काफी मेहनत और संघर्षों के बाद भी अगर आपकी तरक्की नहीं हो रही है तो इसका मतलब ये नहीं है कि आपकी मेहनत में कोई कमी है या फिर आपकी किस्मत ही खराब है.

क्योंकि वास्तुशास्त्र के मुताबिक कई ऐसी चीजें आपके घर में ही मौजूद होती हैं जो आपकी तरक्की की राह में रोड़ा बनती हैं. ये चीजें काफी मेहनत के बाद भी आपको वित्तिय लाभ पहुंचाने से रोकती हैं. चलिए हम आपको बताते हैं वास्तुशास्त्र के मुताबिक उन 10 चीजों के बारे में, जो मेहनत करने के बावजूद आपकी आर्थिक परेशानियां कम नहीं होने देंगी.

1- कबूतरों का घोंसला

अगर आपके घर या बाल्कनी में कबूतरों ने अपना घोंसला बना लिया है तो वास्तु शास्त्र के मुताबिक इससे घर में आर्थिक समस्या और धन में अस्थिरता बनी रहती है. इसलिए अगर आपके घर में कबूतरों को घोंसला है तो उसे बिना नुकसान पहुंचाए कहीं और रखवा दें.

2- मधुमक्खी का छत्ता

वैसे आमतौर पर मधुमक्खी का छत्ता घरों में कम ही देखने को मिलता है लेकिन अगर आपके घर में मधुमक्खियों ने छत्ता बना लिया है तो ये आपके लिए खतरनाक होने के साथ ही अशुभ भी साबित हो सकता है.

3- मकड़ी का जाला

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में मकड़ी का जाला होना अशुभ माना जाता है. घर में मकड़ी का जाला सेहत के लिए हानिकारक होने के साथ ही भाग्य के लिए भी नुकसानदेह है. अगर आपके घर में किसी मकड़ी ने जाला बना लिया है तो ये संकेत हो सकता है कि आपके जीवन में कुछ दुर्भाग्यपूर्ण होनेवाला है.

4- टूटा हुआ शीशा

अगर आपके घर का कोई शीशा टूटा हुआ है तो इससे आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा की आवाजाही बनी रहेगी जो वास्तु शास्त्र के अनुसार आपकी आर्थिक स्थिति के लिए शुभ नहीं है. इसलिए अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का वास हो और बरकत बनी रहे तो फौरन टूटे हुए शीशे घर से बाहर फेंक दें.

5- चमगादड़ों की मौजूदगी

घर में चमगादड़ों की उपस्थिति घर में विपरित परिस्थितियों का निर्माण करती हैं. इतना ही नहीं यह घर के लोगों के लिए भी दुर्भाग्य का कारक बनते हैं. इसलिए शाम ढलते ही अपने घर के सभी खिड़की और दरवाजों को बंद रखना चाहिए ताकि चमगादड़ आपके घर में घुस ना सकें.

6- टूटी-फूटी दीवारें

अगर आपके घर की दीवारें टूट-फूट गई हैं या फिर उसपर किसी तरह का डेंट और गड्ढा बन गया है तो आपके लिए बेहतर यही होगा कि आप जल्द से जल्द अपने घर की दीवारों की मरम्मत करवा लें.

7- नल से टपकता पानी

आपके घर में अगर नल खराब है या फिर पानी की पाइप लीक हो रही है तो इससे ना सिर्फ पानी की बर्बादी होती है बल्कि यह एक संकेत भी है कि आपके घर से सकारात्मक ऊर्जा बाहर जा रही है. इसलिए अगर ऐसी कोई समस्या है तो उसे जल्दी ठीक कराएं.

8- छत पर कबाड़ का ढ़ेर

यह अक्सर देखा जाता है कि जो चीज घर के काम नहीं आती है उसे फेंकने के बजाय लोग अपने घर की छत पर रख देते हैं. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की छत पर कूडे और कबाड़ का इकट्ठा होना आपकी तरक्की की राह में रोड़ा बन सकता है.

9- बासी और खराब फूल

भगवान को चढ़ाए जानेवाले फूलों को ज्यादा समय तक घर में नहीं रखना चाहिए और ना ही पूजा के लिए बासी फूलों का इस्तेमाल करना चाहिए. इन फूलों का घर में रहना आपके जीवन में दुख लाता है और यह नुकसान होने का संकेत भी है.

10- बिजली की खुली हुई तारें

अगर आपके घर में बिजली की खुली हुई तार है तो संभल जाइए क्योंकि ये आपको बिजली का झटका देने के साथ ही आपकी संपत्ति के लिए भी नुकसानदेह साबित हो सकता है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।