रायपुर. भारत में कानूनी मदद के नाम पर प्रति व्यक्ति मात्र 0.75 रूपए ही खर्च होते हैं. राष्ट्रमंडल मानवाधिकार पहल की ओर से जारी रिपोर्ट में यह तथ्य सामने आया है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि बिहार, सिक्किम और उत्तराखंड जैसे राज्यों में विधिक सेवा प्राधिकारो को आवंटित धनराशि में से 50 फ़ीसदी से भी कम खर्च किया गया है. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण को आवंटित धनराशि में 14 फ़ीसदी राशि खर्च नहीं की जाती है. इस मसले पर चर्चा करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायाधीश एस मुरलीधर ने कहां है कि कानूनी मदद मुहैया कराने वाले वकील मानवाधिकार के रक्षक है और जरूरत है कि उन्हें भी लोक अभियोजकों के स्तर का भुगतान किया जाए.

राष्ट्रमंडल मानवाधिकार पहल की रिपोर्ट सलाखों के पीछे उम्मीद में बताया गया है कि बिहार, सिक्किम और उत्तराखंड जैसे राज्यों ने आवंटित धनराशि में से 50 फ़ीसदी से भी कम खर्च किया है. जबकि 520 जिला विधिक सेवा प्राधिकार ओ् मैसेज सिर्फ 339 में पूर्णकालिक सचिव है ताकि कानूनी मदद सेवाओं की आपूर्ति का प्रबंधन किया जा सके. यह रिपोर्ट दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश ए पी शाह ने जारी की है. इस रिपोर्ट के लेखक राजा बग्गा ने मुख्य परिणामों की चर्चा करते हुए कहा कि वर्तमान में कोई राष्ट्रीय योजना नहीं है जो पुलिस स्टेशन में कानूनी सहायता प्रदान करने के लिए एक तंत्र स्थापित कर सके.

उन्होंने बताया कि आरटीआई को जवाब देने वाले 60 फीसदी जिलों ने एक निगरानी समिति गठित की गई है. वकीलों द्वारा प्रदान की गई कानूनी सहायता की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक मामले की समीक्षा करने के लिए निगरानी समितियां है. उन्होंने बताया कि समितियों में से केवल 16% के पास कर्मचारी थे और मात्र 23% ने रजिस्टर मेंटेन किया था. रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि भारत का प्रति व्यक्ति वकील अनुपात दुनिया के अधिकांश देशों की तुलना में बेहतर है. भारत में लगभग 18 लाख वकील है.

जिसका मतलब है कि प्रत्येक 736 व्यक्तियों के लिए एक वकील है लेकिन फिर भी कई लोगों को कानूनी सहायता लंबे समय तक नहीं मिल पाती. देश में 61 हजार 593 पैनल वकील और 9लाख 56 हजार रिमांड वकील है और इसीलिए 18 लाख वकीलों में से 31016 9:00 5% वकील कानूनी सहायता के लिए है. रिपोर्ट में यह भी जानकारी दी गई है कि प्रति 18हजार 609 लोगों पर एक कानूनी सहायता के लिए वकील है. पैरालीगल कार्यकर्ता भी एक उपाय है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।