मुद्दा. राजस्थान में बांसवाड़ा एकमात्र ऐसा जिला है जिसकी एक इंच जमीन पर से भी रेल नहीं गुजरती है. यही वजह है कि बांसवाड़ावासियों को वागड़ की रेल का लंबे समय से इंतजार है, लेकिन जहां अहमदाबाद को मुंबई को जोड़ने वाली बुलेट ट्रेन को तो पीएम मोदी सरकार ने हरी झंडी दिखा दी, वहीं अहमदाबाद से डूंगरपुर-बांसवाड़ा हो कर रतलाम जाने वाली वागड़ की रेल को पटरी से उतार दिया!

इसीलिए नाराज वागड़वासी कहते हैं- वे जाएंगे बुलेट ट्रेन से, हम बसों में धक्के खाएं?

अहमदाबाद से डूंगरपुर-बांसवाड़ा हो कर रतलाम जाने के लिए एकमात्र साधन बस है, जबकि सड़को की हालत खराब है, लिहाजा रेल-हवाई सेवा के अभाव में यह यात्रा बेहद कष्टदायक होती है!

जाहिर है, वागड़ की रेल इस बार भाजपा का खेल बिगाड़ सकती है! वागड़ में दो जिले आते हैं- बांसवाड़ा और डूंगरपुर. आजादी के बाद लंबे समय तक यहां रेल की मांग की जाती रही, परन्तु बीसवीं सदी गुजर गई, यहां रेल नहीं आई.

पिछली बार अशोक गहलोत की प्रादेशिक सरकार ने केन्द्र के साथ समझौता करके रतलाम-बांसवाड़ा-डूंगरपुर-अहमदाबाद रेल का सपना साकार करने की दिशा में कदम उठाए, किन्तु इस बार वसुंधरा राजे सरकार ने आते ही वागड़ की रेल को ठंडे बस्ते के हवाले कर दिया., कारण? न तो केन्द्र सरकार और न ही प्रादेशिक सरकार इस रेल लाइन के लिए आवश्यक पैसा देने को तैयार थीं. 

इस मुद्दे को लेकर स्थानीय भाजपा नेताओं ने भी प्रयास किए, किन्तु कोई नतीजा नहीं निकला. जनता इस बात से नाराज है कि केन्द्र के पास बुलेट ट्रेन के लिए तो पैसा है, लेकिन वागड़ की रेल के लिए सरकारी खजाना खाली है. 

राजस्थान सरकार के पूर्व केबीनेट मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता महेन्द्रजीत सिंह मालवीया का कहना हैं कि- पीएम नरेन्द्र मोदी और भाजपा को केन्द्र एवं राज्य में सरकार बनाने के लिये वागड़ के लोगो से वोट तो चाहिएं परन्तु सरकार में आने के बाद उनकी प्राथमिकता में  वागड़ के विकास की योजनाओं के लिये धन नहीं होता है? 

उनका कहना है कि बांसवाड़ा जिले को रेल से जोड़ने की योजना को पूर्व की कांग्रेस सरकार ने प्रारम्भ करके इसे गति दी, परन्तु केन्द्र में भाजपा की सरकार आने के बाद काम ठप्प हो गया. 

उनका कहना है कि- पीएम मोदी अपने मित्र उद्योगपतियों की सुविधाओं को बढ़ाने के लिये बुलेट ट्रेन की योजना तो ले आए, किन्तु बांसवाड़ा को रेल से जोड़ने के लिये उनके मंत्रालय ने जरूरी धनराशि नहीं दीं और वागड़ की रेल का काम बंद हो गया. 

वागड़ की रेल एमपी-राजस्थान-गुजरात के करीब आधा दर्जन लोकसभा क्षेत्रों और एक दर्जन विधानसभा क्षेत्रों के नतीजों को प्रभावित कर सकती है. अकेले वागड़ में ही नौ विधानसभा क्षेत्र हैं जिनमें से पहली बार भाजपा ने आठ में जीत हांसिल की थी. सवाल यह है कि- भाजपा अपनी विजय यात्रा इस बार भी जारी रख पाएगी या वागड़ की रेल उसे सियासी पटरी से उतार देगी?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।