरपी छिन जाने का डर था कि राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की इस खबर पर जिम्मेदारी से समाचार नहीं चलाए गए. आखिर ब्रेकिंग न्यूज के बहाने बिना बात की बकालोली देश दुनिया के सामने क्यों की गई. क्या बिना संख्या दिए और जारी किए बालकोट मामले का बेहतर कवरेज देश के मीडिया हाउस और उनके सर्वज्ञ एंकर नहीं कर सकते थे. क्या आज आतंकियों की अधिकारिक संख्या को जारी करके समाचार जगत के कई एंकरों ने अपने और अपने समाचार तंत्र की  साख पर तो संकट नहीं डाला है.

आखिर सरकार ने भी तो इस तरह का कोई अधिकारिक दावा कब किया था. ये सिर्फ उदाहरण मात्र है. ऐसा अब रोज कई बार हो रहा है. ये देश के करोड़ों दर्शकों, श्रोताओं और पाठकों के प्रति कहीं न कहीं एक अन्याय सा है. वे आपसे सबसे पहले सबसे तेज खबर जानना चाहते हैं मगर केवल सच्ची खबर और जिम्मेदार ब्रेकिंगसूचना चाहते हैं. अगर उसमें वक्त लगता है तो पूरा वक्त लेते हुए खबर दीजिए मगर अनुमान, आशंका, आकलन और हमारी और उनकी नजर का हवाला देखते हुए समाचारी खिचड़ी न परोसिए.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।