विजयपुरा. संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) अध्यक्ष सोनिया गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तंज कसते हुए आज कहा कि भले ही वह अच्छे वक्ता हैं लेकिन यह भी सच है कि लच्छेदार भाषण से जनता का पेट नहीं भरता. कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के आखिरी दौर में अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए श्रीमती गांधी ने अपनी पहली चुनावी जनसभा की जिसमें उन्होंने राज्य केे मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और कामकाज की तारीफ करने के साथ मोदी पर जमकर निशाना साधा.

बीजापुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस ने विकास के काम किए हैं. आपको पता होना चाहिए कि जब कर्नाटक की बात आती है तो केंद्र सरकार पक्षपातपूर्ण तरीके से काम करती है. कांग्रेस ने कर्नाटक को विकास के मामले में देश का पहला राज्य बनाया है. यहां विकास की तमाम योजनाएं शुरू की हैं. उन्होंने कहा कि एकदूसरे के साथ खड़े होकर और साथ मिलकर काम करना, यही कर्नाटक और भारत के विकास का आधार है, लेकिन बीजेपी है कि वह हमेशा से ही कांग्रेस शासित प्रदेशों के साथ पक्षपात करती रही है.

कांग्रेस की योजनाओं पर ही केंद्र फूल रही है

भले ही दो साल बाद सोनिया गांधी चुनाव प्रचार कर रही हों, लेकिन उनके तेवरों में कोई बदलाव नहीं आया है. उन्होंने अपने भाषण में कांग्रेस की नीतियों और उपलब्धियों को आगे रखा और बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि हमने गरीबों के लिए अथक रूप से काम किया है. हमने महात्मा गांधी नरेगा योजना शुरू की. इस योजना का बीजेपी और नरेंद्र मोदी जी ने जमकर विरोध किया, लेकिन अब सत्ता में आने के बाद प्रधानमंत्री अपनी उपलब्धियों में अब मनरेगा का स्तुतिगान करते नजर आते हैं. 

पीएम मोदी ने कर्नाटक का किया अपमान

उन्होंने कहा कि कर्नाटक के किसान जब सूखे से जूझ रहे थे तो हमारे मुख्यमंत्री सिद्धारमैया प्रधानमंत्री से मिलने के लिए दिल्ली गए थे. लेकिन प्रधानमंत्री ने उनसे मिलने से इनकार कर दिया. ऐसा करके प्रधानमंत्री ने ना केवल किसानों का अपमान किया, बल्कि पूरे कर्नाटक का उन्होंने उपहास उड़ाया. 

किसानों के घावों पर लगाया केंद्र ने नमक

सूखे से प्रभावित सभी राज्यों को केंद्र सरकार द्वारा मदद दी गई, लेकिन केंद्र ने कर्नाटक को सबसे बाद में और सबसे कम मदद दी. सोनिया गांधी ने कहा कि यह मदद नहीं थी, बल्कि कर्नाटक के किसानों के घावों पर केंद्र ने नमक लगाने का काम किया था. 

भाषणों से पेट नहीं भर सकते मोदी जी

उन्होंने कहा कि मोदी जी को इस बात पर गर्व है कि वह एक बहुत अच्छे वक्ता हैं, मैं इससे सहमत हूं. वह एक अभिनेता की तरह बोलते हैं. मुझे खुशी होगी कि उनके भाषण देश की भूख खत्म कर सकते हैं लेकिन भाषण खाली पेट भर नहीं सकते हैं, इसके लिए भोजन की आवश्यकता है. उन्होेंने कहा कि प्रधानमंत्री केवल अपने भाषणों पर ही मेहनत करते हैं, देश की जनता को किस चीज की जरूरत है, उन्हें खबर नहीं है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. राजस्थान के बीकानेर में तूफान ने दी दस्तक, दिल्ली समेत 13 राज्यों में अलर्ट जारी

2. कर्नाटक चुनाव: 883 प्रत्याशी करोड़पति तो 645 पर अापराधिक केस

3. 48 घंटे में पृथ्वी से टकराएगा सोलर तूफान, बंद हो जाएंगे सारे सिग्नल

4. आईसीआईसीआई बैंक के मुनाफे में भारी गिरावट

5. सरकार के भी पसीने छुड़ा देते हैं बिहार में IAS और IPS के तबादले..

6. वीडियोकॉन कंपनी मुश्किल में,कभी भी घोषित हो सकती है दिवालिया

7. मायावती: सीटों पर सामंजस्य के बाद ही सपा के साथ गठबंधन संभव

8. 3 फुट 2 इंच की सबसे छोटी कलेक्टर 'आरती डोगरा', जिनका कद नहीं, काम बोलता है!

9. पाकिस्तान में मणिशंकर के फिर बिगड़े बोल, कहा- भारत की मौजूदा हालत ठीक नहीं

10. कभी ना कभी अमीर जरूर बनते है 5 राशियों के लोग जाने कौन है ये खुश किस्मत..

11. गणेशजी को प्रसन्न करने के लिए कोई एक उपाय भी करेंगे तो मनोकामना पूर्ण होगी

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।