नई दिल्ली. चीन से रिश्तों में आई खटास के बाद भारत कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहता. इसलिए अब जवानों को बड़े स्तर पर चीनी भाषा सीखने का अभियान शुरू किया जाएगा. अब आपको ITBP के जवान 'नी हाओ' यानी नमस्कार और 'हुई कु' यानी पीछे हट जाओ जैसी चीनी भाषा को बोलते नज़र आएंगे. इस अभियान इसलिए चलाया जा रहा है ताकि बॉर्डर वह चीनी सैनियों की भाषा को भी समझ सकें.

इतना ही नहीं बॉर्डर पर तैनात इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों और अफसरों के लिए चीनी भाषा मेंडेरियन की बेसिक जानकारी रखना भी जरूरी होगा, ताकि डोकलाम विवाद जैसी स्थिति अगर फिर से बने तो चीनी सेना पीपल्स लिब्रेशन आर्मी (PLA) की भाषा समझने में दिक्कत ना आए.

जानकारी के मुताबिक़ वर्तमान समय में 200 से 250 अधिकारी और जवान जेएनयू से चीनी भाषा सीख चुके हैं. इन सीखे हुए अधिकारी और जवानों को ITBP ने सीमा पर अलग-अलग जगहों पर तैनात किया हुआ है. सूत्र बताते हैं कि चीनी भाषा सीखने के पीछे ITBP का मकसद घुसपैठ के दौरान उनकी भाषा को सही ढंग से समझना है. एक उद्देश्य यह भी है कि चीन के सैनिक घुसपैठ के दौरान कई तरीके से बात करते हैं जिसको हमारे सैनिक नहीं समझ पाते.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. जीएसटी रिटर्न-व्यापारी बोले हमने भाजपा को वोट पाक को सुधरने और राम मंदिर बनाने दिए थे

2. कश्मीर को लेकर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, सभी पक्षों से होगी बातचीत

3. भारतीय सेना दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में से एक: जनरल रावत

4. चार्जिंग के दौरान JioPhone में हुआ ब्लास्ट

5. सोना 200 रुपए लुढ़का, चांदी के दामों में तेजी

6. यूनिटेक प्रमोटर संजय चंद्रा को SC ने नहीं दी जमानत, कहा- पहले 1000 करोड़ जमा कराएं

7. गुजरात कैडर के राकेश अस्थाना होंगे CBI के नए स्पेशल डायरेक्टर

8. दक्षिण भारतीय अभिनेता विशाल के दफ्तर पर GST इंटेलिजेंस का छापा

9. फैशन डिजाइनिंग के लिए NIFT में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू, दिसंबर तक करें आवेदन

10. साईं बाबा के इस मंत्र की स्तुति से बन जाते हैं बिगड़े काम

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।