ज़्योतिष मॆ कर्क लग्न को राज़योग कारी लग्न माना गय़ा है इस लग्न मॆ यदि राज़योग बन रहा है तो जातक निश्चित ही राज़योग का भोग करता है.पंडित नेहरू,इंदिरा गाँधी,सोनिया गाँधी तथा शिवराज सिंह चौहान ने इसी लग्न मॆ जन्म लेकर राज़योग भोग किया.इसका मुख्य कारण कर्क राशि है जो की कालपुरुष की पत्रिका मॆ चतुर्थ स्थान मॆ आती है चतुर्थ स्थान से समाज,पद,सत्ता सुख के अलावा सभी प्रकार के सुख का विचार किया जाता है.

*शिवराज सिंह की पत्रिका*

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज़ का जन्म कर्क लग्न तथा मकर राशि मॆ हुआ लग्न का स्वामी चंद्रमा सप्तम भाव मॆ स्थित होकर लग्न को देखते हुए राज़योग का निर्माण कर रहा है.  कर्क राशि जलीय राशि होती है तथा मकर राशि राज्य की राशि होती है इन दो सम्बन्धों ने शिवराज की पत्री को प्रबल राज़ योगकारी बना दिया.कर्क लग्न वालो का जल नदी समुद्र तथा जनता से गहरा सम्बंध होता है शिवराजसिंह का बुधनी जहा से नर्मदा बहती है से गहरा सम्बंध है.

उन्होने कई बार मां नर्मदा से उनके गहरे लगाव का जिक्र भी किया वर्तमान मॆ मां नर्मदा की यात्रा भी उसी सम्बन्ध की एक बानगी है.उनकी पत्रिका मॆ पराक्रम भाव मॆ राहु तथा छठे स्थान मॆ शनि उन्हे पराक्रमी तथा शत्रुनाशक योग बना रहे है.इस लग्न मॆ गुरु ग्रह भाग्य तथा शत्रु स्थान का स्वामी होकर लग्न मॆ उच्च राशि का होता है गुरु ग्रह वृश्चिक राशि मॆ पंचम भाव मॆ स्थित है पंचम भाव का स्वामी मंगल लाभ भाव मॆ गुरु की दृष्टि मॆ है. गुरु की राशि मीन जो की भाग्य भाव मॆ है उसमे उच्च का शुक्र,बुध तथा केतु स्थित है.

*शानदार दशाक्रम*-

यदि कुंडली मॆ ग्रहयोग शानदार हो तथा कारक दशा आ जाये तो जीवन शानदार गुजरता है अन्यथा राज़योग भी धरा रह जाता है इन्हे बचपन से ही शानदार दशा मिली जो की 2013 तक निरंतर चली.पहले चंद्र जो की लग्नेष है फ़िर मंगल जो पंचमेष तथा राज्येष है उसके बाद राहु की दशा जिसने तीसरे भाव मॆ बैठकर उन्हे राज़योग का रास्ता दिखाया.यह दशा उन्हे 1997 तक चली.इसके बाद उन्हे इस लग्न की सबसे कारक ग्रह गुरु की दशा लगी जिसने उन्हे मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री का पद दिया.गुरु की यह दशा उनको अप्रेल 2013 मॆ ख़त्म हो गई.

वनवास कारक शनि दशा

-कहते है जो ग्रह करे वो बैरी न करेभगवान राम का कर्क लग्न तथा कर्क राशि थी जब पहली बार वे विशवामित्र के कहने पर वनवास गये तब शनि की दशा उन्हे लग चुकी थी विवाह करने के पश्चात जब राजा दशरथ उन्हे राज्यदेने वाले थे तब उन्हे शनि की दशा मॆ सूर्य का अंतर था जिसमे उनका राज्यभंग भी हुआ तथा दशरथजी की मौत भी हुई.शिवराजसिंह वर्तमान मॆ शनि मॆ बुध की अंतरदशा मॆ चल रहे है शनि बुध दोनो इनकी पत्रिका मॆ परम अकारक है.  28 अगस्त से मार्च 2018 का समय इनके लिये कष्टकारी है . हो सकता है इनका वनवास निश्चित हो जाय तथा इन्हे केन्द्र मॆ विदेश मंत्रालय या रक्षा मंत्रालय का प्रभार दे दिया जाय.

*प.चंद्रशेखर नेमा"हिमांशु"

9893280184,7000460931

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. बापू को चतुर बनिया कहने पर अमित शाह के खिलाफ राजनैतिक विवाद शुरु

2. अतीत के यादों में दफन हो जायेगी धनबाद-चंद्रपुरा रेललाईन, ट्रेनों का परिचालन होगा बंद

3. बढ़ती जनसंख्या से परेशान पाकिस्तान, तीन पुरूषों के 96 बच्चे

4. ममता की चेतावनी, कानून का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई करेगी सरकार

5. तमिलनाडु में गर्भवती महिलाओं का रजिस्‍ट्रेशन होगा अनिवार्य

6. कर्नाटक में कांग्रेस सरकार ने बनाया किसान का मजाक, दिया 1 रुपये मुआवजा

7. कुमार विश्वास बोले - जो धान की कीमत दे न सका, वो जान की कीमत क्या जाने

8. दीपिका पादुकोण की जुड़वा तो नहीं है ये साउथ एक्ट्रेस

9. मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज को राज्यभंग का योग, शांति होगी

10. जानिये स्वर्ण मंदिर के अनसुने तथ्य

11. भगवान ऋण मुक्तेश्वर के पूजन से ही मनुष्य ॠणों से मुक्त हो जाता, देखें वीडियो

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।