प्रदीप द्विवेदी. प्रमुख कांग्रेसी नेता और राजस्थान सरकार के पूर्व केबीनेट मंत्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीया का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान जो वादे किये थे, उनका क्या हुआ? जनता से झूठे वादे करके सत्ता मे आने के बाद भाजपा सरकारों ने आम जनता, किसान, बेरोजगारांे, गरीबों, छोटे व्यवसायियों, लधु उद्यमियांे, कर्मचारियों, महिलाओं, वृद्धजनों आदि के लिये क्या काम किये हैं? वे जनता के सामने रखने की जरूरत है, क्योंकि 2014 की बड़ी-बड़ी बातांे की पोल अब खुल गई है! मालवीया का कहना है कि जिस गति से भाजपा और पीएम मोदी सत्ता में आये थे उससे अधिक तेजी से भाजपा शासित राज्य सरकारों और केन्द्र सरकार से भाजपा केे सत्ता से बाहर जाने का वक्त आ गया है.

और यह नवम्बर-दिसम्बर 2018 में होने वाले कई राज्यों के चुनावांे व 2019 के लोकसभा चुनावो में स्पष्ट हो जायेगा. उनके निवास पर मिलने आए संगठन प्रतिनिधियों और कार्यकर्ताआंे के साथ संवाद में मालवीया ने कहा कि देश की वर्तमान विषम परिस्थितियों के लिये पीएम मोदी व भाजपा जिम्मेदार हैं और जनता इस बात को समझ चुकी है. मालवीया ने कहा कि कांग्रेसाध्यक्ष राहुल गांधी के ठोस तथ्यों के साथ किये जा रहे सवालों का जवाब देने पीएम मोदी सामने क्यों नही आते हैं? केन्द्र के मंत्रियों को आगे करके बचाव का प्रयास क्यों किया जा रहा है? मालवीया का कहना था कि जनता 2014 के लोकसभा चुनावों से पूर्व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं भाजपा नेताओं के विभिन्न मुद्दों पर दिये गये बयानों और केन्द्र की सत्ता में आने के बाद किये गये कामकाज को देखकर भाजपा के दोहरे चरित्र को समझ रही है और अब केन्द्र व प्रदेश में कांग्रेसाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की बहुमत के साथ वापसी होगी.

उन्होंने कहा कि डिजिटलाईजेशन के इस दौर में अब भाजपा जनता को भ्रमित नही कर सकती है और उनकी असलियत सामने आ रही है. मालवीया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार की उपलब्धियों की बात करें तो देश में रिकार्ड स्तर पर पहुंच रही मंहगाई, किसानो के साथ हो रहा अन्याय, बेरोजगारों की बढ़ती समस्यायें, गरीबों की कमर तोेड़ने वाली नोटबंदी, कांग्रेसी सरकार के समय बने जीएसटी प्रावधानों में उलटफेर कर बने नये जीएसटी कानून के कारण मध्यम व छोटे व्यापारियांे के लिये उत्पन्न हुई परेशानियंा, विश्व स्तर पर गिरते पेट्रोलियम उत्पादों के दामों के बावजूद उघोगपतियों कोे मदद करनेे इनकी दरों मेें लगातार बढ़ोतरी,

बढ़ती बेरोजगारी व असुरक्षा का वातावरण, देश के सम्मान बढ़ाने केे नाम पर किये गये उपलब्धि रहित विदेशी दौरे और सबसे बड़े राफेल धोटाले के नाम पर अपनेे उद्योगपति मित्रों को सहायता करने की गई व्यवस्थाआंे, विकास के नाम पर बड़ी-बडी बातांे व उद्योगपतियांे की जेब भरने के अतिरिक्त कुछ नही है! उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी केन्द्र में व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे राज्य में हर मोर्चे पर विफल रहे हैं और जनता के सवालों का जवाब देने की स्थिति में नही हैं. भारत के मतदाता समझदार हैं और कामकाज का मूल्यांकन करने में सक्षम हैं. उन्होने दावा किया कि केन्द्र व राजस्थान में अगली सरकार कांग्रेस की होगी व कांग्रेसाध्यक्ष राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनकर देश को प्रभावी नेतृत्व देंगे.

*महेन्द्र जीत सिंह मालवीया का बयान देखें...

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।