ज्योतिष के अनुसार शुक्र ग्रह ही स्त्री की सुन्दरता को निखरता है. इसलिए धर्मं से महिलाओं और कांच की चूड़ियों का गहरा जुड़ाव है. इसलिए चूड़ियों को महिलाओं के सोलह श्रृंगार का भी हिस्सा माना जाता है. अगर महिलाएं कुछ विशेष दिन भी इसे धारण करें तो उनके जीवन में सुख और समृद्धि आती है.

पीली कांच की चूड़ियां गुरुवार को पहनी जाएं, महिला का चंद्रमा और शुक्र शुभ फलदायक होता है. इसके अलावे ये दोनों ग्रह पीले रंग से जुड़े बृहस्पति ग्रह के साथ मिलकर गज केसरी योग बनाते हैं. जिससे महिलाओं को सफलता और सम्मान मिलता है. सोमवार को नीले या सफेद रंग की चूड़ियां पहनना महिलाओं की सृजनात्मक क्षमता को और अधिक मजबूत बनाता है. वे मानसिक रूप से अधिक सबल बनती हैं.

साथ ही, पूर्व की तुलना में स्थितियों को लेकर बहुत अधिक भ्रम में नहीं पड़तीं हैं. ऐसी महिलाएं विपरीत परिस्थिति में भी संतुलन बनाने का कोई ना कोई तरीका ढूंढ ही लेती हैं.

रंगों का अपना एक विशेष महत्व है. रंग व्यक्तित्व को निखारते हैं. खुशी का अहसास कराते हैं. मन की भावनाएं भी दर्शाते हैं. कई रोग भी रंगों द्वारा ठीक किए जाते हैं जिन्हें हम कलर थैरेपी के नाम से जानते हैं.  रंग हमारे भाग्य को तय करने में भी भूमिका निभाते हैं.

सोमवार- सोमवार यानी सौम्य शीतल चंद्रमा का दिन. यह दिन शिवजी को समर्पित है इसलिए इस दिन का रंग है सफेद, चमकीला या सिल्वर कलर. दिन को खुशनुमा व शांतिपूर्ण चाहते हैं तो सफेद के सिवा कोई दूसरा विकल्प मत सोचिए.

मंगलवार- यह हनुमानजी का दिन है. उनकी मूर्तियों में भगवा रंग दिखता है इसलिए इस दिन का विशेष रंग है भगवा, या ऑरेंज कलर. इस दिन के ग्रह 'मंगल' के हिसाब से चैरी रेड या लाल के मिलते-जुलते शेड्स भी सौभाग्य के द्वार खोल सकते हैं. दुश्मन को परास्त करना हो तो इस दिन पराक्रम बढ़ाने के लिए लाल रंग अवश्य धारण करें.

बुधवार- सप्ताह का तीसरा दिन देवों के देव गणपति का है, जिन्हें सबसे ज्यादा प्रिय है दूर्वा. इसलिए इस दिन हरे रंग का महत्व सबसे अधिक है. बुध ग्रह स्वयं भी हरे रंग का होता है. इसलिए जिन लोगों की वाणी में अवरोध हो या जिनकी वाणी कर्कश हो उन्हें हल्का हरा रंग सूट करेगा.

गुरुवार- हफ्ते का चौथा दिन बृहस्पति देव और साईं बाबा का दिन है. बृहस्पति देव स्वयं पीले हैं, तो इस दिन का रंग है पीला. इस दिन पीले के अलावा सुनहरा, गुलाबी, नारंगी और पर्पल भी ट्राय कर सकते हैं. लेकिन पीले के सभी शेड्स उत्तम हैं.

शुक्रवार- यह देवी मां का दिन होता है, जो सर्वव्यापी जगतजननी हैं. इसलिए यह दिन सभी रंगों का मिक्स या प्रिंटेड कपड़ों का होता है. इस दिन विशेष रूप से गुलाबी के सारे शेड्स और रंग-बिरंगे फ्लोरल प्रिंटेड परिधान पहने जा सकते हैं. लंबी धारी वाले, चैक्स और छोटी प्रिंट के कपड़े इस दिन पहनिए और सफलता हासिल कीजिए.

शनिवार- शनि देवता को समर्पित इस दिन नीले या काले रंग के कपड़े पहनने चाहिए. यह रंग मन के उतार-चढ़ाव का होता है. आत्मविश्वास में वृद्धि के लिए जामुनी, बैंगनी, गहरा नीला और व्यवस्थित दिनचर्या के लिए नेवी ब्लू उचित रहेंगे. इस दिन नीले के सारे शेड आपको सफलता देंगे.

रविवार- सूर्य की उपासना के इस दिन गुलाबी, सुनहरे और संतरी रंग का विशेष महत्व है. इस दिन नए कपड़े नहीं पहनने की सलाह दी जाती है. लेकिन खिले-खिले रंगों के पुराने परिधानों को रविवार के दिन पहनने से सप्ताह भर की थकान दूर हो जाती है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. महिला सशक्‍त‍िकरण के ज़माने में महिला शक्ति का कारनामा, खोद डाले 190 कुए

2. महिला टीवी एंकर ने घूंघट में किया लाइव शो, वीडियो हुआ वायरल

3. अच्छी खबर: अब बैंकों में ही बनेंगे और अपडेट होंगे आधार कार्ड

4. भारत में अगस्त तक उपलब्ध होंगे Nokia 5 व Nokia 6 स्मार्टफोन

5. VIDEO: लव एट फर्स्ट साईट, कभी-कभी गलत भी हो जाता है, देखें वीडियो

6. अदरक के इस्तेमाल से पाए डैंड्रफ की समस्या से छुटकारा

7. क्या रहस्य है शिव की तीसरी आंख में, जानते हैं उनसे जुड़ें प्रतीक चिह्नों का महत्व

8. #lipstickrebellion कैम्पन को सपोर्ट करता 'काम्या पंजाबी' का ये टॉपलेस फोटोशूट

9. एलिजाबेथ ने न्यूड फोटो शेयर कर फैंस को किया मदहोश

10. यदि चैन की नींद सोना चाहते हैं तो इन वास्तु नियमों का अवश्य ध्यान दें

11. सालों बाद ऐसा संयोग: सोमवार को शुरू हो, सोमवार को ही खत्म होगा सावन

12. ब्रिटिश सिंगर 'एड शीरन' ने 'ट्विटर' को कहा बाय-बाय; जानिए क्या था कारण

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।