प्रदीप द्विवेदी. कोई पैतीस साल पहले प्रसिद्ध गीतकार गोपालदास नीरज ने माही रेस्ट हाउस, बांसवाड़ा में विशेष इंटरव्यू में कहा था... गीतों की किस्मत में एक दिन ऐसा आना है, वो उतना ही मंहगा होगा जो जितना ही सस्ता होगा!

मैं माही रेस्ट हाउस में राजस्थान साहित्यअकादमी के तत्कालीन अध्यक्ष प्रकाश आतुर का इंटरव्यू ले रहा था. बनियान पहने, लूंगी लपेटे एकदम देसी अंदाज में नीरज मेरे पास आए और बोले- ये तो उदयपुर रहते हैं, इनका इंटरव्यू कभी भी ले लेना, मेरा इंटरव्यू लो!

मैंने कहा- मैं आपका ही इंटरव्यू लेने के लिए आया हूं. मैंने उनका इंटरव्यू लिया जो देश के अनेक अखबारों में छपा.

कारवां गुजर गया गुबार देखते रहे, आज मदहोश हुआ जाए रे, मेरा मन मेरा मन मेरा मन, स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से, शोखियों में घोला जाए फूलों का शबाब, लिखे जो खत तुझे, ऐ भाई! जरा देख के चलो, दिल आज शायर है, खिलते हैं गुल यहां, आदमी हूं, आदमी से प्यार करता हूं जैसे सुपर हिट गीत लिखनेवाले नीरज ने आनेवाले समय को ठीक पहचाना था. आज सस्ते, गंदे और अशि£ल गीतों की भरमार होती जा रही है और नतीजा है कि अब गीतों की गंदगी को लेकर अदालतों में शिकायतें भी हो रही हैं!

पुरावली, इटावा, उत्तरप्रदेश में 4 जनवरी, 1925 को जन्में नीरज का साहित्यिक में तो अमूल्य योगदान है ही, देशभर में कवि सम्मेलनों को प्रतिष्ठा दिलाने में भी उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है. उनकी  मुख्य रचनाएं है... दर्द दिया है, प्राण गीत, आसावरी, गीत जो गाए नहीं, बादर बरस गयो, दो गीत, नदी किनारे, नीरज की गीतीकाएं, नीरज की पाती, लहर पुकारे, मुक्तकी, गीत-अगीत, विभावरी, संघषज़्, अंतरध्वनी, बादलों से सलाम लेता हूं, कुछ दोहे नीरज के आदि.

जब उनसे पूछा गया था कि उन्होंने फिल्मों के लिए लिखना क्यों छोड़ दिया? तो उनका जवाब था... फिल्मी दुनिया में म्यूजिक पहले बन जाता है और उस पर गीत लिखने के लिए कहा जाता है, जैसे कफन बता कर कह रहे हों... इस साइज का मुर्दा ढूंढ लाओ!

उन्होंने आनेवाले 20/20 युग को भी ठीक-से पहचान लिया था और इसीलिए कहा था कि यदि तुलसीदास इस युग में पैदा हुए होते तो रामायण ग्रंथ नहीं लिख पाते... केवल गीत ही लिख पाते!               

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।