विश्वभर में प्राचीन काल से ही मनुष्य ने कई ऐसे भवनों का निर्माण किया है जो अपने आप में किसी आश्चर्य से कम नहीं हैं.

1. पीसा का झुकी मीनार

आधिकारिक तौर पर टोरे पैंडैंटे डी पीसा के नाम से जानी जाती पीसा की मीनार पीसा शहर में स्थित एक बैल टॉवर है. इसे किसी समय विश्व के सात अजूबों में से एक माना जाता था. इसके संबंध में सर्वाधिक आश्चर्यजनक बात यह है कि यह मीनार झुकी हुई है. इसे देख कर ऐसा लगता है कि यह किसी भी क्षण गिर सकती है. लोग 296 और 294 सीढ़ियां चढ़ने के लिए यहां आते हैं ताकि इस पर से आसपास का नजारा ले सकें और शानदार तस्वीरें खींच सकें.

2. पानी पर बसा वेनिस

5वीं शताब्दी के इटली में जिंदगी कोई परी कथा जैसी नहीं था. जब देश में उत्तर-पूर्वी भागों में बाहरी हमलावरों का खतरा मंडराने लगा तो स्थानीय लोगों को किसी निचले स्थान पर सुरक्षित रहने की जरूरत आन पड़ी. ऐसे में दो दरियाओं के दलदली मुहानों पर बनी झील उन्हें खूंखार जंगलियों से बचाने के लिए बहुत सहायक सिद्ध हुई. रोमन शरणार्थियों ने इस झील के आसपास 118 द्वीपों पर अपना जाल फैलाया, उन्होंने इन द्वीपों पर अपना जाल फैलाया, उन्होंने इन द्वीपों को लकड़ी के पुलों से आपस में जोड़ा. तब से सदियों बाद तक वेनिस एक उन्नतिशील शहर के रूप में विकसीत हो गया और अजूबा बन गया है.

3. चीन की महान दीवार

17वीं शताब्दी में अपने समापन के समय यह सबसे बड़ी मानव निर्मित संरचना हैं. चीन की महान दीवार 8850 किलोमीटर लंबी है जो उत्तर चीन में कोरियाई सीमा से लेकर पश्चिम में गोबी मरूस्थल तक फैली है. वास्तव में इसकी शुरूआत छोटी-छोटी दीवारों की एक क्षृंखला के तौर पर की गई थी जिसे चीनी सामंतों ने अपनी जमीन की रक्षा हेतु बनवाना शुरू किया था. जैसे ही चीन एक संयुक्त साम्राज्य बना इन दीवारों को जोड़ कर इनकी किलेबंदी कर दी गई ताकि दुश्मनों को खदेड़ा जा सकें. इन दुश्मनों में मंगोलियाई तथा मांचू सेनाएं शामिल थीं. असंख्य ईंदों तथा पत्थरों से बनी कई टावरों से सुरक्षित यह महान दीवार इंजीनियरिंग का एक शानदार प्राचीन नमूना है.

4. नारंगी गोल्डन गेट ब्रिज

1937 में अपने खुलने के बाद से भवन निर्माण कला का यह अद्भूत नमूना यानी गोल्डन गेट ब्रिज अमरीका के कैलिफोर्निया में सान फ्रांसिस्को की खाड़ी मेें फैला हुआ है. यह हमेशा से नारंगी रंग का रहा है. इसका रंग नारंगी इसलिए रखा गया है ताकि यहां से गुजरने वाले जहाज इसे दूर से ही देख सकें. साथ ही यह पुल दोनों तरफ की धरती के रंग में अच्छी तरह मिश्रित हो जाता हैं. इसका नाम गोल्डन गेट इसके रंग का वर्णन करने के लिए नहीं ऱखा गया. यह उस जलमरूस्थल का नाम है जो प्रशांत महासागर से सान फ्रांसिस्को की खाड़ी का प्रवेश द्वार है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।