निर्देशक ऐजाज खान की फिल्म‘‘हामिद’’ मूलतः अमीन भट्ट लिखित कश्मीरी नाटक‘‘फोन नंबर 786’’ पर आधारित है. जिसमें मासूम हामिद अपने भोलेपन के साथ ही अल्लाह व चमत्कार में यकीन करता है. मासूम हामिद जिस भोलेपन से अल्लाह व कश्मीर के मुद्दों को लेकर सवाल करता है, वह सवाल विचलित करते हैं. वह कश्मीर में चल रहे संघर्ष की पृष्ठभूमि में बचपन की मासूमियत और विश्वास की उपचार शक्ति का ‘‘हामिद’’ में बेहतरीन चित्रण है. 

कहानी- सात साल के हामिद (ताल्हा अरशद रेहशी) की है. यह स्कूल में पढ़ने वाला मासूम बच्चा अपने माता इशरत (रसिका दुग्गल) और पिता रहमत (सुमीत कौल) का लाड़ला है. वह अपने बेटे को अल्लाह और दुनिया से जुड़ी अच्छी-अच्छी सीख देता है. एक रात बेटे हामिद की सेल लाने की जिद को पूरा करने के लिए रहमत घर से निकलता है और फिर वापस नहीं आता. उस हादसे के बाद हामिद की जिंदगी हमेशा के लिए बदल जाती है. इशरत बेटे और खुद को भूलकर शौहर की खोज में लग जाती है. हामिद को पता चलता है कि उसका अब्बू अल्लाह के पास है और अब वह अल्लाह से अपने पिता को वापस लाने की जुगत लगाने लगता है. तभी उसे ये भी बताया जाता है कि 786 अल्लाह का नंबर है. अब हामिद को अल्लाह मियां से बात करके अपने अब्बू को वापस लाने की बात करनी है. हामिद जब अपनी बाल बुद्धि के बल पर किसी तरह उस नंबर को दस डिजिट में बदलकर अल्लाह को कॉन्टैक्ट करता है, तो वह नंबर सीआरपीएफ के जवान अभय (विकास कुमार) को लग जाता है.  आगे क्या होता है जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी.

निर्देशक एजाज खान की यह तीसरी फिल्म है और हामिद के बहाने वे नाटकीय व डार्क हुए बगैर कश्मीर के उन मुद्दों को दर्शाते हैं, जो हमसे अछूते नहीं हैं. उन्होंने सेना और कश्मीरियों का टकराव,अलगाववादियों द्वारा मासूमों और किशोरों को आजादी और अल्लाह के नाम पर बरगलाना, कश्मीर के गुमशुदा लोगों का सुराग मिलना, घर के मर्दों का गायब हो जाने के बाद बीवियों और बच्चों का अकेले रह जाने का दर्द, सेना के जवान द्वारा कश्मीरी परिवार के लिए पैदा हुई सहानुभूति को गलत अर्थ में लेना, परिवार से दूर सीआरपीएफ जवानों का फ्रस्ट्रेशन जैसी कई मुद्दों को बहुत ही संवेदनशीलता से छुआ है. 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।