मेलबोर्न. विराट सेना ने रविवार को पांचवें और अंतिम दिन सुबह का सत्र बारिश से धुल जाने के बावजूद ऑस्ट्रेलिया के बचे शेष दो विकेट जल्दी निकालते हुए तीसरा टेस्ट 137 रन से जीतकर चार मैचों की सीरीज में 2-1 की बढ़त बना ली और बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी पर अपना कब्ज़ा बरकरार रखा.

ऑस्ट्रेलिया ने 399 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए चौथे दिन की समाप्ति तक आठ विकेट पर 258 रन बनाकर भारत का इन्तजार बढ़ाया था. पांचवें दिन सुबह का सत्र बारिश के कारण धुल गया जिससे आशंकाएं उठने लगी थीं लेकिन जैसे ही खेल शुरू हुआ भारतीय तेज गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलिया की पारी को 261 रन पर समेट कर भारत की झोली में तिहरी ऐतिहासिक जीत डाल दी. भारत ने 4.3 ओवर में बचे हुए दोनों विकेट निकाल कर मेजबान टीम का संघर्ष समाप्त कर दिया.

भारत ने इस तरह 37 साल के लम्बे अंतराल के बाद मेलबोर्न में टेस्ट जीता, उसने ऑस्ट्रेलिया में 40 साल बाद किसी टेस्ट सीरीज में दो टेस्ट जीते और ऑस्ट्रेलिया में 26 दिसम्बर से शुरू होने वाला बॉक्सिंग डे टेस्ट पहली बार जीता. भारत की इसके साथ ही अपने टेस्ट इतिहास में यह 150वीं जीत है.

भारती गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया. वह एक तेज गेंदबाज के रूप में आस्ट्रेलिया के खिलाफ सबसे अधिक नौ विकेट लेने वाले पहले भारतीय तेज गेंदबाज बन गए हैं. इस क्रम में उन्होंने दिग्गज गेंदबाज कपिल देव को पछाड़ा है. एक कप्तान के रूप में विराट कोहली ने पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है. कोहली ने कप्तान के तौर पर विदेशी सरजमीं पर 11 टेस्ट मैच जीत लिए हैं. भारत ने अपनी दूसरी पारी के आधार पर आस्ट्रेलिया को जीत के लिए 399 रनों का लक्ष्य दिया था. इस लक्ष्य को हासिल करने उतरी आस्ट्रेलिया ने चौथे दिन आठ विकेट के नुकसान पर 258 रन बनाए थे. पैट कमिंस (63) और नाथन ल्योन (7) नाबाद थे.

इसके बाद, पांचवें और आखिरी दिन का पहला सत्र बारिश के कारण बाधित रहा और ऐसे में पहले सत्र में एक भी गेंद नहीं फेंकी गई. इसके साथ ही भोजनकाल की घोषणा कर दी गई. दूसरे सत्र में अपने बाकी बचे 141 रनों के लक्ष्य को हासिल करने उतरी आस्ट्रेलिया के लिए कमिंस और नाथन ने 46 रन ही जोड़े थे कि जसप्रीत बुमराह ने कमिंस को चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच आउट करा टीम का विकेट गिरा दिया. कमिंस ने इस पारी में आस्ट्रेलिया के लिए सबसे अधिक रन बनाए. उन्होंने अपनी पारी में खेली गईं 114 गेंदों में पांच चौके और एक छक्का लगाया. इसके बाद, 10वें विकेट के लिए नाथन का साथ देने उतरे जोश हेजलवुड (0) को इशांत शर्मा ने एक भी रन जोड़ने का मौका नहीं दिया. इशांत ने नाथन को 261 के स्कोर पर आउट करने के साथ आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी समाप्त कर दी और भारत ने 137 रनों से जीत हासिल की. नाथन विकेट के पीछे खड़े ऋषभ पंत के हाथों लपके गए. भारत के लिए इस पारी में जसप्रीत बुमराह और रवींद्र जडेजा ने सबसे अधिक तीन-तीन विकेट लिए, वहीं मोहम्मद शमी और इशांत शर्मा को दो-दो विकेट मिले. भारत ने अपनी पहली पारी सात विकेट गंवाकर 443 रनों पर घोषित कर दी थी. इसके बाद मेहमान टीम ने आस्ट्रेलिया की पहली पारी 151 रनों पर समेट दी. भारत ने इसके बाद अपनी दूसरी पारी 106 रनों पर घोषित कर आस्ट्रेलिया को 399 रनों का लक्ष्य दिया था. भारत और आस्ट्रेलिया के बीच चौथा और आखिरी टेस्ट मैच तीन से सात जनवरी तक सिडनी में खेला जाएगा.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।