जनगण श्याम एक लोक कलाकार का नाम नहीं है और ना ही वह समय के साथ हम हो जाने वाला कलाकार है. जनगण एक लोक की परम्परा का नाम है. एक ऐसा नाम जो लोक का प्रतिनिधित्व करता है और कालजई कलाकार के रूप में हमारे बीच आज भी उपस्थित हैं. एक गुमनाम गांव पाटनगड से अपनी कल्पना के साथ वो राजधानी भोपाल आया था. उसे तो इस बात की खबर भी नहीं थी कि आने वाले दिनों में गोंड प्रधान चित्र शैली का वह परम्परा बन जायेगा. लेकिन आज जनगण उसी लोक चित्र शैली का वाहक है, नायक है. 

80 के दशक में जनगण का भोपाल आना हुआ था. इसी दौर में कला घर भारत भवन आकार ले रहा था.जनगण की मुलाकात यहीं पर कला गुरु स्वामीनाथन से हुई. कहते हैं हीरे की कीमत पारखी को होती है और पारखी ने जनगण को चिन्ह लिया. भारत भवन के नगीनों में एक नाम जनगण का भी जुड़ गया.जनगण की कला में मौलिकता थी और लोक की खुशबू. एकदम नयापन था. खासतौर पर उस समाज के लिए लोक का इस तरह आना एक किस्म का नया अनुभव एवं अनुभूति थी. चटक रंगों से सजे कलाकृति बरबस मन मोह लेती थी. आधुनिक कला समाज अनजाने में लोक के साथ चलने लगी. दबे पांव पाटनगढ़ की कला दिल्ली पहुंच गई. और अब का कल तक कागज पर उकेरी गई चिड़िया उड़ कर विदेशियों का मन मोह लिया.जनगण की कला परवान चढ़ रही थी कि इसी बीच जनगण हमसे हमेशा हमेशा के लिए बिछड़ गए.जनगण भौतिक रूप से हमसे ज़रूर जुदा हो गए लेकिन अपने पीछे पूरा कुनबा छोड़ गए. एक परम्परा की जो नींव जनगण ने रखी थी, आज उस परम्परा को आगे बढ़ाने वाला उनका पूरा कुनबा जुटा हुआ है.जनगण का सम्मान तब हुआ जब उनके खानदान के चिराग मयंक को राष्ट्रपति ने पद्मश्री से सम्मानित किया. उनके कुनबे से कई श्रेष्ठ कलाकार निकले जिनका डंका दुनिया में बज रहा है लेकिन उनकी पहचान जनगण से ही है.

गोंड जनजाति कला की बात करते हैं तो आदिवासी दुनिया हमारे सामने साकार हो जाती है. यह शायद पहली बार हुआ है कि एक ही जनजाति की लोककला को एक ही कुनबे के लोग शिद्दत से आगे बढ़ा रहे हैं. संसार में जनगण का नाम रोशन कर रहे हैं. अमूमन लोक कला को इतना बड़ा केनवास शायद पहली बार मिला है. एक कलाकार एक परम्परा बनकर कायम रहे, यह मिसाल है. आज जनगण को याद करते हुए कई बातें स्मृति पटल पर उभर आती हैं जिसमें जनगण की वो सादगी, वह ठेठ देहातीपन लेकिन कला गुरु के रूप में एक प्रतिबद्ध लोक कलाकर जिसने अपने अनजान और अन चीन्हें से गांव को पहचान दिलाने, अपने मध्यप्रदेश को सम्मान दिलाने वाले कलाकार के रूप में याद किए जाएंगे.

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं मीडिया शिक्षा से सम्बद्ध हैं) मोबा. 9300469918

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।