शरद पूर्ण‍िमा को लेकर धारणा है क‍ि इस द‍िन चांद की रोशनी अमृत के समान होती है. इसमें तमाम रोगों का नाश करने की शक्‍त‍ि बताई गई है. यही वजह है कि इस मौके पर लोग रात में खीर को चांद की रोशनी में रखकर सुबह इसका प्रसाद ग्रहण करते हैं. हालांकि इसके कुछ वैज्ञान‍िक कारण भी हैं. 

श्रीमद्भागवत महापुराण के अनुसार चन्द्रमा को औषधि का देवता माना जाता है. ऐसी मान्‍यता है क‍ि शरद पूर्णिमा की रात के चांद की किरणों को रावण दर्पण के माध्यम से अपनी नाभि पर ग्रहण करता था. ज‍िस तरह सूर्य की गर्मी तमाम क्र‍ियाओं के लिए महत्‍वपूर्ण है, वैसे ही चांद की किरणें तन-मन को शीतलता प्रदान करती हैं. शरद पूर्ण‍िमा पर चांद धरती के सबसे करीब होता है जिससे इसकी क‍िरणों का सबसे ज्‍यादा फायदा मिलता है. इसल‍िए इस रात को जागकर चांद की रोशनी में ध्‍यान लगाने या जाप करने की प्रथा भी है. 

दूध में लैक्टिक एस‍िड होता है और इसके पौष्‍ट‍िक तत्‍वों के कारण इसे संपूर्ण आहार का दर्जा द‍िया गया है. वहीं अपने तत्‍वों की वजह से चांद की किरणों से दूध ज्‍यादा मात्रा में शक्‍त‍ि को सोखता है. वहीं खीर में चावल मिलाया जाता है जिसमें मौजूद स्‍टार्च दूध को चांद से शक्‍त‍ि सोखने में मदद करता है. यही वजह है क‍ि शरद पूर्णिमा की रात में खीर को चांद की रोशनी में रखकर सुबह उसका सेवन करने की परंपरा अर्से से चली आ रही है. माना जाता है क‍ि इससे शरीर में सफूर्ति, रोगों से लड़ने की क्षमता और युवा शक्‍त‍ि बढ़ती है. 

चांद की किरणों को शीतल और ठंडक देने वाला माना जाता है. ये भी कहा जाता है क‍ि चांदनी रात में 10 से 12 बजे के बीच कम वस्त्रों में घूमने वाले व्यक्ति को अच्‍छी ऊर्जा प्राप्त होती है. वहीं इन किरणों को तनाव दूर करने वाला भी माना जाता है. अगर आप इस पूर्ण‍िमा की रात को चांद की रोशनी में ध्यान लगाते हैं तो खुद में ठहराव महसूस करेंगे. 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।