पलपल संवाददाता, जबलपुर. जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय स्थित कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय जबलपुर की अखिल भारतीय समन्वित कृषि मौसम अनुसंधान परियोजना के तहत डिंडौरी जिले के जन जातीय कल्याण केन्द्र वरगांव (शहपुरा) में मौसम आधारित कृषि पर कृषक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया. इसमें जनेकृविवि के कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन ने जनजाति कृषकों के समग्र विकास के लिये डिंडौरी के शहपुरा स्थित आदिवासी घुण्डी सराई गांव के कृषकों को विभिन्न उन्नत कृषि यंत्रों का वितरण किया और तकनीकी सहायता का वचन देकर गांव को कृषि विज्ञान केन्द्र डिंडौरी के माध्यम सेअंगीकृत करने की घोषणा की.

उन्होंने सीमित भूमि एवं संसाधनों से भरपूर उत्पादन के निये कृषकों का मार्गदर्शन करते हुये धरती माता के अच्छे स्वास्थ्य के लिये मिट्टी परीक्षण एवं गौमाता के उत्तम स्वास्थ्य के लिये चारा उत्पादन की आवष्यकता बताई. इस दौरान कुलपति डॉ. बिसेन और कृषि वैज्ञानिकों ने औषधीय पौधों का वृक्षारोपण भी किया. कृषकों को आदिवासी उपयोजना, नीकरा और कृषि मौसम परियोजना के तहत स्प्रिंकर सेट, स्प्रेयर, हैण्ड व्हील, उन्नत चूल्हे, वर्मी वेड और चारा अनुसंधान परियोजना की ओर से हायब्रिड नेपियर घास की कलमें आदि वितरित की गईं. यहां कार्यक्रम में 250 आदिवासी कृषक लाभान्वित हुए. कार्यक्रम के विशिष्ट सत्र में विश्वविद्यालय के प्रबंध प्रमण्डल के सदस्य एवं सेवानिवृत्त कृषि वैज्ञानिक डॉ. इदनानी ने कृषि उत्पादन की आर्थिक विवेचना की. इस अवसर पर मुख्य अतिथि वरिष्ठ समाजसेवी राजकुमार मटाले ने कृषकों से उन्नत कृषि तकनीक अपनाने का आग्रह किया और भारत सरकार द्वारा ग्राम विकास हेतु चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी.

मौसम परियोजना प्रभारी डॉ. पी.बी. शर्मा ने भारत सरकार के मौसम विज्ञान विभाग से प्रत्येक मंगलवार एवं शुक्रवार को जारी मौसम पूर्वानुमान बुलेटिन के आधार पर कृषि कार्ययोजना की जानकरी दी. विवि के शस्य विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. गिरीश झा ने कृषकों से उपज एवं आय में वृद्धि के उपायों पर चर्चा की. कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय के सिंचाई परियोजना के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. मनोज अवस्थी ने जल उत्पादन के तकनीकी बिन्दुओं पर चर्चा की. चारा अनुसंघान परियोजना प्रभारी डॉ. ए.के. मेहता ने मक्का एवं राजमूंग चरी के उत्पादन की तकनीक बताई. डॉ. श्रीकृष्ण बिलैया ने हायब्रिड नेपियर घास उत्पादन हेतु मार्गदर्षन किया. डॉ. मनीष भान ने मौसम आधारित कार्ययोजना के तकनीकी बिन्दुओं पर चर्चा की. अतिथि वक्ता के रूप में पशुपालन महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. आर.पी.एस. बघेल ने दुधारू पशुओं के पालन के प्रमुख बिन्दुओं पर संदेश दिया. कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. आर.के. नेमा ने कहा कि तकनीकी समन्वय से ही कृषि विकास संभव है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।