शाहजहांपुर. एक ओर जहां देश में स्वच्छ भारत मिशन चल रहा है, वहीं गांवों में आज भी साफ-सफाई और शौच की बात पर लोगों का बुरा हाल है. बिन शौचालय, टूटी सड़क-खड़ंजों वाले गांवों को जब देखते हैं तो बरबस ही प्रधानमंत्री मोदी के अभियान बेदम लगने लगते हैं. यूपी के शाहजहांपुर में ऐसे ही गांव में न सिर्फ युवा बल्कि बुजुर्ग भी अपने भविष्य को लेकर चितिंत हैं. आलम यह है कि युवकों की शादियां भी होना बंद हो गई हैं. जानकारी के मुताबिक, शाहजहांपुर जिला मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर भावल खेड़ा ब्लाक में सिउरा गांव है. यहां करीब 5 हजार लोग रहते हैं. यह सामान्य वर्ग जाति बहुल गांव है, जबकि दो सिंगरहा और सिंगरही मजरें हैं.

जिनमें ज्यादातर एससी परिवारों की स्थिति दयनीय है, दो मजरों में आज भी एक भी शौचालय नहीं बन पाया है. इसकी वजह इस गांव के प्रधान का स्वर्ण जाति से होना भी है. तीन साल में एक भी शौचालय हरिजन परिवारों में उसने नहीं बनने दिया. पीड़ित परिवारों का कहना है कि अगर किसी योजना का लाभ मिलने को होता भी है, तो सांठगांठ करके सूची से हम लोगों के नाम कटवा दिये जाते हैं. क्या हमारा हरिजन होना गुनाह है.'' गांव में हरिजनों का कहना है कि अगर कोई रिश्ता आता भी है तो शौचालय न होने की वजह से रिश्ते की बात आगे नही बढ़ पाती है. वहीं, ग्राम प्रधान पति का कहना है कि लिस्ट में सबसे नीचे नाम दोनों मजरों के ग्रामिणों के थे, लेकिन लिस्ट जिनके उपर नाम थे, उनको शौचालय मिल गए हैं. जिन मजरों में शौचालय नही बने हैं, वहां भी जल्द बन जाएंगे.

सीडीओ का कहना है कि जिन मजरों में शौचालय नही बनें, वहां की फीडिंग की जा रही है. जल्द ही सभी मजरों में शौचालय बन जाएंगे. बता दें कि इन दो मजरों मे सिर्फ एक परिवार ऐसा है जिसके घर में शौचालय बना है. इसके अलावा सभी लोग महिलाएं पुरूष बच्चे और बुजुर्ग खेतों मे शौच के लिए जाते हैं. मजरे मे रहने वाले एससी बरादरी के लोगो का कहना है कि उनके गांव मे एक भी शौचालय नही बना है. वही, ग्राम प्रधान पति अशोक सिंह ने कहा है कि मेरी पत्नी को 3 साल प्रधान बने हो गए हैं.

हमने शौचालय बनवाने के लिए 718 पात्रों की लिस्ट भेजी थी. लेकिन इतने ज्यादा लोगों की शौचालय की लिस्ट देखकर लिस्ट वापस कर कर दी गई. उसके बाद हमने सूची से नाम कम करके 399 लोगों की सूची दी. सूची से भी नाम काटकर सिर्फ 238 शौचालय ही पास किए गए. जिसमें 199 शौचालय बन चुके हैं. बाकी शौचालय बनने का कार्य किया जा रहा है. प्रधान पति का कहना है कि सूची में सबसे ऊपर नाम गांव के पात्रों के थे. सूची में सबसे नीचे नाम मजरे सिंगरहा और सिंगरही के पात्रों के थे. सीडीओ प्रेरणा शर्मा का कहना है कि कुछ मजरे ऐसे हैं, जहां पर एक भी शौचालय नही बने हैं. ऐसे मजरों को चिन्हित कर लिया गया है. 30 नवम्बर तक 98 हजार शौचालय के लिए पात्रों की फीडिंग कर ली जाएगी. जल्द ही उन मजरों मे शौचालय बन जाएंगे. उनका कहना है अगर प्रधान या सेक्रेटरी द्वारा अपात्र को पात्र बनाकर शौचालय दिया जाता है तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।