सिंगापुर. उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ अपनी अप्रत्याशित भेंटवार्ता के लिए रविवार (10 जून) को सिंगापुर पहुंचे. उत्तर कोरिया का परमाणु हथियार भंडार इस वार्ता के एजेंडे में शीर्ष पर होगा. इन परमाणु हथियारों के चलते उत्तर कोरिया को कई संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों का मुंह देखना पड़ा तथा ट्रंप प्रशासन ने उसे सैन्य कार्रवाई की भी धमकी दी. कोरियाई युद्ध का औपचारिक समापन भी उत्तर कोरिया के नेता और उसके साम्राज्यवादी शत्रु के वर्तमान राष्ट्रपति के बीच पहली भेंटवार्ता का विषय होगा.

किम जोंग उन एयर चाइना 747 से सिंगापुर पहुंचे. उड़ान पर नजर रखने वाली वेबसाइट फ्लाइटरडार 24 के अनुसार किम रविवार (10 जून) की सुबह प्योंगयांग से बीजिंग गये और फिर वहां से उन्होंने विमान बदलकर सिंगापुर की ओर रुख किया. सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियान बालकृष्णन ने चांगी हवाई अड्डे पर किम के साथ हाथ मिलाते हुए एक तस्वीर ट्विटर पर डाली. किम मर्सीडीज बेंज गाड़ी से एक सेंटर की ओर गये. उनके काफिले में 20 से अधिक गाड़ियां थीं.

बीते 8 जून को अमेरिका के शीर्ष राजनयिक ने एक संभावना जाहिर करते हुए कहा कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच 12 जून को होने वाली बैठक में किसी प्रकार के लिखित बयान या शासकीय सूचना उभरकर सामने आ सकती हैं, जो वास्तविक उपलब्धियां कही जाएंगी.

वहीं दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का कहना है कि उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ उनकी बैठक के दौरान उन्हें एक मिनट में ही इस बात का पता चल जाएगा कि शांति के लिये उनके इस एक मात्र प्रयास के भविष्य में सफल होने के आसार है या नहीं. कनाडा में चल रहे जी7 शिखर सम्मेलन के समापन के बाद एशिया की तरफ रवाना होने से पहले ट्रंप ने कहा, 'यह सही अर्थ में एक अज्ञात क्षेत्र है, लेकिन मैं वास्तव में आत्मविश्वास से भरा हूं.'

उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा, मुझे लगता है कि किम जोंग उन अपने लोगों के लिए अच्छा करना चाहते हैं और उनके पास ऐसा करने का अवसर है ... यह एकमात्र मौका है.’ ट्रम्प ने कहा कि उत्तर कोरिया ‘‘हमारे साथ बेहद अच्छा काम कर रहा है.

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का कहना है कि उत्तर कोरिया से अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध तब तक हटाए नहीं जाएंगे, जब तक वह अपने सभी परमाणु हथियार कार्यक्रमों को नष्ट नहीं कर देता. सीएनएन के मुताबिक, पोम्पियो ने शुक्रवार (8 जून) को साक्षात्कारों के दौरान कहा कि इसमें उत्तरी कोरिया के बाहर स्थित अज्ञात संभावित अवैध स्थल शामिल होंगे.

पोम्पियो ने कहा, मैं इसके विवरण की गहराई में नहीं जाना चाहता लेकिन जब आप पूर्ण निरस्त्रीकरण की बात करते हैं तो इसमें सभी परमाणु स्थल शामिल होंगे, सिर्फ वहीं नहीं जो सर्वविदित हैं." उन्होंने कहा, इसलिए हमें यह सुनिश्चित करना है, कि यह कार्य पूरा हो." पोम्पियो ने कहा, "परमाणु निरस्त्रीकरण उत्तर कोरिया की ओर से बहुत बड़ी प्रतिबद्धता है और इसके समारूप सुरक्षा आश्वासन भी होना चाहिए.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. दिवालिया कानून संशोधन अध्‍यादेश को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी,घर खरीदारों को मिलेगी राहत

2. 10 हजार करोड़ से सुधरेंगे गन्ना किसानों के आर्थिक हालात

3. NEET की टॉपर कल्पना ने बिहार बोर्ड के 12वीं साइंस में भी किया टॉप

4. ग्रेटर नोएडा में ही रहेगा पतंजलि फूड पार्क, सरकार शर्तें मानने को तैयार

5. ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर स्वर्ण मंदिर में तनाव, खालिस्तान के समर्थन में नारे

6. आम आदमी को झटका, RBI ने रेपो रेट 0.25 फीसदी बढ़ाया, महंगा होगा कर्ज

7. गोपीनाथ बोरदोलोई की दूरदर्शिता के कारण ही असम षड़यंत्र का शिकार होने से बच गया!

8. कोहली दुनिया के 83 वें सबसे अमीर खिलाड़ी, बॉक्सिंग स्टार फ्लॉयड मेवेदर टॉप पर

9. पूर्णिमा देवी बर्मन: परिंदों की प्रजातियों का संरक्षण ही जिनका जुनूनी काम है!

10. टोटकों में इस्तेमाल होने वाली चीजें, उपयोग और महत्व

11. घर के मंदिर से जुड़ी इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगा सौभाग्य

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।