एस्ट्रो पॉलटिकल एनालिसिस:2019 लोकसभा चुनाव को देखते हुए बुआ और बबुआ ने उत्तरप्रदेश मॆ 37-37 सीटों पर गठबंधन किया है,इसका आधार लोकसभा उपचुनाव मॆ इस गठबंधन की जीत थी,लेकिन ये गठबंधन फिरसे वही सफलता दोहरा पायेगा ऐसा अखिलेश की कुंडली से तो नही लगता ऐसा लगता है इस गठबंधन के कारण सबसे ज्यादा नुकसान अखिलेश को ही उठान पड़ेगा.

उत्तर प्रदेश मॆ समाजवादी पार्टी और बुआ का बेमेल गठबंधन  पूरा भारत देख रहा है,लेकिन जिस जहाज पर ये लोग सवार हुए है वो सबको पार ले जायेगा या फ़िर तूफान मॆ फँस जायेगा ये चिंतन का विषय है आइये इसके लिये अखिलेश यादव की पत्रिका देखें.

*अखिलेश यादव की कुंडली से राहु का भ्रमण*-

अखिलेश यादव की मिथुन राशि है तथा सूर्य भी मिथुन राशि मॆ है,सूर्य चंद्र राहु और केतु के घेरे मॆ है,आगामी 4 मार्च से राहु और केतु उच्च राशि से क्रमशः मिथुन और धनु राशि से भ्रमण करेंगे,यह आने वाला डेढ़ वर्ष अखिलेश यादव की लिये संकटपूर्ण समय है निश्चित रुप से वे किसी गहरे षडयंत्र के शिकार होंगे,लोकसभा चुनाव मॆ उनकी स्थिति कमजोर होगी.

*अखिलेश यादव की कुंडली*

अखिलेश यादव का जन्म 1 जुलाई 1973 कॊ कन्या लग्न व मिथुन सूर्य लग्न व राशि मॆ हुआ.पत्रिका मॆ बुध ग्रह का विशेष प्रभाव है.बुध ग्रह कॊ आकाशमंडल मॆ युवराज का पद दिया गया है.बुध ग्रह कॊ  युवावस्था,शिक्षा तथा बुध्दी का कारक माना जाता है.अखिलेश की पत्रिका मॆ बुध ग्रह भाग्य के स्वामी शुक्र के साथ गुरु की उच्च राशि मॆ लाभ भाव मॆ बैठा है.भाग्येष व  लग्नेष की लाभ भाव मॆ स्थिति ने उन्हे अपने पिता द्वारा मुख्यमंत्री का पद दिलवाया.अखिलेश कॊ पढ़े लिखे युवा मुख्यमंत्री का तमगा हासिल है.

*केतु की दशा मॆ क्या होगा*

*फरवरी मॆ अखिलेश कॊ केतु की दशा प्रारम्भ होगी.राज्य स्थान मॆ चंद्र,सूर्य व शनि के साथ बैठा नीच राशि का केतु ग्रहण योग की सृष्टि कर रहा है.जो पिता के लिये घातक हो चुका है.

*केतु की दशा बुध ग्रह के विपरीत परिणाम देती है यदि ऐसा हुआ तो परिणाम भयंकर उल्टे आयेंगे,बुआ(बुध) और बबुआ(केतु) का मेल फेल होगा क्योंकि ये दोनो ग्रह एक दूसरे के विपरीत होते है.

*वर्तमान मॆ अखिलेश को चंद्र मॆ केतु का समय चल रहा है जो उनके साथ होने वाले किसी बड़े धोखे की ओर संकेत कर रहा है.

*अशुभ केतु भयानक वेदना व कष्ट देता है.

*दशम स्थान का केतु राज्य स्थान मॆ ग्रहण योग बना रहा है जो सत्ता से बेदखल भी कर सकता है.

*पत्रिका मॆ जितनी शुभ स्थिति बुध ग्रह की उतनी अशुभ स्थिति केतु की है जो उल्टे परिणाम दें सकती है.

*अखिलेश के लिये केतु की दशा के 7 वर्ष कष्टप्रद हो सकते है.ये समय उनके पिता के लिये भी हानिकारक होगा .

*निष्कर्ष*-मार्च से होने वाला राहु का भ्रमण अखिलेश यादव की प्रतिष्ठा उनके पिता और पार्टी के लिये हानिकारक होगा,उनके लिये समय ठीक नही.

9893280184,7000460931

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।