सियासत के सितारे. कौन बनेगा प्रधानमंत्री? सवाल का जवाब ज्योतिष के आधार पर तलाशने पर केवल अर्धसत्य ही नजर आ सकता है, क्योंकि इसका फैसला सार्वजनिक और व्यक्तिगत सितारों की प्रबलता पर निर्भर है! लिहाजा, ऐसी भविष्यवाणियां अक्सर गलत साबित होती हैं जो वर्तमान नेतृत्व को देख कर की जाती हैं, कारण? हजारों नेताओं में किसके व्यक्तिगत सितारे बुलंद हैं, यह जानना संभव नहीं है! लेकिन... जो सियासी चेहरे इस वक्त चर्चा में हैं, उनके सार्वजनिक सितारे क्या कहते हैं? उससे उनके अच्छे दिनों का अंदाज जरूर लगाया जा सकता है! गुरु ग्रह गोचरवश 11 अक्टूबर 2018 से वृश्चिक राशि में हैं जो तुला, कर्क, वृष, मीन और मकर राशि/लग्न वालों के लिए सफलता का संदेश लेकर आए हैं, कितनी कामयाबी? यह इस बात पर निर्भर है कि व्यक्तिगत जन्म कुंडली में गुरु कितना कारक या अकारक है!

उधर, प्रजातंत्र में सत्ता के प्रमुख सितारे ग्रह- शनि धनु राशि में हैं जो तुला, कर्क और कुंभ राशि/लग्न वालों के लिए बेहतर नतीजे दे रहे हैं? राहु मार्च- 2019 में मिथुन राशि में चले जाएंगे तो केतु धनु राशि में होंगे. राहु मेष, मकर और सिंह के लिए लाभदायक होंगे तो केतु धनु, वृश्चिक, तुला, कन्या, सिंह, मिथुन, मेष और कुंभ राशि/लग्न वालों के लिए कामयाबी का परचम लहराएंगे! शेष ग्रहों का गोचर एक राशि में कम समय के लिए होता है, इसलिए ये लंबी गणना में उतने प्रभावी नहीं है, अलबत्ता चुनाव परिणाम के समय सूक्ष्म गणना में इनका विशेष उपयोग है!

जाहिर है, सियासत के सितारे आम चुनाव- 2019 में, प्रभावी तुला राशि (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) के लिए अच्छा संदेश लेकर आ रहे हैं! क्योंकि, राहु इस दौरान तुला राशि के समर्थन में नहीं हैं, लिहाजा गुप्त विरोधियों से सतर्क रहने की जरूरत पड़ेगी? वैसे तो प्रभावी राशि और जन्म पत्रिका के ग्रह-योग ही व्यक्ति के जीवन में प्रमुख भूमिका निभाते हैं, लेकिन राजनीति में क्योंकि नाम प्रमुखता से प्रभावी होता है, इसलिए नाम राशि ही प्रभावी राशि मानी जा सकती है? इस हिसाब से आम चुनाव- 2019 के दौरान राजनाथ सिंह, राहुल गांधी, रामदेव बाबा आदि के सार्वजनिक सितारे बुलंद रहेंगे! यदि इनके व्यक्तिगत सितारों ने साथ दिया तो वे सर्वोच्च सफलता हांसिल करने में कामयाब रहेंगे?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।