न्याय के देवता माने जाने वाले शनि महाराज गुरुवार, 26 अक्टूबर से धनु राशि में प्रवेश कर चुके हैं और शनि महाराज 2020 तक इसी राशि में गोचर करेंगे. शनि के इस राशि परिवर्तन से सभी राशियों पर प्रभाव पड़ेगा. शनि के इस गोचर से तुला राशि वाले साढ़ेसाती के प्रभाव से मुक्त हो चुके हैं. मेष तथा सिंह राशियों से शनि की ढैय्या समाप्त हो चुकी है. जबकि मकर, वृश्चिक और धनु राशि में शनि की साढ़ेसाती चल रही है. मकर राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती का प्रथम चरण अब पूरी तरह शुरू हो चुका है. वृष राशि और कन्या राशि वाले ढैय्या के प्रभाव में रहेंगे.

तो शनि का अशुभ प्रभाव होता है कम:

सूर्य पुत्र शनिदेव मकर एवं कुंभ राशि के स्वामी हैं. इन दोनों राशियों को शनि का घर माना जाता है. तुला राशि में शनि उच्च के माने जाते हैं. शनि की साढ़ेसाती एवं ढैय्या, स्वग्रही, मित्र ग्रही व उच्च का होने पर अधिक अधिक नहीं सताते हैं. फिर भी न्याय के देवता अपनी दशा एवं गोचर में सभी को अपने कर्मों का शुभ और अशुभ फल जरूर देते हैं. लेकिन ज्योतिषशास्त्र में कुछ ऐसे विधान बताए गए हैं जिनसे शनि के कोप को कम किया जा सकता है.

शनिवार के दिन करें ये काम:

शनिवार को सुबह स्नान के पश्चात स्वच्छ कपड़े पहनें. इसके बाद पीपल के पेड़ की जड़ में केसर, चंदन, चावल और फूल मिलाकर जल चढ़ाएं. उसके बाद तिल के तेल का दीपक जलाएं. उसके बाद पीपल की परिक्रमा करके बचा हुआ जल घर में लाकर छिड़क दें. इससे शनि महाराज तो प्रसन्न होंगे ही और नकारात्मक शक्तियां भी दूर होंगी. अगर इतना करने में कठिनाई हो तो पानी में कच्चा दूध और गुड़ मिलाकर पीपल में दें.

काले चने के साथ यह प्रयोग होगा लाभकारी:

शुक्रवार की रात को सवा-सवा किलो काले चने तीन बर्तनों में भिगो दें. अगले दिन स्नान के बाद शनिदेव की पूजा करके काले चने में सरसों के तेल का छोंक लगाकर शनिदेव का भोग लगाएं. चने का एक हिस्सा भैंस को खिला दें और दूसरा हिस्सा गरीबों में बांट और तीसरे हिस्से को मछलियों के लिए डाल दें.

दशरथ स्तोत्र का पाठ करें:

शनि महाराज ने स्वयं दशरथ जी को वरदान दिया था कि जो व्यक्ति आपके द्वारा लिखे गये स्तोत्र का पाठ करेगा उसे मेरी दशा के दौरान कष्ट का सामना नहीं करना होगा. प्रत्येक शनिवार को जल में चीनी एवं काला तिल मिलाकर पीपल की जड़ में अर्पित करके तीन परिक्रमा करें और उसके बाद दशरथ स्तोत्र का पाठ करें.

शनिवार को रखें उपवास:

शनि देव को शांत रखने के लिए शनिवार को व्रत रखें और काली गाय या भैंस को उड़द, तेल, तिल, नीलम रत्न और ब्रह्माण को काला कंबल, कपड़ा या लोहा दान करें.

हनुमानजी की पूजा से प्रसन्न होते हैं शनिदेव:

शनिवार को हनुमानजी की पूजा करके उन्हें चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर चढ़ाएं. लाल गुलाब के फूल अर्पित करके हनुमान जी को चूरमा का भोग लगाएं. रुई के फाए में केवड़े का इत्र लगाकर हनुमानजी की मूर्ति के दोनों कंधों पर लगाएं.

मछलियों को खिलाएं ये चीज:

काले उड़द की दाल पीसकर आटा बना लें और उस आटे को गूथकर उसकी छोटी-छोटी गोलियां बनाकर मछलियों को खाने के लिए डाल दें. इसके अलावा काली चींटियों को आटे और शक्कर का मिश्रण खिलाएं.

काली गाय की पूजा:

काली गाय के माथे पर तिलक लगाकर उसके सींग में पवित्र धागा बांध दें और फिर धूप दिखाकर ऊपर से नीचे तक सात बार बारें. अंत में गाय की परिक्रमा करने के बाद उसको चार बूंदी के लड़्डू, उड़द, तेल, तिल भी खिलाएं. यह शनिदेव की साढ़ेसाती के सभी प्रतिकूल प्रभावों को रोकता है.

बंदर और कुत्तों को खिलाएं गुड़ और काले चने:

हर शनिवार बंदरों और कुत्तों को गुड़ और काले चने खिलाएं, इसके अलावा केले या मीठी लाई भी खिला सकते हैं. यह भी शनिदेव के अशुभ प्रभाव को समाप्त करने में काफी मददगार होता है.

शनिवार को ऐसे करें दान:

शनिवार के दिन एक कटोरी में तिल का तेल भरकर उसमें अपना चेहरा देखकर डाकोत (शनि का दान लेने वाला) को दान कर दें. इसके अलावा काले कपड़े में काले उड़द, सवा किलो अनाज, दो लड्डू, फल, काला कोयला और लोहे की कील डालकर डाकोत को दान करें. इसके साथ ही कुछ दक्षिणा भी देना जरूरी है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. नोटबंदी और जीएसटी देश के लिए 2 बड़े झटके, अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया : राहुल

2. श्रेयन और अंजलि बने ज़ी टीवी 'सारेगामापा लिटिल चैंप्स 2017' के विजेता

3. अनुच्छेद-35A पर सुनवाई 8 हफ्ते के लिए टली, सरकार ने कहा-नियुक्त किया वार्ताकार

4. जेएनयू व डीयू के कई प्रोफेसर यौन शोषण के आरोपी, फेसबुक पर जारी की सूची

5. सरकार ने करदाताओं को बड़ी राहत, GST रिटर्न दाखिल करने की अवधि बढ़ी

6. महिला हॉकी : एशिया कप में भारत ने चीन को दी मात

7. प्रदीप द्विवेदी: मुकद्दर का सिकंदर बन रहे हैं कांग्रेस नेता राहुल गांधी!

8. राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप : मनोज कुमार और शिव थापा फाइनल में पहुंचे

9. चीन का नया प्लानः ब्रह्मपुत्र के पानी को मोड़ने के लिए बनाएगा हजारों किमी की सुरंग

10. राजस्थान : समाप्त हुआ भूमि समाधि लेने वाले किसानों का आंदोलन

11. अशोक वृक्ष को घर के उत्तर में लगाकर रोज करें जल अर्पित, पड़ेगा चमत्कारिक प्रभाव

12. महादशा से भविष्य में कब क्या होगा , इसका अनुमान भी आप भी लगा पाएंगे

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।