जन्मपत्री से भी जाना जा सकता है दुर्घटनाओं के बारे में. यदि हमें पूर्व से जानकारी हो जाए तो हम संभलकर उससे बच सकते हैं. दुर्घटना तो होना है लेकिन क्षति न पहुँच कर चोट लग सकती है.जिस प्रकार हम चिलचिलाती धूप में निकलें और हमने छाता लगा रखा हो तो धूप से राहत मिलेगी, उसी प्रकार दुर्घटना के कारणों को जानकर उपाय कर लिए जाएँ तो उससे कम क्षति होगी.

इसके लिए 6ठा और 8वाँ भाव महत्वपूर्ण माना गया है. इनमें बनने वाले अशुभ योग को ही महत्वपूर्ण माना जाएगा. किसी किसी की जन्मपत्री में षष्ठ भाव व अष्टमेश का स्वामी भी अशुभ ग्रहों के साथ हो तो ऐसे योग बनते हैं.

वाहन से दुर्घटना के योग के लिए शुक्र जिम्मेदार होगा. लोहा या मशीनरी से दुर्घटना के योग का जिम्मेदार शनि होगा. आग या विस्फोटक सामग्री से दुर्घटना के योग के लिए मंगल जिम्मेदार होगा. चौपायों से दुर्घटनाग्रस्त होने पर शनि प्रभावी होगा. वहीं अकस्मात दुर्घटना के लिए राहु जिम्मेदार होगा. अब दुर्घटना कहाँ होगी? इसके लिए ग्रहों के तत्व व उनका संबंध देखना होगा.

1· षष्ठ भाव में शनि शत्रु राशि या नीच का होकर केतु के साथ हो तो पशु द्वारा चोट लगती है.

2· षष्ठ भाव में मंगल हो व शनि की दृष्टि पड़े तो मशीनरी से चोट लग सकती है.

3· अष्टम भाव में मंगल शनि के साथ हो या शत्रु राशि का होकर सूर्य के साथ हो तो आग से खतरा हो सकता है.

4· चंद्रमा नीच का हो व मंगल भी साथ हो तो जल से सावधानी बरतना चाहिए.

5· केतु नीच का हो या शत्रु राशि का होकर गुरु मंगल के साथ हो तो हार्ट से संबंधित ऑपरेशन हो सकता है.

6·‍ शनि-मंगल-केतु अष्टम भाव में हों तो वाहनादि से दुर्घटना के कारण चोट लगती है.

7· वायु तत्व की राशि में चंद्र राहु हो व मंगल देखता हो तो हवा में जलने से मृत्यु भय रहता है.

8· अष्टमेश के साथ द्वादश भाव में राहु होकर लग्नेश के साथ हो तो हवाई दुर्घटना की आशंका रहती है.

9· द्वादशेश चंद्र लग्न के साथ हो व द्वादश में कर्क का राहु हो तो अकस्मात मृत्यु योग देता है.

10· मंगल-शनि-केतु सप्तम भाव में हों तो उस जातक का जीवनसाथी ऑपरेशन के कारण या आत्महत्या के कारण या किसी घातक हथियार से मृत्यु हो सकती है.

11· अष्टम में मंगल-शनि वायु तत्व में हों तो जलने से मृत्यु संभव है.

12· सप्तमेश के साथ मंगल-शनि हों तो दुर्घटना के योग बनते हैं.

इस प्रकार हम अपनी पत्रिका देखकर दुर्घटना के योग को जान सकते हैं. यह घटना द्वितीयेश मारकेश की महादशा में सप्तमेश की अंतरदशा में अष्टमेश या षष्ठेश के प्रत्यंतर में घट सकती है.

उसी प्रकार सप्तमेश की दशा में द्वितीयेश के अंतर में अष्टमेश या षष्ठेश के प्रत्यंतर में हो सकती है. जिस ग्रह की मारक दशा में प्रत्यंतर हो उससे संबंधित वस्तुओं को अपने ऊपर से नौ बार विधिपूर्वक उतारकर जमीन में गाड़ दें यानी पानी में बहा दें तो दुर्घटना योग टल सकता है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. राजस्थान में भारतीय सेना ने किया ‘एयर कैवलरी’ कॉन्सेप्ट का परीक्षण

2. बिहार: परीक्षा में प्रवेश से पूर्व कैंची से काटी गयी लड़कियों की समीज के आस्तीन

3. देश के कई राज्यों में आज फिर से आ सकता आंधी-तूफान, 150 लोगों की मौत

4. बीजेपी ने ली चुटकी, तेजप्रताप की शादी में क्यों नहीं पहुंचे सोनिया-राहुल-ममता

5. किसकी जेब में जा रहे हैं पेयजल के करोड़ों रुपये?

6. ट्रेन में महिलाओं के लिए होगी विशेष सुरक्षा, हर बोगी में लगेगा 'पैनिक बटन'

7. इस्‍लाम नहीं देता बिना जरूरत तस्‍वीरें खिंचवाने की इजाजत

8. प्रेमिका ने प्रेमी के चेहरे पर फेंका एसिड, ठुकराये जाने से थी खफा

9. शादी के लिए बिल्कुल सही है यह उम्र, रिश्ता होता है मजबूत

10. साप्ताहिक भविष्यफल : 13 मई से 19 मई 2018, किन राशियों के चमकेंगे सितारे

11. राहु से मुसीबत में फंसे व्यक्ति जानें पुराणों और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुछ उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।