वरिष्ठ पत्रकार राहुल सिंह को मध्यप्रदेश के सूचना आयुक्त की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी मिली है.  राहुल के पास हिंदी और अंग्रेजी पत्रकारिता का 20 वर्ष से अधिक का अनुभव है. वे देश में संभवतः सबसे कम उम्र में बनने वाले पहले सूचना आयुक्त है. 

42 वर्षीय राहुल ‘इंडिया टुडे-आज तक, टाइम्स नाउ, जी न्यूज़, सहारा समय, ई टीवी-न्यूज़ 18, फ्री प्रेस,   का हिस्सा रह चुके हैं. हाल के दिनों में अंग्रेजी के नए लांच हुए चैनल इंडिया अहेड में इनपुट हैड के रूप में कार्यरत है. इससे पहले वे देश के सबसे बड़े न्यूज़ चैनल नेटवर्क ईटीवी न्यूज़18 के असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर और नेशनल एडिटर के रूप में दिल्ली में कमान संभाले हुए थे. वे न्यूज़ 18 गुजराती के स्टेट एडिटर थे और इस चैनल को रिलॉन्च करके मात्र 6 महीनों में TRP के आख़िरी पायदान से उठा कर पहले पायदान पर लेकर आए थे.  इसके बाद न्यूज़18 मैनेजमेंट ने इनको असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर के पद पर प्रोमोशन दे कर गुजराती  के अलावा ओड़िया, कन्नड़, असमिया, बांग्ला, चैनल की कमान दी.  इस दौरान कुछ महीनों के लिए वे न्यूज़ 18 ओड़िया के एडिटर भी बने. 

राहुल न्यूज़ 18 असम नार्थ ईस्ट चैनल की लॉन्चिंग करने वाली मुख्य टीम में शामिल थे. उन्होंने असम में रह कर पूरे चैनल को रिकॉर्ड 2 महीने के अंदर में स्थापित किया था. 

मध्यप्रदेश में राहुल सिंह चुनिंदा चर्चित पत्रकारों में रहे. न्यूज़18 मध्यप्रदेश के एडिटर के रूप में उन्होंने सरकार और प्रशासन के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार के कई मामलों को उज़ागर किया था. इनके नेतृत्व में सन 2014 में ईटीवी-न्यूज़18 चैनल राज्य का एक मात्र बेबाक़ चैनल बना जो डंके के चोट पर शिवराज सरकार के ख़िलाफ़ व्यापमं और तमाम मुद्दों पर सभी खबरें दिखता था. 

निष्पक्ष धमाकेदार खबरों से परेशान हो कर शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने चैनल के मालिक पर दवाब डलवा कर राहुल सिंह को नौकरी से निकलवा दिया था. इसके बाद शिवराज सिंह चौहान ने राहुल सिंह को मध्य प्रदेश में किसी भी संस्थान में नौकरी नही करने दिया.  

राहुल सिंह ने खोजी और स्टिंग आपरेशन की पत्रकारिता में काफी ख्याति पाई है. आरटीआई की तहत जानकारी का उन्होंने अपनी रिपोर्टिंग में भरपूर उपयोग करके करप्शन के कई बड़े मामले उज़ागर किए. 2005 में देश की सबसे बड़ी ख़बर गुजरात के पांडरवाड़ा सामूहिक नरसंहार को उज़ागर करने वाले वे एक मात्र पत्रकार थे. राहुल ने यहाँ पर नर कंकाल का ज़खीरा बरमाद किया था. इनकी ख़बर के बाद इस मामले में सीबीआई इन्क्वायरी भी हुई. बाद में इसी मसले में राहुल को मोदी सरकार ने परेशान करने की कोशिश की तो हांगकांग की इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स कमीशन ने राहुल के पक्ष में एक विश्व्यापी मुहिम भी चलाई थी.

राहुल ने अपनी पत्रकारिता में सबसे पहला स्टिंग आपरेशन ज़ी न्यूज़ के लिए भोपाल में सन 2000 में किया था जिसमे उन्होंने हत्या के प्रयास मामले में एक पुलिस वाले को रिश्वत लेते कैमरे में कैद किया था. ये मध्य प्रदेश की टीवी पत्रकारिता की इतिहास का सबसे पहला और अनोखा स्टिंग आपरेशन था. क्योंकि इसमे हिडन कैमरा का इस्तेमाल नही करके  उस ज़माने में उपयोग में आने वाले बड़े कैमरे पर शूट किया था. 

सन 2003 में पुलिस के थर्ड डिग्री टॉर्चर सभी तरीकों को कैमरे पर क़ैद करने वाले वे देश के पहले पत्रकार थे. टाइम्स नाउ में राहुल ने भोपाल मेमोरियल कॉलेज में अवैध ड्रग ट्रायल की स्टोरी को भी उज़ागर किया था. भ्रष्टाचार से परेशान पुलिस ने भी इनकी मदद ली है.  टाइम्स नाउ में ही उन्होंने जबलपुर के एक सरकारी अधिवक्ता को पुलिस से रिश्वत लेते हुए कैमरे पर धर दबोचा. 

दिल्ली में इंडिया टुडे के लिए उन्होंने टू जी स्कैम में मॉरीशस शैल कंपनी के गौरखधंधे का खुलासा किया. इसके बाद स्टिंग आपरेशन और आरटीआई के जरिये भोपाल में शिवराज सरकार द्वारा ज़मीन के बंदरबाट का बड़ा खेल भी इन्होंने उज़ागर किया. 

राहुल मध्यप्रदेश के राष्ट्रीय स्तर के ख्याति प्राप्त पत्रकार एन के सिंह के बेटे है.

राहुल सिंह के पास देश के विभिन्न शहरों में काम करने का अनुभव है. वह दिल्ली, गुजरात, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, हरियाणा, ओड़िसा, वेस्ट बंगाल, कर्नाटक, हैदराबाद, आसाम और नार्थईस्ट राज्यों में अपनी सेवाएं दे चुके

सूचना आयुक्त के लिए मध्य प्रदेश के कई जज, आईएएस और आईपीएस अधिकारियों और पत्रकारों के आवेदन थे. विचार कर अंतिम रूप देने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता वाली चयन समिति की बैठक बुलाई गई थी. इसमें नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव भी शामिल थे. राहुल के नाम पर सभी की सहमति थी. पत्रकारिता के क्षेत्र में झंडे गाड़ने वाले राहुल से उम्मीद है कि वे सूचना आयोग में भी नई ज़मीन तोड़ेंगे.  पलपल मीडिया टीम और  समस्त पत्रकारों की और से राहुल सिंह को इस नियुक्ति पर ढेर शुभकामनाएं. 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।