इनदिनों. अभी कांग्रेस की सत्ता वापसी की खबरों ने ऐसा रंग दिखाया है कि कई जगहों पर गुटबाजी के नतीजे में अमर्यादित व्यवहार नजर आने लगा है तो बेलगाम बयानबाजी से मुक्ति मिलती दिखाई नहीं दे रही है? हालांकि, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ऐसी गतिविधियों पर नाराजगी जताई है, लेकिन यह क्रम नहीं रूका तो कई जगहों पर कांग्रेस किनारे पर डूब जाएगी, यही नहीं, गुजरात की तरह हाथ आती सत्ता भी दूर हो सकती है!

वैसे तो विभिन्न बेलगाम नेताओं की अमर्यादित बयानबाजी से तकरीबन सारे सियासी दल परेशान हैं, लेकिन... विविध राजनीतिक कारणों के चलते इनके खिलाफ कार्रवाई शायद ही कर पाते हैं? 

खबर है कि... कुछ समय पहले बसपा सुप्रीमो मायावती ने पीएम नरेन्द्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए अमर्यादित बयानबाजी करने वाले अपने करीबी और बसपा उपाध्यक्ष जेपी सिंह को पार्टी से निष्कासित कर दिया! 

बसपा प्रमुख मायावती ने सिंह को ये बयान देने के तुरंत बाद अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी के सभी पदों से हटा दिया था, पार्टी प्रमुख की अध्यक्षता में हुई बसपा नेताओं की राष्ट्रीय बैठक में अब यह फैसला किया गया. बैठक के बाद पार्टी की ओर जारी बयान के अनुसार अनर्गल बयानबाजी को बसपा के सिद्धांतों के विरूद्ध बताते हुये उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के अनुसार यह फैसला किया गया. 

यही नहीं, पार्टी प्रमुख मायावती ने सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं को किसी भी दल के नेता या व्यक्ति के खिलाफ  और पार्टी की रणनीति के बारे में किसी भी तरह की अनधिकृत बयानबाजी करने से बचने के सख्त निर्देश दिए हैं!

प्रेस रिपोर्टर््स की माने तो... सिंह ने इनदिनों कई बयान दिये थे, जिनके कारण उनके विरूद्ध यह अनुशासनात्मक कदम उठाया गया है. बसपा की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के हवाले से खबरों में सिंह के निष्कासन के पीछे केवल यह बताया जा रहा है कि उन्होंने पीएम मोदी के लिए अमर्यादित टिप्पणी की थी, लेकिन बताया जा रहा है कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी के लिए भी अमर्यादित बयान दिया था?

दरअसल, कुछ समय से देश की राजनीति में बड़ा बदलाव आ रहा है. कुछ समय पहले बसपा की लडख़ड़ाती राजनीतिक पारी को यूपी उपचुनाव के नतीजों ने नई दिशा दी है, जिसकी वजह से राजनीतिक जानकारों को लगने लगा है कि आने वाले समय में यूपी ही नहीं, देश की राजनीति में भी मायावती का कद बढऩे वाला है, कर्नाटक जैसी सियासी समीकरण में वे देश की प्रधानमंत्री भी बन सकती हैं, लिहाजा... मायावती नए सिरे से, नए अंदाज में राजनीति में सक्रिय हो गईं हैं, और इसीलिए वे किसी भी दल के प्रमुख नेता के प्रति अमर्यादित व्यवहार को बर्दाश्त नहीं कर रही हैं!

इसी वर्ष तीन प्रमुख राज्यों- राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में प्रस्तावित विधानसभा चुनाव में भी मायावती बसपा के लिए बड़ी भूमिका देख रही हैं, ऐसी स्थिति में किसी भी दल के बड़े नेता के प्रति बेलगाम बयान, बेमतलब की सियासी परेशानी बन सकते हैं!

खबर है कि... बैठक में बसपा के इन तीनों राज्यों के पार्टी संयोजक और प्रदेश इकाइयों के नेता भी उपस्थित थे. इस मौके पर मायावती ने विधानसभा चुनाव के मद्देनजर संगठनात्मक ढांचे को मजबूत बनाने और चुनावी रणनीति पर अपना नजरिया बताया? 

बताया जा रहा है कि... बसपा तीनों राज्यों में चुनाव लड़ेगी और चुनावी गठबंधन को लेकर अंतिम फैसला अन्य दलों के साथ बातचीत के बाद बसपा प्रमुख मायावती करेंगी.

बहरहाल, कारण कुछ भी हों, अमर्यादित बयानों को लेकर मायावती ने जो सख्ती दिखाई है, वह एक अच्छा संकेत है! क्या कांग्रेस इससे प्रेरणा लेगी?

तीन प्रमुख राज्यों- एमपी, राजस्थान ओर छत्तीसगढ़ में बसपा और कांग्रेस, विधानसभा चुनाव में गठबंधन करने जा रही हैं, लेकिन गुटबाजी और अमर्यादित व्यवहार नहीं रूका तो गठबंधन बेमतलब हो जाएगा? 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।