इन्दौर. देश के सबसे पुराने सामाजिक संगठनों में अग्रणी और 115 स्थापना दिवस मना चुके अखिल भारतीय औदिच्य महासभा का वार्षिक अधिवेशन इन्दौर के बीएम ग्रुप कालेजेस परिसर में पूर्व न्यायाधिपति वीडी ज्ञानी के मुख्यआतिथ्य, संगठन के सरंक्षक एवं मार्गदर्शक रधुनन्दन शर्मा के विशिष्ठ आतिथ्य एवं महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवनारायण पटेल की अध्यक्षता में आयोजित किया गया. तीन सत्रांे में आयोजित अधिवेशन में भाग लेने देश के विभिन्न क्षेत्रों के औदिच्य समाजजन इन्दौर पहुंचे और सामाजिक कार्यक्रम व योजनाओं को लेकर विचार विमर्श किया.

महासभा के राष्ट्रीय सचिव निरंजन द्विवेदी ने बताया कि भगवान गोविन्द माघव एवं परशुराम की पूजार्चना से प्रारम्भ हुए अधिवेशन के उद्धाटन सत्र, युवा शक्ति सत्र, महिला प्रकल्प सत्र, समापन सत्र एवं साधारण सभा के दौरान संगठन के सुदृढ़ीकरण व विस्तार, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, सामाजिक कल्याण, सामूहिक कार्यक्रमों के विस्तार, समाजजनों को सहयोग, आर्थिक सशक्तता आदि से जुड़े मुद्दांे, समाज में महिलाआंे की सहभागिता बढ़ाने, समाज उत्थान में युवा शक्ति के योगदान व सहभागिता में वृद्धि आदि विषयों पर विस्तार से चर्चा हुई व कई प्रस्ताव पारित किये गये. 

मुख्यअतिथि ज्ञानी ने अपने सम्बोधन में समाजजनों को ब्राह्मण कर्म व संस्कारों से जोड़ने के लिये परिवार से पहल करने का आव्हान किया. सरंक्षक व पूर्व अध्यक्ष शर्मा ने संगठित शक्ति के महत्व को रेखांकित करते हुए महासभा के सशक्तीकरण व समाजजनों के लिये कल्याणकारी योजनाओं व कार्यक्रमों के प्रभावी क्रियान्वयन की बात रखी. अध्यक्षता करते हुए संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवनारायण पटेल ने अपने उद्बोधन में औदिच्य समाज के आधार स्तम्भ स्वर्गीय सुशीलकुमार ठक्कर, स्व. गोवर्धननाथ शुक्ल, स्व. भैरूलाल पटेल, स्व. शिवनारायण द्विवेदी, स्व. ब्रजमोहन रावल, स्व. रामचन्द पाण्डे, स्व. रमणीकराय पण्डया, स्व. डा. मदनमोहन दुबे आदि का स्मरण करते हुए संगठन को समाजहित में निर्धारित लक्ष्यों की ओर अग्रसर करने का विश्वास जताया. राष्ट्रीय सचिव निरंजन द्विवेदी ने सामाजिक कार्यक्रमों को प्रभावी बनाने, राष्ट्रीय युवा प्रकोष्ठ का गठन करने, जिला व प्रदेश शाखाओं के आर्थिक सुदृढ़ीकरण हेतु सहयोग, हैल्प लाईन व्यवस्था प्रारम्भ करने, देश में उपलब्ध सुविधाओं के बारे में सूचना का प्रकाशन आदि सुझाव दिये.

वार्षिक अधिवेशन के दौरान महासभा के राष्ट्रीय सचिव निरंजन द्विवेदी, प्रदेशाध्यक्ष राजस्थान ओमप्रकाश औदिच्य एवं प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष चन्दूलाल उपाध्याय को राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवनारायण पटेल ने महासभा के कार्यक्रमों को प्रभावी बनाने में उत्कृष्ठ योगदान करने और सामाजिक गतिविधियों में सतत सराहनीय योगदान हेतु शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया. विभिन्न सत्रों में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवनारायण जागीरदार मध्यप्रदेश, प्रदेशाध्यक्ष राजस्थान ओमप्रकाश औदिच्य, राष्ट्रीय सचिव व महामंत्री राजस्थान नीरज ओझा आदि ने विचार व्यक्त किये. अधिवेशन में वरिष्ठ पदाधिकारी गोविन्द आचार्य, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमशंकर दीक्षित राजस्थान व मोहनलाल दवे महाराष्ट्र, औदिच्य न्यास प्रतिनिधि हीरालाल त्रिवेदी, प्रदेश उपाध्यक्ष राजस्थान चन्दूलाल उपाध्याय, पूर्व विधायक रमेशचन्द्र पण्डया आदि उद्घाटन सत्र में मंचस्थ हुए. इस दौरान राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अश्विनी तिवारी, वागड़ संभाग से महामंत्री पूर्णाशंकर आचार्य, प्रवक्ता दीपक भट्ट, वरिष्ठ समाजसेवी बालुभाई त्रिवेदी, पूर्णाशंकर शुक्ला, विकास त्रिवेदी, मनोहर जोशी आदि मौजूद रहे. संचालन औदिच्य बंधु के संपादक रमेश व्यास ने किया एवं अन्त में आभार राष्ट्रीय महामंत्री रमेश पण्डया मप्र ने माना. इस दौरान ओमप्रकाश औदिच्य, निरंजन द्विवेदी, चन्दूलाल उपाध्याय, अश्विनी तिवारी, पूर्णाशंकर आचार्य, दीपक भट्ट, विकास त्रिवेदी आदि ने राष्ट्रीय अध्यक्ष पटेल से संगठनात्मक कार्यक्रमों को लेकर चर्चा की.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।