ऐस्ट्रो पॉलटिकल एनालेसिस. भाजपा के खिलाफ जो महागठबंधन का निर्माण हो रहा है उसमे एक बड़ी विचित्र बात यह है की इस महागठबंधन के अधिकतर दल के नेताओ का गठबंधन अर्थात विवाह नही हुआ है,इससे यह बात उभर कर आती है जब खुद का गठबंधन नही हुआ तब वे किसी दूसरे दल को कहां तक निभायेंगे,विवाह एक ऐसा संस्कार है जहां आपस मे एक दूसरे को निभाने की कला सीखी जाती है,इसीलिये इन दलों के प्रमुख जिनका विवाह नही हुआ वे कब तक एक दूसरे को साधेंगे ऐसा कहना मुश्किल है.

देश एक बार फ़िर लोकसभा चुनाव के मुहाने पर खड़ा है,सभी दल अपनी अपनी सेना और अपने वोट बेंक के साथ तैयारी कर रहे है, सत्तारूढ़ दल भाजपा अपने चार साल के विकास के एजेंडे के साथ तैयार है वही इस बार सारे दल मोदी और अमित शाह की रणनीती को भेदने को तैयारी मे है,आइये देखते है सभी दलों के क्षत्रप 2019 मे क्या जौहर दिखायेंगे *नरेंद्र मोदी*- प्रधानमंत्री जिनके खिलाफ ये पूरा चुनाव लड़ा जा रहा है

उन्होने सार्वजनिक जीवन के लिये विवाह होने के बाद उस जीवन को नही जिया साथ ही आजतक वे पूर्ण बहुमत से तथा सत्ता प्रमुख की हैसियत से ही काम किया,चाहे गुजरात हो या फ़िर भारत देश की सत्ता,इन्होने कभी समझौता नही किया,जिन्होने अपने दम पर 2014 का चुनाव जीता उनके लिये सितारे इतनी प्रतिकूल नही साथ ही अभी उनकी कुंडली का स्वर्णिम समय मंगल की महादशा अभी बाकी है तथा ज्योतिष ये कहता है की यदि 2022 से उन्हे सर्वश्रेष्ठ मंगल की दशा बाकी है तो 2019 मे उनके साथ कोई बड़ा नुकसान या उलटफेर नही हो सकता,विरोधी महागठबंधन के झगडे ही उनके लिये फायदेमंद होंगे,मोदीजी की पत्रिका मे एक खास बात है की जब उनके खिलाफ कोई बड़ा षडयंत्र होता है तब वे दूगुनी ताकत से वापसी करते है.

मायावती -बहुजन समाज प्रमुख मायावती अविवाहित है अपने दल मे भी उन्होने किसी को अपने समकक्ष नही आने दिया,मायावती का जन्म 15 जनवरी 1956 को दिल्ली में उनका जन्म हुआ . अपने पिता की इच्छा के विरूद्ध वे मान्यवर कांशीराम जी के कार्यक्रमों से जुड़ी एवं उनका प्रचार प्रसार भी किया . कर्क लग्न एवं मकर राशि की मायावती वर्तमान शनि की साडेसाति के प्रथम ढैया से गुजर रही है,अभी मध्यकाल भोगना है इस समय बुध की महादशा में शुक्र के अंतर से गुजर रही है उनके लिये दिल्ली दूर ही रहेगी, गठबंधन उनके लिये सफल नही क्योंकि उन्होने आज तक खुद गठबंधन नही किया यदि वे शामिल भी होगई तो वे अगस्त 2019 के बाद कभी भी गठबंधन तोड सकती है,जो कि उनकी सोच से तालमेल नही बैठा पायेगा ,अतः वे अलग हो जायेंगी.

राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष अभी तक 48 वसंत पार कर चुके है फ़िर भी वे अविवाहित है,वे महागठबंधन के प्रधानमंत्री उम्मीदवार बनना चाहते है,राहुल गांधी का जन्म 18 जून 1970 को कर्क लग्न एवं वृश्चिक राशि मेष नवांश में हुआ है , वर्तमान मे ये मंगल की महादशा मे है जो उनके लिये कारक है परंतु व्यय स्थान मे तथा नीच राशि की शनि की दृष्टि मे है,फरवरी 2019 से इनकी राशि से आठवां राहु जन्म के सूर्य और मंगल से गुज़रेगा,जो निश्चित रुप से हानिकारक है,सबसे बढ़ी बात है इनका भी गठबंधन नही हुआ इसीलिये मुझे लगता है महागठबंधन इनके लिये घाटे का सौदा रहेगा.

*ममता बनर्जी *पश्चिम बंगाल की तेजतर्रार नेता ममता बनर्जी की स्थिति भी बसपाप्रमुख मायावती जैसी है,इनके सामने किसी का भी टिकना मुश्किल है,ये भी गठबंधन के प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवार बनना चाहती है,पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का जन्म 05 जनवरी 1955 को मकर लग्न में कोलकाटा में हुआ मलग्न के लोगो की विशेषताऐं मकर लग्न वाले आत्मविश्वास से लबरेज होते है शरमाना झिझकना इनके स्वभाव मे नही होता, तथा लम्बे समय तक अपनी रूचि को किसी एक विषय वस्तु पर केन्द्रित नही कर सकते इनके स्वभाव में स्थिरता नही होती इसीलिये ये चलायमान स्वभाव की है, उनके जन्म समय पर शश योग था अतः राजयोग वे अपनी किस्मत में लिखवाकर लाई है वे अपने अकेले के बल पर लगातार बंगाल में सरकार बना रही है,

किसी के अधीन रहकर काम करना पसंद नही इसिलिये वे आज तक लम्बे समय तक किसी गठबंधन मे नही रही,या तो वे गठबंधन की प्रमुख बनेंगी या गठबंधन से अलग रहेगी यदि वे गठबंधन के साथ जुड़ी तो वह गठवंधन खत्म हो जायेगा. *निष्कर्ष*- सभी प्रमुख दलों के नेताओ की पत्रिका का अध्ययन करने के बाद ऐसा प्रतीत होता है,

की आगामी लोकसभा चुनाव मे मोदीजी के नेतृत्व मे भाजपा गठबंधन अच्छा प्रदर्शन करेगा साथ ही विरोधी गठबंधन आपसी मतभेद के कारण 2019 मे मुंह की खायेगा.

प.चंद्रशेखर नेमा"हिमांशु"

9893280184,7000460931

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।