इनदिनों. तीन प्रमुख राज्यों- एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव और आम चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पीएम नरेन्द्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी नेताओं को भरोसा दिलाया कि चुनाव में उनकी जीत पक्की है? और जनता मौकापरस्त महागठबंधन को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है! 

खबर है कि... कार्यकारिणी में राजनीतिक प्रस्ताव के तहत- विजन 2022, रखा गया. प्रस्ताव में कहा गया है कि 2022 तक देश से जातिवाद, संप्रदायवाद, आतंकवाद और नक्सलवाद खत्म होगा, लेकिन राजनीतिक प्रस्ताव में राम मंदिर का जिक्र नहीं है? इस मौके पर अमित शाह ने चुनावी जीत के मंत्र दिए, उन्होंने कहा कि- 22 करोड़ परिवारों से हमें संपर्क करना है, इस तरह हर परिवार से हमें जुडऩा है. 9 करोड़ कार्यकर्ताओं का डेटा बेस हमारे पास है. 2014 के बाद हमने कतई विश्राम नहीं किया. पीएम बनने के बाद 300 लोकसभा का दौरा किया है. चुनाव तक पीएम सभी 543 लोकसभा क्षेत्रों का दौरा कर लेंगे. हम इतनी मेहनत कर रहे हैं, 2019 फिर से जीतेंगे, हमें 50 साल तक कोई नहीं हरा सकता है? स्थापना के बाद महज दो सीटें जीतने वाली भाजपा वर्तमान में 19 राज्यों और देश के 70 फीसदी भूभाग पर काबिज है!

माना कि शाह की बात में दम है, लेकिन थोड़ा कम है, वजह? आम चुनाव 2019 के बाद ही यह तय हो पाएगा कि देश की असली सियासी तस्वीर का रंग क्या है? जहां तक राज्यों का सवाल है, आधा दर्जन राज्य जोड़-तोड़ की राजनीति पर निर्भर हंै, जो केन्द्र की सत्ता बदलते ही कब बदल जाएं, पता नहीं! यूपी में सपा-बसपा संयुक्त रूप से भाजपा की केन्द्रीय सत्ता का रंग बदलने के अभियान में जुटी हुई हैं? तो, आधा दर्जन राज्यों का कलर बदलने के लिए कांग्रेस बेताब है!

जाहिर है, 2019 के लोकसभा चुनाव और उसके बाद होने वाले विभिन्न राज्यों के विधानसभा चुनाव होने के बाद ही देश में राजनीति का असली रंग नजर आएगा!

आइए, लोकसभा चुनाव- 2014 के नतीजों पर एक नजर डालते हैं...

पीएम मोदी के नेतृत्व में भाजपा ने तीस साल का रेकॉर्ड तोड़ते हुए अपने दम पर एकल बहुमत हासिल कर लिया. एनडीए को कुल 337 सीटों पर जीत मिली तो दस सालों से लगातार सत्ता में रही कांग्रेस का सबसे बुरा प्रदर्शन रहा! 

*कुल सीटें- 543

*एनडीए- 336 सीटें

*यूपीए-  60 सीटें

*अन्य- 147 सीटें

......................................

*भाजपा- 282 सीटें (अब तक का सर्वश्रेष्ठ)

*कांग्रेस- 44 (अब तक का सबसे खराब)

*एआईएडीएमके- 37 सीटें

*शिवसेना- 18 सीटें

*एनसीपी- 6 सीटें

*तृणमूल कांग्रेस- 34 सीटें

*टीडीपी- 16 सीटें

*आरजेडी- 4 सीटें

*बीजू जनता दल- 20

*एलजेपी- 6 सीटें

*जेएमएम- 2 सीटें

*टीआरएस- 11 सीटें

*शिरोमणि अकाली दल- 4 सीटें

*आईयूएमएल- 2 सीटें

*सीपीएम- 9 सीटें

*आरएलएसपी- 3 सीटें

*केरल कांग्रेस (एम) - 1 सीट

*वाईएसआर कांग्रेस- 9 सीटें

*अपना दल- 2 सीटें

*आरएसपी- 1 सीट

*समाजवादी पार्टी- 5 सीटें

*पीएमके- 1 सीट

*आम आदमी पार्टी- 4 सीटें

*एनपीएफ -1 सीट

*एआईयूडीएफ- 3 सीटें

*एनपीपी- 1 सीट

*जेकेपीडीपी- 3 सीटें

*स्वाभिमानी पक्ष- 1 सीट

*जेडी(यू)- 2 सीटें

*एआईएनआरसी- 1 सीट

*जेडी (एस)- 2 सीटें

*आईएनएलडी- 2 सीटें

*सीपीआई - 1 सीट

*एसडीएफ - 1 सीट

*एआईएमआईएम- 1 सीट

*निर्दलीय- 3 सीटें

जाहिर है, अगले आम चुनाव में भाजपा अपना ऐसा प्रदर्शन नहीं दोहरा सकेगी? यही नहीं, इसके बाद होने वाले प्रादेशिक चुनावों में भी भाजपा के लिए संभावनाएं कमजोर हैं, मतलब? इस वक्त भाजपा अपने अधिकतम पर बैठी है और देश के तकरीबन सत्तर प्रतिशत भूभाग पर उसका कब्जा है, आने वाले चुनाव ही बताएंगे कि कितने भूभाग पर भाजपा अपनी सत्ता बचा पाती है?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।