हिंदी सटायर डॉट कॉम के अनुसार फेक न्यूज को लेकर चल रहे विवाद के बीच सभी राजनीतिक दलों ने एक स्वर में फेक नेताओं पर बैन लगाने की मांग की है. नेताओं की सर्वदलीय समिति ने इस संबंध में सरकार को एक पत्र भेजा है. इसमें समिति ने आशंका जताई है कि जैसे एक गंदी मछली सारे तालाब को गंदा कर देती है, उसी तरह ऐसे चुनिंदा फेक नेता भी राजनीति के पवित्र सागर को गंदा कर देंगे. इसलिए इन पर तुरंत प्रतिबंध लगाकर और उन्हें लात मारते हुए राजनीति से बाहर कर देना चाहिए.

फेक नेताओं के गिनाए कु-लक्षण

हिंदी सटायर को भी लीकेज में इस पत्र की एक कॉपी हाथ लगी है. इस पत्र में फेक नेताओं के 5 कु-लक्षण बताए गए हैं. हम अपने रीडर्स के लिए भी 5 कु-लक्षण बता रहे हैं ताकि वे सतर्क रहें और ऐसे कु-लक्षण वाले नेताओं को देखते हुए उन्हें लात मारकर भगा सकें.

कु-लक्षण 1 : जैसी कथनी, वैसी करनी

ये वे होते हैं, जो जैसा बोलते हैं, वैसा करते हैं. इनकी कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं होता. ये ईमानदारी की न केवल बात करते हैं, बल्कि खुद ईमानदार भी होते हैं.

कु-लक्षण 2 : धर्म और जातिवाद से परे

ये नेता वोट लेने के लिए न धर्म का सहारा लेते हैं और न जाति का. इन्हें अक्सर चुनाव का टिकट भी नहीं मिलता. गाहे-बगाहे अगर टिकट मिलता भी है तो जीतते नहीं हैं. मौजूदा राजनीति के लिए ये सबसे घातक हैं.

कु-लक्षण 3 : भाई-भतीजावाद पर भरोसा नहीं

ये नेता समाज सेवा की इच्छा से राजनीति करते हैं. ये न अपने बेटे-बेटियों को आगे बढ़ाते हैं, न अपने रिश्तेदारों को. अपने उत्तराधिकारी का चयन मेरिट के आधार पर करते हैं.

कु-लक्षण 4 : कमीशनखोरी से परहेज

ये इन नेताओं का सबसे बड़ा कु-लक्षण है. ये कमीशनखोरी से परहेज कर नेतागिरी के पावन उद्देश्य को ही डिफिट कर देते हैं. ऐसे नेता न केवल खुद के, बल्कि पूरी भारतीय राजनीति पर कलंक के समान होते हैं.

कु-लक्षण 5 : संस्कार पैदाइशी इनबिल्ट

ऐसे फेक नेताओं के मुंह पर अपने विरोधियों के लिए भी सम्मान का भाव रहता है. ये कोई गाली-गलौज नहीं करते. संस्कार नामक अवगुण इनमें पैदाइशी इनबिल्ट होता.

सरकार ने पूछा, ऐसे नेता हैं कहां?

नेताओं की सर्वदलीय समिति के पत्र के जवाब में सरकार ने पूछा है कि ऐसे नेता हैं कहां? सरकार ने कहा कि हमें तो ये न किसी सरकार में नजर आते हैं, न किसी पार्टी में प्रमुख पदों पर. अगर दो-चार कहीं होंगे भी इधर-उधर कोने में पड़े होंगे. हमें इसकी चिंता में दुबले नहीं होकर राष्ट्रहित में जुटे रहना चाहिए.

(Disclaimer : जाहिर-सी बात है, यह फेक न्यूज है. इसका मकसद केवल राजनीतिक कटाक्ष करना है, किसी नेता की मानहानि करना नहीं.)

साभार: हिंदी सटायर डॉट कॉम   

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।