फिल्म का नाम : बत्ती गुल मीटर चालू
डायरेक्टर: श्री नारायण सिंह  
स्टार कास्ट: शाहिद कपूर, श्रद्धा कपूर, दिव्येंदु शर्मा, यामी गौतम
अवधि: 2 घंटा 55 मिनट
सर्टिफिकेट: U/A
रेटिंग: 2.5 स्टार

श्री नारायण सिंह के निर्देशन में  बिजली बिल के गंभीर मुद्दे पर आधारित फिल्म "बत्ती गुल मीटर चालू" बनाई है. ये फिल्म शूटिंग के दौरान से ही बहुत सारे विवादों में फंसी हुई थी. अंततः ये रिलीज हो गई है. ज्यादातर टाइम बिजली नहीं आने के बावजूद मोटी रकम के बिजली बिल भरने वाले पीड़ित यूं तो आपको देश के किसी भी इलाके में मिल जाएंगे, लेकिन फिल्म 'बत्ती गुल मीटर चालू' की कहानी उत्तराखंड के इंडस्ट्रियल इलाके में बिजली कंपनियों की मनमानी पर आधारित है. 

कहानी- फिल्म की कहानी उत्तराखंड के टिहरी जिले की है. कहानी तीन दोस्तों सुशील कुमार पंत (शाहिद कपूर), ललिता नौटियाल (श्रद्धा कपूर) और सुंदर मोहन त्रिपाठी (दिव्येंदु शर्मा) की है. ये एक-दूसरे के जिगरी यार हैं. उत्तराखंड में बिजली की समस्या काफी गंभीर है और ज्यादातर बिजली कटी हुई ही रहती है. सुंदर की फक्ट्री के बिजली का बिल हमेशा ज्यादा आता है और एक बार तो 54 लाख रुपये तक का बिल आ जाता है. इस वजह से वो शिकायत तो दर्ज करता है, लेकिन उसकी बात सुनी नहीं जाती. एक ऐसा दौर आता है जब वह बेबसी में आत्महत्या कर लेता है. इस वजह से सुशील और ललिता अपने दोस्त के इस केस को लड़ने का फैसला करता है. कोर्टरूम में उसकी जिरह वकील गुलनार (यामी गौतम) से होती है. आगे की कहानी जानने के  लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

फिल्म में एक बड़े अहम मुद्दे की तरफ ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की गई है. फिल्म में उत्तराखंड की लोकेशन अच्छी तरह से दिखाई गई है. कोर्टरूम के कुछ सीन्स बहुत अच्छे बने हैं. वहीं शाहिद कपूर, श्रद्धा कपूर और दिव्येंदु की बॉन्डिंग अच्छी दिखाई गई है. तीनो एक्टर्स ने किरदार के हिसाब से खुद को ढाला है, जो की पर्दे पर नजर भी आता है.  

कमजोर कड़ियां- फिल्म की कमजोर कड़ी इसका एडिटिंग है. तीन घंटे की फिल्म है, जिसे कम से कम 50 मिनट छोटा किया जाना चाहिए था. साथ ही जिस तरह से अहम मुद्दे के बारे में बात करने की कोशिश की गई है वो फिल्मांकन के दौरान कहीं न कहीं खोता नजर आता है. संवादों में बार-बार 'बल' और 'ठहरा' शब्दों का प्रयोग किया गया है. जिसकी वजह से किरदारों के संवाद कानो में चुभते हैं. फिल्म को पूरे भारत के लिए बनाया गया है, लेकिन फ्लेवर सिर्फ एक ही शहर का है. लेखन में लिबर्टी लेकर संवादों को सामान्य किया जा सकता था. एक बहुत अच्छी फिल्म बन सकती थी, लेकिन औसत रह गई.

बॉक्स ऑफिस

फिल्म का बजट करीब 40 करोड़ बताया जा रहा है. इसे बड़े पैमाने पर रिलीज किए जाने की बात सामने आ रही है. देखना दिलचस्प होगा कि आखिर शाहिद कपूर और श्रद्धा कपूर की मौजूदगी से फिल्म को कितना फायदा मिलता है.  

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।