पलपल संवाददाता, जबलपुर. जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने अरण्डी और मक्की की दो-दो नई प्रजातियां विकसित करने में सफलता मिली है. ईजाद की गई नई प्रजातियां कीट एवं रोग प्रतिरोधी तो होंगी ही, साथ ही ये प्रजातियां विपुल उत्पादन करने में मददगार साबित होंगी.

इन ईजाद की गई प्रजातियों का नाम क्रमश: अरण्डी जवाहर केस्टर-4 (जेसी-4), अरण्डी जवाहर केस्टर-24 (जेसी-24) और जवाहर मक्का-218 (जेएम-218) एवं पूसा जवाहर संकर मक्का-1 (पीजेएचएम-1) नाम दिया गया है. इन प्रजातियों को जनेकृविवि के छिन्दवाड़ा आंचलिक कृषि अनुसंधान केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. व्ही.के. पराड़कर ने विकसित किया है. इनको राज्य बीज उपसमिति द्वारा मध्यप्रदेश के लिए अधिसूचित करने की अनुशंसा की है.

कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन ने बताया कि कीट एवं रोग प्रतिरोधी ये प्रजातियां विपुल उत्पादन हेतु मध्यप्रदेश के लिये मील का पत्थर सबित होंगी. इस बड़ी उपलब्धि पर कुलपति डॉ. बिसेन एवं संचालक अनुसंधान सेवायें डॉ. धीरेन्द्र खरे ने पूरी टीम को बधाई दी साथ ही आव्हान किया कि भविष्य में भी इसी प्रकार नवीन प्रजातियों के विकास का कार्य राष्ट्रीय स्तर पर सम्पादित करते रहे.

खूबियों से भरपूर हैं अरण्डी की उन्नत प्रजातियां

अरण्डी जवाहर केस्टर (जेसी-4)- जनेकृविवि द्वारा विकसित कर अरण्डी फसल की नवीनतम जवाहर केस्टर (जेसी-4) प्रजाति की परिपक्वता अवधि 210 दिन (मध्यम अवधि) औसत उपज 2656 कि.ग्रा./हेक्टयर है. इसका बीज इन्डेक्स 30-35 ग्राम प्रति 100 बीज मध्यम आकार है. दाने में तेल का प्रतिषत 47.70: तथा पौध ऊंचाई 115-125 सेमी है. फूल की अवस्था 55-56 दिवस व रोग व्याधि-फ्यूजेरीयम विल्ट एवं रूट स्टॉक का प्रकोप कम है. कीट व्याधि- सेमीलूपर, हैरीकेटर पिलर कम नुकसानदायी है. इस प्रजाति में रबी में सिंचित अवस्था में अच्छा उत्पादन करने की क्षमता है. यह मध्यप्रदेश के लिए उपयुक्त पायी गई है.

अरण्डी जवाहर केस्टर-24 (जेसी-24) - जनेकृविवि द्वारा विकसित कर अरण्डी फसल की नवीनतम प्रजाति की परिवक्ता अवधि 180 दिन (मध्यम अवधि) औसत उपज 2775 कि. ग्रा./हेक्टयर है. इसका बीज इन्डेक्स 26-29 ग्राम प्रति 100 बीज मध्यम आकार है. दाने में तेल का प्रतिशत 45.30: तथा पौध ऊंचाई 86-96 सेमी है. फूल की अवस्था 48-52 दिवस व रोग व्याधि-फ्यूजेरीयम विल्ट एवं रूट स्टॉक का प्रकोप कम है. कीट व्याधि- सेमीलूपर, हैरीकेटर पिलर व स्पोडोपेरा से कम नुकसानदायी है. इस प्रजाति में रबी में सिंचित अवस्था में अच्छा उत्पादन करने की क्षमता है.

यह खूबियों हैं ईजाद की गई मक्कों की उन्नत प्रजातियों में

जवाहर मक्का-218 (जेएम-218) - जनेकृविवि द्वारा विकसित कर मक्का फसल की नवीनतम प्रजाति की परिवक्ता अवधि 94 दिन (मध्यम अवधि) औसत उपज 5052 कि.ग्रा. /हेक्टयर है. इसका बीज इन्डेक्स 31.24 ग्राम प्रति 100 बीज मध्यम आकार है. पौध ऊंचाई 185-211 सेमी, भुट्टे की ऊंचाई 92 सेमी व भुट्टे का आकार कोनिकल है. रोग व्याधि-टी.एल.बी. एवं एम.एल.बी. रोधी, कीट व्याधि- तना छेदक रोधी है. सिंचित क्षेत्र में वर्षभर उत्पादन एवं बेबीकार्न के लिए भी उपयुक्त है. यह प्रजाति प्रदेश की सघनता बढ़ाने में उपयोगी सिद्ध होगी.

पूसा जवाहर संकर मक्का-1 (पीजेएचएम-1)- जनेकृविवि द्वारा विकसित कर मक्का फसल की नवीनतम प्रजाति की परिवक्ता अवधि 95 दिन (मध्यम अवधि) औसत उपज 6474 कि.ग्रा./हेक्टयर है. इसका बीज इन्डेक्स 31.00 ग्राम प्रति 100 बीज मध्यम आकार है. पौध ऊंचाई मध्यम 195 सेमी, भुट्टे की ऊंचाई मध्यम 50 सेमी सिल्क 55 दिवस है. रोग व्याधि-टी.एल.बी., एम.एल.बी. एवं स्टाक राट रोधी, कीट व्याधि- तना छेदक रोधी है. वर्षा आधारित क्षेत्र एवं रबी में सिंचित क्षेत्र के लिये उपयुक्त है. यह प्रजाति प्रदेश की प्रथम सिंगल क्रास हायब्रिड मक्का है और सघनता बढ़ाने में उपयोगी सिद्ध होगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।