नई दिल्ली. नीरजा भनोट का नाम सुनते ही शरीर में एक सिरहन-सी होने लगती है. आंखें नम और सिर गर्व से झुक जाता है कि इतनी छोटी-सी उम्र कोई इतना बहादुर हो सकता है. अपनी जान की परवाह किए बिना नीरजा ने 360 लोगों की जिंदगी बचाई थी. 7 सितंबर, 1963 को चंडीगढ़ के एक पंजाबी परिवार में जन्मी नीरजा ने आज से 32 साल पहले यानी 5 सितंबर, 1986 को अपनी जिंदगी गंवा हाईजैक हो चुके प्लेन में मौजूद लोगों की जान बचाई थी. नीरजा की कराची में आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. वे पैन अमेरिकन वर्ल्ड एयरवेज की कर्मचारी थीं. मुंबई से न्यूयॉर्क जा रहे पैन एम फ्लाइट 73 को कराची में चार आतंकियों ने हाईजैक कर लिया तब वे प्लेन में सीनियर एयर होस्टेस थीं. उन्होंने प्लेन में सवार 360 पैसेंजर्स की जान बचाई थी.

आतंकियों के प्लान को किया फेल

आतंकी प्लेन को इजराइल में किसी निर्धारित जगह पर क्रैश कराना चाहते थे लेकिन नीरजा ने उनका प्लान फेल कर दिया. इस घटना से बचकर निकले यात्री माइकल थेक्सटन ने एक बुक लिखी थी. इस बुक में माइकल ने दावा किया कि उन्होंने हाईजैकर्स को बात करते हुए सुना था कि वे जहाज को 9/11 की तरह इजराइल में किसी निर्धारित निशाने पर क्रैश कराना चाहते थे. हाईजैक के दौरान आतंकियों ने नीरजा और उसकी सहयोगियों को बुलाया और कहा कि वो सभी यात्रियों के पासपोर्ट इकट्ठा करें ताकि वो किसी अमेरिकन नागरिक को मारकर पाकिस्तान पर दबाव बना सकें. नीरजा ने सभी यात्रियों के पासपोर्ट इकट्ठे किए लेकिन विमान में बैठे 5 अमेरिकी यात्रियों के पासपोर्ट छुपाकर बाकी सभी आतंकियों को सौंप दिए. आतंकियों ने एक ब्रिटिश को विमान के गेट पर लाकर पाकिस्तानी सरकार को धमकी दी कि यदि पायलट नहीं भेजा तो वह उसको मार देंगे. लेकिन नीरजा ने उस आतंकी से बात करके ब्रिटिश नागरिक को भी बचा लिया.

अंधेरे में गोलियां चलाते रहे आतंकी

जब 4 हथियारबंद लोगों ने प्लेन को हाईजैक किया तब फ्लाइट में 360 यात्री और 19 क्रू मेंबर्स थे. प्लेन हाईजैक के बाद चालक दल के तीनों सदस्य यानी पायलट, को-पायलट और फ्लाइट इंजीनियर कॉकपिट छोड़कर भाग गए थे. प्लेन का फ्यूल समाप्त हो गया और अंधेरा छा गया. नीरजा इसी वक्त का इंतजार कर रही थी. अंधेरे में उसने तुरंत प्लेन के सारे इमरजेंसी गेट खोल दिए और यात्रियों को उन गेट्स से बाहर कूदने को कहा. यात्रियों को अंधेरे में प्लेन से कूदकर भागता देख आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी. इसमें कुछ यात्री घायल जरूर हुए लेकिन इनमें से 360 पूरी तरह से सुरक्षित थे. सभी यात्रियों को बाहर निकाल नीरजा जैसे ही प्लान से बाहर जाने लगी तभी उन्हें बच्चों के रोने की आवाज सुनाई दी.

दूसरी ओर, पाकिस्तानी सेना के कमांडो भी प्लेन में आ चुके थे. उन्होंने तीन आतंकियों को मार गिराया था. नीरजा ने बच्चों को खोज निकाला और जैसे ही वे प्लेन के इमरजेंसी गेट की ओर बढ़ने लगी. तभी चौथा आतंकी सामने आ गया. नीरजा ने बच्चों को नीचे धकेल दिया और उस आतंकी से भिड़ गई. आतंकी ने नीरजा के सीने में कई गोलियां उतार दीं. नीरजा के इस बलिदान पर भारत ही नहीं पूरा पाकिस्तान भी रोया था. भारत सरकार ने इस बहादुरी के लिए नीरजा को सर्वोच्च वीरता पुरस्कार 'अशोक चक्र' से सम्मानित किया. नीरजा यह पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की महिला रहीं. इतना ही नहीं, नीरजा को पाकिस्तान सरकार की तरफ से 'तमगा-ए-इंसानियत' और अमेरिकी सरकार ने 'जस्टिस फॉर क्राइम अवॉर्ड' से नवाजा.

विज्ञापनों में भी किया काम

नीरजा ने चंड़ीगढ़ के सैकरेड हार्ट सीनियर सेकेंडरी स्कूल (Sacred Heart Senior Secondary School) से स्कूली पढ़ाई की लेकिन उनका पूरा परिवार मुंबई शिफ्ट हो गया. नीरजा ने मुंबई के बॉम्बे स्कॉटिश स्कूल से अपनी आगे की पढ़ाई की और मुंबई के सेंट जेवियर कॉलेज से उन्होंने ग्रैजुएशन की पढ़ाई की. नीरजा को मॉडलिंग असाइनमेंट मिला तो उन्होंने मॉडलिंग में करियर की शुरुआत की. उन्होंने करीब 22 विज्ञापनों में काम किया. नीरजा ने जब फ्लाइट अटेंडेंट की जॉब के लिए 'पैन एएम' में अप्लाई किया तब वह एक सक्सेसफुल मॉडल थीं. नीरजा के ऊपर साल 2016 में अभिनेत्री सोनम कपूर की फिल्म 'नीरजा' रिलीज हुई थी, जिसे काफी पसंद किया गया.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।