पलपल संवाददाता, जबलपुर. अंतत: भाजपा के बाद कांग्रेस ने भी अपने प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी. इस सूची में जिन लोगों के नाम थे, वे समर्थकों के साथ जश्न में डूबे रहे, वहीं जो अन्य लोग टिकट की आस संजोए थे, वे निराश हो गये. ऐसे निराश दावेदारों को मनाने में अधिकृत प्रत्याशी जुट गये हैं और वे उन्हें मनाने-बहलाने-फुसलाने-दुलारने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं. जबलपुर शहर की बात करें तो जिले की 8 में से 5 सीटों पर कांग्रेस ने अपने केंडीडेट्स घोषित कर दिए, शेष 3 सीट बची है, जिन 3 सीटों पर घोषणा नहीं हुई है, वहां के दावेदार सन्निपात की स्थिति में हैं, अब वे दूसरी सूची का इंतजार कर रहे हैं और हर जतन में लगे हैं कि टिकट उन्हें ही मिले.

देखना है कि सरदार, कितने असरदार होते हैं..

जबलपुर शहर की पश्चिम सीट पर भाजपा की टिकट चाहने के लिए पूर्व विधायक सरदार हरेंद्रजीत सिंह बब्बू कितने असरदार होते हैं, इस पर सबकी निगाहें लगी हुई हैं. जानकार कह रहे हैं कि इस सीट पर अन्य कई दिग्गज भी नजरें गड़ाएं हैं, जिसमें ग्रामीण सीट से पराजित हो चुके पूर्व मंत्री व दो-दो महापौर भी हैं. इतने लोगों के बीच में सरदार जी सीना ताने खड़े हैं. सरदार जी की ओर से तो कहा जा रहा है कि चंडीगढ़ से जोर लग चुका है, अब पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ ही है, इसलिए वहां का असर कितना असरदार होता है, यह अगले एक-दो दिनों में स्पष्ट हो सकेगा.

खिलाड़ी ने बिगाड़ा खेल..

- जबलपुर ग्रामीण क्षेत्र के कभी भाजपा की ओर से जमकर खेल करने वाले खिलाड़ी को कांग्रेस ने अपने पाले में करके सिहोरा से टिकट दे दिया, जिससे भाजपा का पूरा खेल बिगड़ गया है. भाजपा हलकों में चल रही चर्चा की माने तो खिलाड़ी सिंह ने अपनी टिकट की दावेदारी जमकर की थी, उनका क्षेत्र में प्रभाव भी था, किंतु पार्टी ने जब उनकी नहीं सुनी तो उन्होंने दलबदलू बनना स्वीकार किया. कांग्रेस ने भी तत्काल ही खिलाड़ी को लपक लिया और टिकट भी दे दिया. खिलाड़ी को टिकट मिलने के बाद भाजपा के ही काफी कार्यकर्ता असमंजस में हैं कि वे किसका काम करें, क्योंकि आखिर खिलाड़ी तो उनके ही हैं.

कार्यकर्ताओं को दीपावली पर गिफ्ट की आस

- ऐन चुनाव के बीचों-बीच पड़े दीपावली त्यौहार से राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं की उम्मीदें काफी बढ़ा दी है. जो भी कार्यकर्ता अपने-अपने क्षेत्रों मेें थोड़ा भी रसूख रखता है आर 100-50 वोटों को कबाडऩे की कुव्वत रखता है, उसने अपना संदेश चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशियों तक पहुंचा दिया है कि भैया दीपावली पर इस बार अच्छा गिफ्ट तो बनता ही है, कार्यकर्ताओं का भी ध्यान रखना, कार्यकर्ताओं को थोड़ा हल्का गिफ्ट चलेगा, किंतु उन्हें कुशल प्रबंधन के लिए महंगा उपहार मिले तो वे चुनाव प्रचार में जोर-शोर से दम लगाएं. अब कार्यकर्ताओं को ऐसा मौका कम ही मिलता है, पिछले चार सालों में जीतने के बाद नेताजी ने तो कोई पूछ-परख की नहीं, अब जब ऐसा मौका आया है तो कोई भी चौका लगाने से नहीं चूकना चाहता.

रिपोर्ट- प्रदीप मिश्रा, अजय श्रीवास्तव

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।