उसमें हो थोड़ी जगह मंदिर की भी और मज़ार की भी

मैं धर्म की दलील देकर इन्सान को झुठला नहीं सकता 

मुझको तमीज है मजहब की भी और इंसानियत की भी 

ज़मीर भी गर बिकता है तो अब बेच आना प्रजातंत्र का 

मुझको समझ है सरकार की भी और व्यापार की  भी 

जो मेरा है मुझे वही चाहिए ना  कि तुम्हारी कोई भीख 

मुझे फर्क पता है उपकार की भी और अधिकार की भी 

वोटों की बिसात पर प्यादों के जैसे इंसां ना उछाले जाएँ 

मुझको मालूम है परिभाषा स्वीकार और तिरस्कार की भी 

अपने दिल को पालो ऐसे  की खून की जगह ख़ुशी बहे 

उसमें हो थोड़ी जगह मंदिर की भी और मज़ार की भी 

सलिल सरोज

salilmumtaz'gmail.com

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।