खबरार्थ. इन दिनों चुनाव के दौरान कई नए-नए राजनीतिक दल सियासी जंग के मैदान में आ रहे हैं और बड़े-बड़े दावे भी कर रहे हैं, लेकिन सवाल यह है कि क्या वे कामयाबी का परचम लहरा पाएंगे? एससी-एसटी एक्ट में संशोधन और आरक्षण की विसंगतियों के मुद्दे पर कुछ समय पहले सपाक्स सियासी दल का गठन हुआ था और घोषणा की गई थी कि सपाक्स एमपी की तमाम सीटों पर चुनाव लड़ेगी! खबर है कि... एमपी में विधानसभा चुनाव से पहले कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर ने भी प्रदेश के चुनावी जंग में उतरने के संकेत दिए हैं? उनकी संस्था- अखंड भारत मिशन, के कायार्लय का राजधानी भोपाल में उद्घाटन हुआ, तो इस मौके पर संस्था के पदाधिकारी विजय शर्मा ने इस संबंध में जानकारी दी!

प्रेस रिपोर्ट्र्स पर नजर डालें तो उन्होंने बताया कि... अखंड भारत मिशन ने अपनी पार्टी और चुनाव चिह्न के साथ एमपी में अपने उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है. पार्टी के नाम और चिह्न की घोषणा 29 अक्टूबर 2018 को ठाकुर भोपाल आकर करेंगे? शर्मा के अनुसार अखंड भारत मिशन एमपी की सभी- 230 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगा. इसी साल सुप्रीम कोर्ट के एससी-एसटी एक्ट पर फैसले को पीएम मोदी सरकार ने संसद में बदल दिया था, जिसके बाद देश के विभिन्न राज्यों में सामान्य वर्ग द्वारा विरोध प्रदर्शन किए गए थे. इसी विरोध के चलते सपाक्स जैसे राजनीतिक दलों का उदय हुआ तो आगे भी कई नए सियासी दल सामने आ रहे हैं.

हालांकि राजस्थान में भी जन चेतना मंच इसी मुद्दे पर सक्रिय हुआ, लेकिन वह सीधे चुनाव नहीं लड़कर सपाक्स जैसे संगठनों का नैतिक समर्थन कर रहा है. विभिन्न मुद्दों के आधार पर ऐसे दलों के समर्थक तो अच्छे खासे हैं, लेकिन संगठित नहीं है इसलिए चुनाव में जीत हांसिल करना आसान नहीं है, क्योंकि न तो इन नए दलों के पास चुनाव लड़ने का अनुभव है और न ही पर्याप्त कार्यकर्ता हैं. खबरों के दम पर शहरी क्षेत्रों में तो थोड़ा-बहुत प्रचार-प्रसार तो किया जा सकता है, किन्तु ठेठ गांवों तक इतने कम समय में पहुंच बनाना आसान नहीं है, अलबत्ता भाजपा-कांग्रेस के टिकट से वंचित उम्मीदवारों में से कुछ का साथ ऐसे दलों को मिल सकता है. एमपी में तो साधु-संतों का एक वर्ग भी शिवराज सरकार का विरोध कर रहा है, लिहाजा उन्हें कोई राजनीतिक आधार मिलता है तो कुछ संभावनाएं बन सकती हैं. वैसे तो राजनीति में कुछ भी हो सकता है, लेकिन राजनीतिक जानकारों का मानना है कि इन नए दलों को कामयाबी मिले या नहीं मिले, परन्तु चुनावी नतीजों को जरूर प्रभावित करेंगे!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।