क्या आपको भी ऐसा लगता है कि लाख चाहने के बाद भी आप अपने लव लाइफ को नहीं संभाल पा रहें हैं. अगर हां, तो बता दें कि हो सकता है कि इस केस में आपकी लव लाइफ ग्रहों की चाल से प्रभावित है. बता दें कि हमारे साथ वाली घटनाएं बहुत हद तक ग्रहों और नक्षत्रों की गति से प्रभावित होती है, ऐसे में आपको क्रोध करने या नासमझी से काम लेने के बजाय शांति से कदम उठाने चाहिए. 

आईए जानते हैं कि किस तरह हमारे जीवन का प्रेम ग्रहों और नक्षत्रों की गति से कैसे प्रभावित होता है और किस तरह हमें बाहरी कारक कुछ करने या ना करने के लिए ललायित करते हैं. 

गौरतलब है कि जनवरी महीने में पैदा वाले लोगों का व्यक्तित्व बहुत आकर्षक और सुंदर होता है. ऐसे लोग अपनी तरफ किसी को भी बड़े ही आसानी से खिंच सकते हैं, यहां तक की इन्हें विपरीत लिंगी लोगों को रिझाने में अधिक मेहनत की जरूरत नहीं होती है. वहीं फरवरी महीने में पैदा होने वाले लोग रिश्तों की कद्र करने में सबसे आगे होते हैं. इस महीने में पैदा होने वाले लोगों के बारे में माना जाता है कि ये अपने प्रेमी के लिए मुश्किलों का सामना करने से पीछे नहीं हटते. 

वैसे मार्च में पैदा हाने वाले लोग भी कम रोमेंटिक नहीं होते. माना जाता है कि ये लोग अपने प्रेम संबंध काफी सीरयस होते हैं, लेकिन इसी वजह से थोड़े से ईर्षालु भी होते हैं. अप्रैल में पैदा होने वालो के बारे में धारणा है कि ये लोग हमेशा कमियां ढूंढते रहते हैं जिससे इनके रिलेशनशिप पर बुरा असर भी पड़ता है. लेकिन यहां एक बात अच्छी ये भी है कि ऐसे लोग रिलेशनशिप की कमियों को भरने में माहिर हो सकते हैं और वो विपरीत हालातों में भी धीरज से काम ले सकते हैं. 

मई में पैदा होने वाले लोग किसी पर भी जल्दी विश्वास कर लेते हैं, जिसके कारम ये लोग प्यार में आसानी से पड़ जाते हैं. इसलिए अगर आपका जन्म भी मई महीने में हुआ है तो आपको भावनाओं पर नियंत्रण रखने की जरूरत है. वहीं जून में पैदा होने वाले लोग सेंसटिव हो सकते हैं. ये लोग अपने पार्टनर के प्रति बहुत केयरिंग हाते हैं और अपनी छोटी सी प्यार भरी दुनिया में खुश रहना पसंद करते हैं. 

जुलाई में पैदा होने वाले लोग अपने पार्टनर को लेकर हमेशा प्रोटेक्टिव होते हैं और उन्हें हमेशा ऐसा लगता है कि कोई उनके अपनो को नुसान पहुंचाने की कोशिश कर रहा है. वहीं अगस्त में पैदा होने वाले लोग लोगो को इंप्रेस में भरोसा करते हैं. इनका मानना होता है कि पार्टनर को खुश रखने के लिए छोटे-मोटे गलत काम करने में कोई हर्ज नहीं होता. 

सितंबर महीने में पैदा होने वालों के बारे में कहा जाता है कि ये लोग आशावादी होते हैं और इसलिए अपने रिलेशनशीप को लेकर बड़े-बड़े ख्वाब देखते रहते हैं. ये लोग बहुत फेंटसी में जीना पसंद करते हैं और वास्तविक दुनिया के मुसिबतों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते. अक्टूबर में पैदा हाने वाले लोगों की सबसे अच्छी बात ये है कि ये लोग फीलिंग्स को जाहीर करने में सबसे आगे होते हैं और हमेशा खुद को एक्सप्रेस करने के मौके खोजते रहते हैं. इस माह में पैदा होने वाले लोग कवी, गायक या पत्रकार हो सकते है. 

नवंबर में पैदा होने वाले लोग अक्सर अपने लव लाइफ को लेकर डरे रहते हैं और इन्हें हमेशा इस बात की चिंता रहती है कि कोई तीसरा इनके रिलेशनशीप को खराब कर सकता है. ऐसे लोग थोड़े ज्यादा ही इमोशनल होते हैं और कई बार छोटी सी लगने वाली बात को भी दिल से लगा लेते हैं. दिसंबर में पैदा होने वाले लोगों के बारे में कहा जाता है कि ये लोग ईमानदार किस्म के होते हैं और रिलेशनशीप में किसी भी प्रकार के धोखे को पसंद नहीं करते. ये लोग किसी को भी अपने करीब लाने में सक्षम होते हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. GST से केंद्र सरकार ने जुटाए 7.19 लाख करोड़ रु का राजस्व

2. बड़ा खुलासा: कठुआ गैंगरेप में बेटे को बचाने की थी बच्ची की हत्या

3. RBI की रिपोर्ट: देश में जमाखोरी बढ़ी, लोग बैंकों में पैसा जमा कराने से डर रहे

4. शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 256 अंक चढ़कर हुआ बंद

5. हम पर विश्व की 40% जनसंख्या की जिम्मेदारी

6. IPL: दिल्ली डेयरडेविल्स की बड़ी जीत, केकेआर को 55 रनों से दी मात

7. फीकी पड़ी सोने की चमक, चांदी भी हुई सस्ती

8. लक्ष्य: सियाचिन में जवानों के लिए ऑक्सीजन प्लांट खुलवाना, बुजुर्ग दंपति ने बेचे गहने

9. 29 अप्रैल को 4 राशि के ग्रहों में होंगे सबसे बड़े परिवर्तन, मिलेगी अपार सफलता

10. देवताओं, पितृ व ऋषियों को जल इस तरह अर्पित करें तो दूर होगा बुरा समय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।