पश्चिम बंगाल कृषि विभाग के वैज्ञानिकों ने चावल की तीन नयी किस्में विकसित की हैं जिनकी मदद से राज्य के धान उत्पादन में काफी वृद्धि हाेगी. विभाग के विभिन्न अनुसंधान संस्थानों में कार्यरत ये वैज्ञानिक पिछले कुछ वर्षों से चावल की इन किस्मों पर शोध कर रहे थे.

चावल के ये तीनों नयी किस्में भूपेश, राजदीप और ध्रुबा जल्द ही बाजारों में उपलब्ध करा दी जाएगी. वैज्ञानिकों के आवश्यक परीक्षण के बाद कुछ स्थानों पर इन किस्मों का उत्पादन भी शुरू कर दिया गया है. विभाग ने इन तीनों किस्मों को पूरे राज्य में उत्पादित करने के लिए एक व्यापक कार्य योजना भी तैयार कर ली है.

सुगंधित स्वाद वाली नयी किस्मों से बंगाल में चावल की मांग में और अधिक वृद्धि होगी. उम्मीद की जा रही है कि इन किस्मों से उपज में भारी वृद्धि हाेगी बल्कि ये किसानों के लिए भी फायदेमंद साबित होंगें.

इस खोज के बाद राज्य में धान उत्पादन में और वृद्धि होने की उम्मीद है. जानकारी के मुताबिक, विभिन्ना अनुसंधान संस्थानों में तैनात ये वैज्ञानिक लंबे समय से इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे, जिसके बाद उन्हें सफलता मिली.

राज्य के कृषि मंत्री आशीष बनर्जी ने बताया कि नई किस्म की तीन प्रकार के धान की खोज से उत्पादन में और वृद्धि होगी. ये चावल सुगंधित होने के साथ उन्नात किस्म के हैं. उन्होंने बताया कि पूरे राज्य में इन तीनों किस्म के धानों के उत्पादन के लिए विस्तृत योजना तैयार की गई है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. आधार होगा और सुरक्षित, अब देनी होगी 'वर्चुअल आईडी'

2. भारतीय सेना ने 28 सैनिकों की शहादत पर 138 पाकिस्तानी सैनिक मारे

3. पहले IIT और अब CAT में 100 प्रतिशत नंबर ला कर हासिल किया पहला रैंक

4. यूपी के इस होटल में वेटर से लेकर मैनेजर तक सब होंगी महिलाएं

5. भगवान के दर्जे पर संकट में पेशा!

6. राजधानी एक्सप्रेस में बुजुर्ग को चूहे ने काटा, साढ़े तीन घंटे निकलता रहा खून

7. नहीं बंद होंगी मुफ्त बैंकिंग सेवाएं, सरकार ने खबरों का किया खंडन

8. CES 2018 : पहले दिन लॉन्च किए गए ये शानदार प्रोडक्ट्स

9. विक्रम भट्ट की हॉरर फिल्म के दौरान कैमरे में कैद हुआ भूत, तस्वीरें देखकर उड़ जाएंगे होश

10. हाइक ने लांच की Hike ID, बिना नंबर के भी कर सकेंगे चैट

11. राशि के अनुसार शादी की ड्रेसों का करें चयन, ग्रहों और रंगों का खुशियों से सीधा संबंध

12. पापों से मिलेगी मुक्ति,अगर करते हैं षट्तिला एकादशी का व्रत

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।