जयपुर. वर्षफल की ज्योतिषीय गणना प्राचीन काल से होती रही है जिसके माध्यम से यह जाना जाता है कि अगले 365 दिनों में भाग्य, कैसा? और कितना? साथ देगा! वर्षफल दो प्रकार से निकाला जाता है, पहला... सार्वजनिक वर्षफल, जिसमें ग्रहों के गोचर के आधार पर विभिन्न राशियों का वर्षफल निकाला जाता है, दूसरा... व्यक्तिगत वर्षफल, जो कि हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग होता है. व्यक्तिगत वर्षफल की गणना अलग-अलग तरीकों से की जाती है... जन्म कुंडली के आधार पर, चन्द्रबलम्-ताराबलम् के आधार पर, गोचरफल के आधार पर, दशा-महादशा के आधार पर... गौ-कुंडली की सहायता से जहां व्यक्ति विशेष के अगले वर्ष की दशा और दिशा की जानकारी मिलती है वहीं इसकी सहायता से विभिन्न तरीकों से प्राप्त वर्षफल को सही और संशोधित किया जा सकता है!

जीवन में कर्म का बड़ा महत्व है क्योंकि समय के साथ बदलनेवाला भाग्य हर समय एकजैसा नहीं होता. जब भाग्य साथ देता है तो साधारण कर्म भी बड़ी कामयाबी देता है लेकिन जब भाग्य बदलता है तो बड़े कर्म का भी साधारण फायदा होता है. इसीलिए कहा गया है...

समय पुरूष बलहीन है, समय पुरूष बलवान... वही अर्जुन का धनुष था, वही अर्जुन के बान!

अर्जुन जैसे महायोद्धा भी समय से हार गए थे, तो किसी और के क्या कहने? कर्म करना पर्याप्त नहीं है, कर्म की दिशा जानना बेहद जरूरी है. सदिश कर्म ही हमारी अदृश्य परेशानियों को कम करने में सहायक होता है. हर व्यक्ति के अपने जन्म के ग्रह होते हैं जो उसके जीवन की दशा और दिशा तय करते हैं. ग्रहों का गोचर, ग्रहों की दशा आदि समय समय पर अपना अच्छा-खराब असर दिखाते हैं. आनेवाला समय कैसा है? यह जानने के अनेक तरीके हैं जिसमें से एक सबसे महत्वपूर्ण है... वर्षफल! प्राचीन समय में वर्षफल, प्रतिवर्ष देखने का प्रचलन था जिसके माध्यम से व्यक्ति यह जान पाता था कि उसके जन्मदिन से अगले जन्मदिन तक का वर्षफल कैसा है? कब समय अच्छा आ रहा है? और कब समय खराब? ताकि अच्छे समय का सद्उपयोग कर सके और खराब समय में सतर्क रह सके, जैसे... यदि यात्रा करनी हो और जीवनपथ का नक्षा मिल जाए तो जाना जा सकता है कि उत्तम मार्ग पर कहां तेजी से आगे बढऩा है और पथरीले मार्ग पर कहां सतर्क हो कर चलना है.

पं लक्ष्मीनारायण द्विवेदी कहते थे... वर्षफल न केवल संपूर्ण वर्ष के उतार-चढ़ाव को दर्शाता है बल्कि यह वर्ष कैसा परिणाम देगा? इसकी जानकारी भी उपलब्ध करवाता है जिससे सफलता पर अभिमान आने नहीं देता और असफलता पर निराश होने नहीं देता. वर्षफल दर्शाता है कि शुभकर्म पर ध्यान दो, निराश न हों, इस साल हारे हो तो अगले साल जीत जाओगे, अभिमानी मत बनों... इस साल कामयाब रहे हो तो अगले साल नाकामयाब भी हो सकते हो... जैसे जीवन में दशाएं चलती हैं वैसे ही वर्षफल में भी संपूर्ण वर्ष की दशाएं दर्शाती है कि वर्ष का कौनसा समय उत्तम है? कौनसा मध्यम है? और कौनसा खराब?

यदि व्यक्ति के जन्म समय, जन्म दिनांक और जन्म स्थान की सही जानकारी उपलब्ध है तो हर वर्ष का वर्षफल जाना जा सकता है...और उसी के अनुरूप वर्ष के कार्य किए जा सकते हैं!

पलपल इंडिया के सौजन्य से कमलाश्री डिजिटल गौशाला की ओर से वर्षफल सेवाएं प्रारंभ की गई हैं. इससे प्राप्त होनेवाली राशि का सद्उपयोग डिजिटल गौशाला के विकास हेतु किया जाएगा. व्यक्तिगत वर्षफल प्राप्त करने डिजिटल गौशाला के लिए पलपल इंडिया के बैंके एकांउट में न्यूनतम 1100/- रुपए की राशि प्रदान कर इसके विषयक सूचना... 9772354346 (ppirajasthannews'gmail.com) को प्रेषित करें...

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. इजरायल के अखबार ने लिखा- जागो, दुनिया के सबसे अहम PM आ रहे हैं.

2. जीएसटी लागू होने के बाद आम आदमी की जेब पर कितना पड़ेगा बोझ ?

3. नीदरलैंड: प्रधानमंत्री मार्क रूट ने PM मोदी को गिफ्ट की साइकिल, ट्विटर पर शेयर की फोटो

4. सरकार का तोहफा: 7वें वेतन के भत्तों को मंजूरी, 47 लाख कर्मचारियों को मिलेगा फायदा

5. 1 जुलाई से आधार कार्ड और पैन को लिंक करना अनिवार्य

6. रेनसमवेयर अटैक की चपेट में मुंबई का जवाहरलाल नेहरू पोर्ट

7. विवादों के बीच रिलीज हुआ लिपस्टिक अंडर माय बुर्का का का ट्रेलर

8. भगवान विष्णू के अवतार श्री राम और लक्ष्मण ने इस तरह किया मृत्युलोक से प्रस्थान

9. GST लॉन्च कार्यक्रम में टीएमसी नहीं होगी शामिल, ममता ने कहा- देश को अभी और 6 माह का वक्त चाहिए

10. ऐशो-आराम की जिंदगी छोड़ आदिवासियों के हक की लड़ाई रहा है ये आईआईटीएन

11. 7000 mAh की बैटरी के साथ iBall ने लांच किया टैबलेट

12. तीन राशि वाले अच्छे प्रमुख प्रशासक बनते!

13. Galaxy Note 7 को ठीक करके फिर से सेल के लिए उपलब्ध कराएगी कंपनीः रिर्पोट

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।