जन्म कुंडली मॆ सप्तम तथा राज्यस्थान से आपके कार्य का चयन किया जाता है जिस प्रकार के ग्रह का सम्बंध इन दो भावों से होगा जातक उस तरह के कार्य से ही सफलता प्राप्त करेगा.ज़्योतिष मॆ सभी ग्रह तत्व तथा कार्यों के आधार पर अलग अलग है सभी ग्रहों की कार्यशैली के आधार पर आप अपने कार्यक्षेत्र का चयन कर सकते है.

*ग्रहों की कार्यशैली तथा रोजगार*

*सूर्य*-सूर्यदेव इस आकाशमंडल के केन्द्र तथा राजा है ये क्रूर ग्रह की श्रेणी मॆ आते है.इनसे प्रभावित व्यक्ति किसी व्यापार,संस्था या सरकार मॆ राजा तथा परिवारों मॆ पिता होते है.अग्नि तत्व पर इसका विशेष प्रभाव रहता है.जिनकी पत्रिका मॆ सप्तम या राज्य स्थान मॆ सूर्य बैठा है या दृष्टि मारता है ऐसे विधार्थियों को प्रबंधन की शिक्षा लेकर किसी संस्था के नेतृत्व सम्बंधी कार्य करना चाहिये.

*सूर्य और रोज़गार*-प्रकाशन,पत्रकारिता,शिक्षा,नेत्रों की रोशनी से जुड़े सभी कार्य सूर्य के कार्य है.

*चंद्र*-चंद्र को आकाशमंडल मॆ रानी,माता का पद दिया गय़ा है शीतलता इसका गुणधर्म है जल तत्व पर इसका प्रभाव है.चन्द्र को शुभ और अशुभ दोनो श्रेणियों मॆ रखा गय़ा है स्वभाव डरपोक होता है.

*चंद्र और रोजगार*-इस ग्रह से कला या भाव के सम्बंध मॆ विचार किया जाता है कला,अभिनय दूध,जल,मत्स्य पालन नदी,तालाब ,समुद्र से जुड़े कार्यों मॆ चंद्र ग्रह की विशेष भूमिका रहती है.

*मंगल*-इस ग्रह को आकाश मॆ सेनापति का पद दिया गय़ा है अग्नि तत्व तथा क्रूर प्रक्रति का पापी ग्रह है रक्षा प्रतिरक्षा अस्त्र शस्त्र के विषय मॆ विचार किया जाता है.

*मंगल से जुड़े कार्य*-सेना,पुलिस ,अस्त्र शस्त्र तथा अग्नि से जुड़े कार्य प्रबंधन के कार्यों मॆ विशेष सफलता के योग रहते है.

*बुध*-बुध को आकाशपरिषद मॆ युवराज का पद दिया गय़ा है.बुद्धि विवेक लाभ हानि के कार्यों मॆ इस ग्रह का विशेष महत्व रहता है.वायु तत्व तथा सौम्य प्रक्रति का शुभ ग्रह है.

*बुध तथा रोजगार*-व्यापार बैंक वाणिज्य,यात्रा,हिसाबकिताब  मार्केटिंग,ट्रेवल्स,ट्रांसपोर्ट से जुड़े सभी कार्य इस ग्रह के अधीन आते है.

*गुरु*-इस ग्रह को आकाश परिषद मॆ देवगुरु का पद दिया गय़ा है जल तत्व प्रधान यह ग्रह शुभ ग्रह की श्रेणी मॆ आता है परिवारों मॆ सभी वरिष्ठ गुरु कहलाते है.किसी भी प्रकार की कृपा इस ग्रह से ही देखी जाती है.भोजन पर इस ग्रह का ही प्रभाव होता है.

*गुरु तथा कार्य*- धन के लेनदेन से जुड़े कार्य खानपान के कार्य धर्म आद्यात्म शिक्षा सलाह नीति निर्माण इस ग्रह से ही देखा जाता है.अनाज(गल्लामंडी)खाद्यपदार्थ पेय पदार्थ आदि के कार्य इस ग्रह से ही देखे जाते है.

*शुक्र*-यदि चंद्रग्रह को आकाश परिषद मॆ माता बोला गय़ा है तो शुक्र को पत्नी या प्रेमिका का पद दिया गय़ा है.जल तत्व प्रधान यह ग्रह शुभ ग्रह माना जाता है समस्त ऐश्वर्य चमक दमक विलासिता ऐयाशी इस ग्रह से ही देखी जाती है.

*शुक्र तथा कार्य*-सराफा(सोने चाँदी का कार्य)वाहन उद्योग,कपडा उद्योग फैशन जगत फिल्म उद्योग व्यक्ति से लेकर वाहन मकान तथा सभी तरह की सजावट के कार्य शुक्र ग्रह से ही देखे जाते है.स्त्री जगत से जुड़े कार्यों मॆ इस ग्रह की खास भूमिका रहती है.

*शनि*-जिनका नाम सुनते ही भय का संचार हो उनका कार्य क्षेत्र भी ऐसा ही रहता हैआकाश परिषद मॆ इन्हे दंडाधिकारी का पद दिया गय़ा है वायु तत्व प्रधान यह ग्रह क्रूर लेकिन महात्मा ग्रह की श्रेणी मॆ आता है.

*शनि तथा कार्य*-चिकित्सा के सभी कार्य,वकालत,कोर्ट कचहरी के कार्य,नगर निगम पालिकाओं से जुड़े सभी कार्य इस ग्रह से ही देखे जाते है.

*यदि आपकी कुंडली मॆ सप्तम या दशम भाव मॆ उपरोक्त ग्रहों का सम्बन्ध है तो उससे जुड़े हुए क्षेत्र मॆ ही रोजगार की तलाश करें.

*प.चंद्रशेखर नेमा"हिमांशु"*

9893280184,7000460931

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. बापू को चतुर बनिया कहने पर अमित शाह के खिलाफ राजनैतिक विवाद शुरु

2. अतीत के यादों में दफन हो जायेगी धनबाद-चंद्रपुरा रेललाईन, ट्रेनों का परिचालन होगा बंद

3. बढ़ती जनसंख्या से परेशान पाकिस्तान, तीन पुरूषों के 96 बच्चे

4. ममता की चेतावनी, कानून का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई करेगी सरकार

5. तमिलनाडु में गर्भवती महिलाओं का रजिस्‍ट्रेशन होगा अनिवार्य

6. कर्नाटक में कांग्रेस सरकार ने बनाया किसान का मजाक, दिया 1 रुपये मुआवजा

7. कुमार विश्वास बोले - जो धान की कीमत दे न सका, वो जान की कीमत क्या जाने

8. दीपिका पादुकोण की जुड़वा तो नहीं है ये साउथ एक्ट्रेस

9. मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज को राज्यभंग का योग, शांति होगी

10. जानिये स्वर्ण मंदिर के अनसुने तथ्य

11. भगवान ऋण मुक्तेश्वर के पूजन से ही मनुष्य ॠणों से मुक्त हो जाता, देखें वीडियो

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।