New Delhi. Supreme Court on friday allowed entry of women of all ages into the Ayyappa temple at Sabarimala in Kerala. The five-judge constitution bench headed by Chief Justice Dipak Mishra, in its 4:1 verdict, said banning entry of women to Kerala's Sabrimala temple is gender discrimination and the practice violates rights of Hindu women. It said religion is a way of life basically to link life with divinity. While Justices R F Nariman and D Y Chandrachud concurred with the CJI and Justice A M Khanwilkar, Justice Indu Malhotra gave a dissenting verdict.

The court pronounced its verdict on a clutch of pleas challenging the ban on entry of women of menstrual age in Kerala's Sabrimala temple and said law and society are tasked with the task to act as levellers. The bench passed four sets of separate judgements. The CJI said devotion cannot be subjected to discrimination and patriarchal notion cannot be allowed to trump equality in devotion. He said the devotees of Lord Ayyappa do not constitute a separate denomination.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।