ये फेसबुक पोस्ट है एक्टिविस्ट ज़हरा एम मांजी की , जो जन्म से बहरी और गूंगी हैं.

पाकिस्तान के कराची की रहने वाली मांजी खुद को गूंगे-बहरों की कम्युनिटी की प्राउड मेंबर हैं. अपनी एक फेसबुक पोस्ट में उन्होंने कुछ ऐसी बातों का जिक्र किया है जो गूंगे-बहरे लोगों के लिए कुछ अलग होती हैं. सुबह सोकर उठने से लेकर, लोगों से बातें करना, हवा, पानी, चिड़ियों की आवाज़ को न सुन पाना, उनके लिए ये बुरा है लेकिन इतना नहीं जिससे वो टूट जाएं. उनकी ये फेसबुक पोस्ट आपको भी उनकी भावनाओं का एहसास ज़रूर कराएगी.

ये है फेसबुक पोस्ट

हां मैं बहरी और गूंगी हूं

मैं हर दिन सुबह वाइब्रेशन वाले अलार्म या तेज़ रोशनी से जगती हूं, जो कभी-कभी दूसरों को परेशान भी कर देती हैं. हां मैं बहरी और गूंगी हूं.

मैं टीवी देखती हूं, आवाज़ के साथ नहीं लेकिन कैप्शन के साथ. हां मैं  बहरी और गूंगी हूं.

गाड़ी में या लंच ब्रेक पर, अपने दोस्तों के साथ या अकेले, फेसबुक पर, मेरा फोन ही मेरा साथी है. हां, मैं बहरी और गूंगी हूं.

मैं हवा, चिड़ियों, बारिश या संगीत की आवाज़ नहीं सुन सकती लेकिन जो मेरे कान नहीं सुन सकते उन्हें मेरी आंखें देख सकती हैं. वे मेरे लिए सबसे ज्यादा कीमती हैं, मेरे लिए मेरी आंखें मेरी आत्मा की खिड़की की तरह हैं. और मेरे हाथ वो पुल हैं जो मुझे दुनिया से जोड़ते हैं. मैं उनका इस्तेमाल बोलने के लिए, लिखने के लिए, अपनी भावनाओं को महसूस करने और समझाने के लिए, करती हूं. वो भावनाएं जो बिल्कुल आपकी ही तरह हैं. हम एक जैसे ही हैं. मुझे इस बात का कोई दुख नहीं है कि मैं आपकी तरह बोल या सुन नहीं सकती... हां, मैं बहरी और गूंगी हूं. 

हो सकता है कि मैं आपकी तरह सही और लगातार नहीं बोल पाती हूं लेकिन मैं बेवकूफ नहीं हूं. मैं गलत हो सकती हूं, गलती इंसान ही करते हैं, लेकिन मैं इसलिए गलत हूं क्योंकि मैं समझ नहीं पा रही, या मैं इसलिए गलत हूं क्योंकि आपने मुझे समझाने के लिए सही प्रयास नहीं किए या मुझे बुरी तरह से समझाया गया, ये मुझे बेवकूफ नहीं बनाता. हां, मैं गूंगी और बहरी हूं.

मैं बात कर सकती हूं, जो मुझे समझ सकते हैं उनको धन्यवाद. बाकियों को...नहीं. कभी मुझे समझना मुश्किल हो सकता है, बिल्कुल वैसे ही जैसे चीन की भाषा समझना आपके लिए मुश्किल हो सकता है. हां मैं बहरी और गूंगी हूं. 

मेरा तरीका अलग है लेकिन मैं वो सब करती हूं जो आप करते हैं : पढ़ाई, काम, सफर, ड्राइव, हाइकिंग, राइडिंग, राफ्टिंग, खेलना... दरअसल, मेरी एक जिंदगी है, और मैं इसे बिल्कुल वैसे ही जीती हूं जैसे आप! हां, मैं बहरी और गूंगी हूं. 

फेसबुक पोस्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें

साभार: India wave.in

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।