नई दिल्ली. पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस समेत विपक्ष दलों के बंद के दौरान कई जगह हिंसक झड़पे हुई है. इस भारत बंद की अगुवाई कांग्रेस पार्टी कर रही है, जिसके साथ करीब 20 राजनीतिक पार्टियों का समर्थन है. कांग्रेस सूत्रों से मिली खबर में बताया गया है कि यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के कई बड़े नेता आज धरना दे सकते हैं. 

इधर खबर आ रही है कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों और महंगाई के खिलाफ आज कांग्रेस की ओर से बुलाए गए भारत बंद की अगुवाई के लिए पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी राजघाट पहुंचे. राहुल गांधी बीते कुछ दिनों से मानसरोवर की यात्रा पर गए हुए थे और वहां से लौटकर वह सीधे बंद का समर्थन करने के लिए सड़कों पर उतर आए हैं. कांग्रेस अध्यक्ष ने राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी और उन्होंने कैलाश झील से लाए गए जल को बापू की समाधि पर चढ़ाया. इसके बाद उन्होंने मार्च की अगुवाई की. राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं समेत विपक्ष के के कई नेता भी राजघाट से महंगाई के खिलाफ मार्च पर निकल चुके हैं. यह मार्च रामलीला मैदान तक जाएगा. 

बिहार से आ रही खबर में बताया गया है कि बंद के दौरान पटना में सांसद पप्पू यादव ने भारत बंद के दौरान प्रदर्शन किया, उन्होंने अपने समर्थकों के साथ ट्रेन रोक दी. इधर महाराष्ट्र में विपक्ष का भारत बंद बेहद आक्रामक और हिंसक रूप ले लिया है. राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकतार्ओं ने पुणे में कई बसों में पत्थरबाजी की. महाराष्ट्र में कई स्थानों से आगजनी की भी खबर आ रही है. दक्षिण राज्य केरल में भी विपक्ष के भारत बंद का असर देखने को मिल रहा है. 

केरल में सुबह 6 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक भारत बंद रहेगा. राज्य में अधिकतर जगह दुकानें बंद हैं इसके साथ ही राज्य की बस सेवा पूरी तरह ठप है. बिहार के दरभंगा में प्रदर्शनकारियों ने कमला फास्ट पैसेंजर को रोका और रेल की पटरियों पर लेट गए. बिहार के जहानाबाद में राजद कार्यकर्ताओं ने रेलवे ट्रैक पर आगजनी की है, जिसके कारण कई गाडिय़ों के परिचान पर अवरोध के खतरे मंडराने लगे हैं. बिहार के खगडिय़ा में बंद समर्थकों ने एनएच 31 को जाम किया. यही नहीं आरजेडी के कार्यकत्र्ताओं ने बस स्टेंड पर प्रदर्शन किया है. 

कर्नाटक के मेंगलुरु में कुछ उपद्रवियों ने एक प्राइवेट बस पर पत्थर फेंके हैं. कांग्रेस नेता अशोक गहलोत का कहना है कि हम प्रदर्शन के जरिए मोदी सरकार पर दबाव बनाना चाहते हैं ताकि वे पेट्रोल-डीजल के दाम कम करें. जिस तरह उन्होंने हमारे दबाव के कारण राजस्थान में वैट में कटौती की है. उन्होंने कहा कि बीजेपी की बैठक में पेट्रोल-डीज़ल की बात ही नहीं की गई. उन्होंने कहा कि यह बेहद खतरनाक संकेत है क्योंकि केन्द्र सरकार इसे कोई समस्या ही नहीं मान रही है. कर्नाटक के कलबुर्गी में भारत बंद का व्यापक असर है. यहां बस सर्विस पूरी तरह से ठप है. 

बंद के दौरान गुजरात के अहमदाबाद में सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है. यहां के इसनपुर में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने स्कूल बंद करवाया, इसके अलावा भी कई प्राइवेट स्कूलों की छुट्टी घोषित की गई है. गुजरात में कई स्थानों से हिंसक झड़पों की खबर आ रही है. ओडिशा के भुवनेश्वर में भारत बंद का असर व्यापक रूप से देखने को मिल रहा है. सड़कों पर विपक्षी पार्टियों के कार्यकत्र्ता प्रदर्शन कर रहे हैं ओर कई ट्रेन के परिचालन को रोक दिया गया है. 

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में सीपीआई (एम) के कार्यकर्ताओं ने सुबह-सुबह प्रदर्शन किया. यहां भी बंद का असर देखने को मिल रहा है. इधर दिल्ली में बंद का असर साफ-साफ दिख रहा है. पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में भी बंद के व्यापक असर की खबर है. इसके अलावा उत्तर पदेश और उत्तराखंड में भी बंद के असर देखने को मिल रहे हैं. हालांकि यहां से अभी तक कोई हिंसक वारदात की खबर नहीं आयी है. 

कर्नाटक सरकार ने बंद के चलते सोमवार को सभी शिक्षण संस्थानों में छुट्टी का ऐलान कर दिया है. सरकारी दफ्तरों में भी छुट्टी रहेगी. इधर, आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के इस बंद से किनारा कर लिया है. भारत बंद से कई चीजों को बाहर रखा गया है. इसमें दवा की दुकान अस्पताल और एंबुलेंस को राहत दी गई है, ताकि मरीजों और तीमारदारों को किसी तरह की समस्या न हो.

कांग्रेस ने भारत बंद में देश की करीब 20 विपक्षी पार्टियों के समर्थन का दावा किया है. जिन पार्टियों के समर्थन का कांग्रेस ने दावा किया है उसमें  - डीएमके, जनता दल (सेक्युलर), राष्ट्रीय जनता दल, राष्ट्रवादी कांग्रेस

- समाजवादी पार्टी,  महामहाराष्ट्र नवनिर्माण सेना, झारखंड मुक्ति मोर्चा

- तृणमूल कांग्रेस , डीएमके, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी,

- बहुजन समाज पार्टी , राष्ट्रीय लोकदल , झारखंड विकास मोर्चा , केरल कांग्रेस (केसीएम)

- राष्ट्रीय समता पार्टी, शरद यादव की लोकतांत्रिक जनता दल, एआईडीयूएफ,

- स्वाभिमान पक्ष, और आम आदमी पार्टी समेत कुल 20 पार्टियां शामिल हैं

- इन सबके अलावा कांग्रेस दावा कर रही है कि कई चैंबर ऑफ कॉमर्स और कई मजदूर संगठनों का भी उसे साथ मिला है.

वहीं पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस, नवीन पटनायक की बीजू जनता दल, महाराष्ट्र सरकार में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना, नीतीश कुमार की जनता दल (यू) और दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने इस बंद का विरोध किया है. आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को ही स्पष्ट कर दिया था कि वह कांग्रेस द्वारा बुलाए गए सोमवार के भारत बंद में शामिल नहीं होगी. वहीं, पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने कहा है कि जिन मुद्दों पर बंद बुलाया जा रहा है, वह उस पर साथ है, लेकिन पार्टी सुप्रीमो और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की घोषित नीति के मुताबिक वह राज्य में किसी तरह की हड़ताल के खिलाफ है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।