गुवाहाटी. नागरिकता बिल पर बवाल के बाद असम में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ सरकार में शामिल असम  ने सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है. 126 सदस्यों वाली असम विधानसभा में बीजेपी का असम गण परिषद और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के साथ गठबंधन है. इसमें 60 सदस्य बीजेपी के, 14 एजीपी जबकि 12 बीजीएफ के हैं. 

इस मामले में पार्टी अध्यक्ष अतुल बोरा ने मुकम्मल जानकारी साझा किया है. असम के पूर्व सीएम प्रफुल्ल महंत ने भी सरकार से समर्थन वापस लेने का ऐलान किया. असम गण परिषद ने सिटिजनशिप बिल पर यह कहते हुए आपत्ति जताई थी कि यह असम समझौते को अर्थहीन बना देगा. महंत के मुताबिक, नागरिकता (संशोधन) विधेयक 2016 ने बीजेपी और एजीपी के बीच आपसी सहमति का उल्लंघन किया है. आपको बता दें कि इससे पहले, एजीपी अध्यक्ष वोरा ने भी बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को चि_ी लिखकर इस बिल पर आपत्ति जताई थी.

बता दें कि 126 सदस्यों वाली असम विधानसभा में बीजेपी का असम गण परिषद और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के साथ गठबंधन है. इसमें 60 सदस्य बीजेपी के, 14 एजीपी जबकि 12 बीजीएफ के हैं. समर्थन वापसी से सरकार को कोई खतरा तो नहीं है लेकिन भाजपा के लिए यह असहज जैसा जरूर है. हालांकि, जल्द होने वाले लोकसभा चुनावों के मद्देनजर असम में बीजेपी की संभावनाओं पर इसका असर पड़ सकता है. दरअसल, नागरिकता असम में बहुत बड़ा चुनावी मुद्दा रहा है.

इस बिल के जरिए सिटिजनशिप एक्ट 1955 में बदलाव की तैयारी है ताकि बांग्लादेश, अफगानिस्तान, पाकिस्तान आदि के हिंदुओं, बौद्ध, सिख, जैन, पारसी और ईसाइयों आदि को नागरिकता देने का रास्ता साफ हो सके. इसके लिए इन लोगों का भारत में कम से कम 6 साल रहना जरूरी होगा. वर्तमान कानून के मुताबिक, सामान्य परिस्थितियों में और अवैध प्रवासी न होने की दशा में यह समयावधि फिलहाल 12 साल है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।