पलपल संवाददाता, जबलपुर. जैव प्रौद्योगिकी तकनीक फसलों के लिये वरदान से कम नहीं है. हमारे कृषि वैज्ञानिकों को इसका पूर्ण उपयोग कर प्रतिकूल जलवायु और मौसम की उन्नत प्रजातियां विकसित करना होंगी, जिससे फसल की उपज और गुणवत्ता के साथ-साथ हमारे किसानों को भरपूर उत्पादन प्राप्त हो सके. तदाशय के उद्गार कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन ने जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय स्थित जैव प्रौद्योगिकी केन्द्र में कृषि में जैव प्रौद्योगिकी का उपयोग विषय पर 78 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुये बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किए. डॉ. बिसेन ने आगे कहा कि यह प्रशिक्षण कार्यक्रम छात्रों के लिए बहुत आवश्यक है, छात्र विभिन्न उन्नत तकनीकियों का व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त कर फसल की उपज एवं गुणवत्ता को बढ़ाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं.

जैव प्रौद्योगिकी केन्द्र के डायरेक्ट डॉ. एलपीएस राजपूत ने बताया कि यह कार्यक्रम 21 जुलाई से 6 अक्टूबर (478 दिनों) तक संचालित किया जा रहा है. इस कार्यक्रम में भाग ले रहे कृषि विवि के विभिन्न विभागों के 30 प्रशिणार्थी छात्र जैव प्रौद्योगिकी के विभिन्न आयामों- मालीकुलर ब्रीडिंग, जैनेटिक इंजीनियरिंग आदि का प्रायोगिक रूप से गहन अध्ययन करेंगे. साथ ही यह भी जानेंगे की किस प्रकार जैव प्रौद्योगिकी की उन्नत तकनीकियों के माध्यम से फसलों की ऐसी प्रजातियां विकसित की जायें, जो कि प्रतिकूल मौसम की परिस्थितियों में पोषक गुणों से भरपूर और अच्छी पैदावार दे सके.

इस दौरान कार्यक्रम के अध्यक्ष एवं अधिष्ठाता कृषि संकाय डॉ. पी.के. मिश्रा एवं संचालक अनुसंधान सेवायें डॉ. धीरेन्द्र खरे, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय डॉ. आर.एम. साहू, संचालक, एग्री डिजाइन इनोवेशन सेन्टर, रादुविवि प्रो. एस.एस. संधू विशिष्ट अतिथि के रूप में मंचासीन रहे. कार्यक्रम का संचालन कु. सुमाना सिकंदर एवं आभार प्रदर्शन वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ. सुषमा नेमा ने दिया. कार्यक्रम में डॉ. श्रीमति कीर्ति तन्तवाय, डॉ. राधेश्याम शर्मा, डॉ. स्वाप्निल सप्रे सहित कृषि वैज्ञानिक, अधिकारी और छात्र बड़ी संख्या में उपस्थित रहे.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।