आपने अकसर किसी पूजा में पंचामृत का सेवन ज़रूर किया होगा, लेकिन क्या कभी यह जानने की कोशिश की है कि पंचामृत पूजा में क्यों अहम मानी जाती है और क्या है इसे ग्रहण करने के नियम व सावधानियां.

दरअसल, पांच तरह की विशेष चीज़ों को मिलाकर ही पंचामृत का निर्माण किया जाता है और वह चीजें हैं – दूध, दही, मधु, शक्कर और घी. लोग अलग-अलग तरह से पंचामृत देवी देवताओं को ज़रूर अर्पित करते हैं और उसके निर्माण करने की परंपरा भी बहुत खास होती है. जान लें कि मुख्य रूप से श्री हरि की पूजा में पंचामृत का विशेष प्रयोग होता है. वहीं, बिना पंचामृत के श्री हरि या उनके किसी भी अवतारों की पूजा नहीं सफल नहीं हो सकती है. बता दें कि पंचामृत के विशेष प्रयोग से आपकी हर तरह की समस्याएं दूर हो सकती हैं.

दूध

• यह शरीर को पुष्ट करता है.

• शरीर के अन्दर मौजूद विष को दूर करता है.

• मन को शांत करके तनाव दूर करता है.

दही

• यह हमारी पाचन तंत्र को मजबूत करता है.

• एकाग्रता को तो बेहतर करता  है और सुख की वृद्धि भी करता है.

• त्वचा और चेहरे को कांतिवान बनाने में मदद करता है.

मधु (शहद)

• यह हमारी शरीर में मौजूद बढ़ी हुई चर्बी को हटाता है.

• आध्यात्म भाव को व साथ ही धर्म के प्रति झुकाव को मजबूत करता है.

• यही नहीं, परिवार के लोगों के साथ संबंध भी मजबूत करता है.

शक्कर

• उर्जा के स्तर को बनाये रखने में मदद करता है व आलस्य को कम करता है.

• वाणी को मधुर करता है और अनुशासित भी रखता है.

• आपकी नींद से जुड़ी समस्याएं को दूर करता है.

 घी

• यह हमारी शरीर को बल और पुष्टि देता है.

• वहीं, हड्डियों को मजबूत बनाये रखने में भी मदद करता है.

• यह नेत्र ज्योति को भी बनाये रखता है.

पंचामृत का प्रयोग कैसे करें

• ध्यान रहे कि पंचामृत का निर्माण सूर्यास्त के पूर्व ही करना चाहिए.

• बता दें कि दूध के लिए गाय का दूध प्रयोग करना ज्यादा उत्तम माना जाता है.

• पंचामृत बन जाने के बाद उसमें तुलसी और गंगाजल भी अवश्य से डालें.

• वहीं, अगर शालिग्राम है तो उसे पंचामृत में स्नान कराना ना भूलें.

• और अगर शालिग्राम नहीं है तो पंचामृत में एक चांदी का सिक्का डालें और भाव लें की इसके माध्यम से श्री हरि को स्नान करा रहे हैं.

• अब भगवान श्री हरि को सच्चे मन से स्मरण करें और पंचामृत को ग्रहण करें.

पंचामृत ग्रहण करने के खास 3 नियम

• पंचामृत हमेशा दोनों हाथों से ही ग्रहण करें.

• पंचामृत को भूलकर भी भूमि पर न गिरने दें.

• पंचामृत को ग्रहण करने के बाद दोनों हाथों से शिखा को स्पर्श भी ज़रूर से करें.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।