पलपल संवाददाता, जबलपुर. कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज ने सीएम हैल्पलाइन में विभिन्न विभागों से संबंधित शिकायतें लंबे समय से लंबित रहने को लेकर नाराजगी जताई है. समय-सीमा बैठक में सीएम हैल्पलाइन की लंबित शिकायतों की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने अधिकारियों के क्षमतावान होने के बावजूद उनमें प्रतिबद्धता की कमी के चलते शिकायतों का समय से निराकरण न हो पाने को खेदजनक निरूपित किया.

श्रीमती भारद्वाज ने समीक्षा के दौरान खाद्य, कृषि, उद्यानिकी और आदिवासी विकास विभाग के अधिकारियों द्वारा सीएम हैल्पलाइन शिकायतों के निराकरण में अपेक्षित रूचि नहीं लिए जाने को लेकर अप्रसन्नता व्यक्त की. उन्होंने सहायक आयुक्त आदिवासी विकास को इस संबंध में अधिक परिश्रम कर लंबित शिकायतों का शीघ्र निराकरण करने के निर्देश दिए. श्रीमती भारद्वाज ने काफी अरसे से लंबित छात्रवृत्ति संबंधी शिकायत को लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए इस मामले में तत्काल आवश्यक कार्यवाही के लिए सहायक आयुक्त को पाबंद किया. अगस्त माह में सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों का एक तहसीलदार तथा दो नायब तहसीलदारों द्वारा उनके स्तर पर एक भी संतुष्टिकारक निराकरण नहीं किए जाने पर कलेक्टर ने सम्बन्धितों की दो-दो वेतनवृद्धियां रोके जाने के लिए नोटिस जारी करने के निर्देश दिए. श्रीमती भारद्वाज ने शिक्षा विभाग में भी हैल्पलाइन शिकायतों के निराकरण की स्थिति को शोचनीय करार देते हुए तुरंत सुधार के लिए पहल किए जाने की जरूरत पर जोर दिया.

बैठक में कलेक्टर ने चने के लंबित भुगतान को लेकर संबंधित अधिकारियों को तत्काल आवश्यक कदम उठाने को कहा. उन्होंने बिजली कंपनी के अफसरों को सख्ती से ताकीद की कि सात दिन के अंदर ग्रामीण क्षेत्रों के सभी खराब ट्रांसफार्मर बदले जाना सुनिश्चित करें. उन्होंने खाद्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिन ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क न होने के कारण राशन सामग्री के वितरण में दिक्कतें पेश आ रहीं हैं वहां ऑफलाइन वितरण किया जाए. श्रीमती भारद्वाज ने सीईओ जिला पंचायत हर्षिका सिंह को पेंशन संबंधी शिकायतों का निराकरण कराने के लिए उपयुक्त कदम उठाने को कहा. जिला पेंशन अधिकारी को निर्देशित किया गया कि शिक्षकों की लंबित शिकायतों का प्राथमिकता से निराकरण सुनिश्चित किया जाए.

बैठक में कलेक्टर ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि किसी भी प्रकार की शासकीय संपत्तियों पर नारे अथवा अन्य प्रकार केे लेखन को संबंधित विभाग प्रमुख तीन दिन में मिटवा कर आवश्यकतानुसार पुताई करायें. इनमें स्कूल, सरकारी दफ्तर या अन्य सरकारी इमारतें शमिल हैं. तीन दिन में निर्देशित कार्यवाही कर अधिकारियों को इसकी रिपोर्ट उप जिला निर्वाचन अधिकारी नमरूशिवाय अरजरिया को प्रस्तुत करनी होगी.

निर्वाचन की पूर्व तैयारियों के प्रति गंभीरता बरतें

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती भारद्वाज ने अधिकारियों को आगाह किया कि वे निर्वाचन की पूर्व तैयारियों के प्रति पूरी गंभीरता बरतें. उन्होंने सभी शासकीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों के नाम निर्वाचक नामावलियों में जुड़वाने सम्बन्धी निर्देशों के पालन में विभाग प्रमुखों द्वारा की गई पहल की बाबत् ब्यौरा तलब किया. उन्होंने निर्देश दिए कि विभाग प्रमुखों को अगले सप्ताह तक इस सिलसिले में प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करना होगा. बैठक में सीईओ जिला पंचायत हर्षिका सिंह, अपर कलेक्टर व्हीपी द्विवेदी, सरोधन सिंह और एफ राहुल हरिदास तथा सभी विभाग प्रमुख मौजूद थे.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।